ये है देशभक्ति…कोटा के नेत्रहीन साइंटिस्ट मुर्तजा अली ने शहीदों के लिए दिए 110 करोड

  जयपुर।  कोटा के रहने वाले और मुंबई में बतौर साइंटिस्ट कार्य कर रहे मुर्तजा अली ने शहीदों के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में 110 करोड़ रुपए की सहायता राशि देने की पेशकश की है। इसके लिए उन्होंने पीएमओ में मेल करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का समय मांगा है। पीएमओ ने उन्हें …

ये है देशभक्ति…कोटा के नेत्रहीन साइंटिस्ट मुर्तजा अली ने शहीदों के लिए दिए 110 करोड Read More »

March 3, 2019 2:20 pm

 

जयपुर। 
कोटा के रहने वाले और मुंबई में बतौर साइंटिस्ट कार्य कर रहे मुर्तजा अली ने शहीदों के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में 110 करोड़ रुपए की सहायता राशि देने की पेशकश की है। इसके लिए उन्होंने पीएमओ में मेल करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का समय मांगा है। पीएमओ ने उन्हें दो-तीन दिन में मीटिंग फिक्स करने का जवाब भेजा है। ये राशि वे अपनी टैक्सेबल आय से देंगे।
सेना और उनके परिवारजनों की किसी तरह से मैं मदद कर सकूं, इसलिए ये राशि राष्ट्रीय राहत कोष में देने का मानस बनाया है। इसके लिए 25 फरवरी को पीएमओ को ई-मेल भेजकर उन्होंने प्रधानमंत्री से मीटिंग के लिए समय मांगा था। इसके जवाब में फंड के डिप्टी सेक्रेटरी अग्नि कुमार दास ने कागजी कार्यवाही के लिए मुर्तजा अली की प्रोफाइल मांगी थी। मुर्तजा ने प्रोफाइल, पैन कार्ड सहित राशि की पूरी डिटेल पीएमओ को भेज दी है। इसके बाद 1 मार्च को वहां से जवाब आया कि दो-तीन दिन में दिन और समय बता दिया जाएगा। मुर्तजा ने बताया कि पीएम से मिलकर उन्हें 110 करोड़ का चेक सौंपेंगे। मुर्तजा ने 110 करोड़ रुपए देने के लिए पूरी कागजी कार्रवाई कर रखी है। पीएमओ के निर्देश के अनुसार चेक या डीडी से भुगतान कर देंगे।
मुर्तजा जन्म से नेत्रहीन हैं और उन्होंने कोटा कॉमर्स कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है। उनका पुश्तैनी बिजनेस ऑटोमोबाइल का था। ब्लाइंड होने के कारण उसमें नुकसान हो रहा था। ऐसे में उन्होंने मोबाइल और डिश टीवी के क्षेत्र में कार्य किया। वर्ष 2010 में वे किसी काम से जयपुर गए। वहां एक पेट्रोल पंप पर जब वे पेट्रोल लेने पहुंचे तो उसी दौरान एक युवक ने मोबाइल रिसीव किया और आग लग गई। इसका कारण जानने के लिए उन्होंने स्टडी शुरू की। इस तरह उन्होंने फ्यूल बर्न रेडियेशन टेक्नोलॉजी का इजाद किया। इस टेक्नोलॉजी के जरिए जीपीएस, कैमरा या अन्य किसी उपकरण के बगैर ही किसी भी वाहन को ट्रेस किया जा सकता है। अब एक कंपनी के साथ करार से उनको अच्छी रकम मिली है।

Prev Post

अजमेर दरगाह में सौंपी गई प्रधानमंत्री मोदी की चादर

Next Post

मीना मीणा विवाद बेवजह खड़ा किया, सरकार आपके साथ: पायलट

Related Post

Latest News

सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज

Trending News

Chairman Ali Ahmed inspected the ongoing road construction work on Civil Line Road
Volunteers in Tonk took out path on Vijaya Dashami
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा

Top News

Chairman Ali Ahmed inspected the ongoing road construction work on Civil Line Road
Volunteers in Tonk took out path on Vijaya Dashami
गहलोत का कार्यकाल समाप्त, कुर्सी खतरे में
सचिन पायलट के विधायक जोड़ो अभियान को धक्का, जिन विधायकों से संपर्क किया वो सीएम के पास पहुंचे 
टोंक शांति एवं सद्भावना समिति की बैठक आयोजित
जयपुर को मिली एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी, अमित शाह करेंगे उद्घाटन सत्र में शिरकत
विजयादशमी पर  जयपुर में 29 स्थानों पर संघ का पथ संचलन, शस्त्र पूजन व शारीरिक प्रदर्शन भी होंगे
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
टोंक जिला स्तरीय राजीव गांधी युवा मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित%%page%% %%sep%% %%sitename%%
Upload state insurance and GPF passbook in new version of SIPF