राजस्थान के इन निजी विश्वविद्यालयों में प्रवेश लेने से पहले करले छानबीन क्योंकि

Jaipur news। अपने बच्चों का बेहतर भविष्य बनाने के लिए तथा युवा वर्ग अपने बेहतर भविष्य के लिए आजकल निजी विश्वविद्यालयों में प्रवेश लेने के ज्यादा इच्छुक रहते हैं ऐसे विद्यार्थी और अभिभावक राजस्थान के 5 निजी विश्वविद्यालयों योजना अलवर बच्चों में हो रहे इन संचालित विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने से पहले एक बार तहकीकात …

राजस्थान के इन निजी विश्वविद्यालयों में प्रवेश लेने से पहले करले छानबीन क्योंकि Read More »

October 23, 2020 6:05 pm

Jaipur news। अपने बच्चों का बेहतर भविष्य बनाने के लिए तथा युवा वर्ग अपने बेहतर भविष्य के लिए आजकल निजी विश्वविद्यालयों में प्रवेश लेने के ज्यादा इच्छुक रहते हैं ऐसे विद्यार्थी और अभिभावक राजस्थान के 5 निजी विश्वविद्यालयों योजना अलवर बच्चों में हो रहे इन संचालित विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने से पहले एक बार तहकीकात कर ले । विभाग का कहना है कि झुंझुनूं के 3 तथा अलवर व चूरु जिले के 1-1 विश्वविद्यालय के खिलाफ गंभीर शिकायतों एवं अनियमितताओं के प्रकरण की जांच विचाराधीन है अथवा न्यायालय में लम्बित है। ऐसे में इन विश्वविद्यालयों के प्रति जांच कर संतुष्टि हासिल करना छात्रों व उनके अभिभावकों की जिम्मेदारी है। इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग की संयुक्त सचिव शुचि शर्मा ने पब्लिक नोटिस जारी किया है।

पब्लिक नोटिस में चूरु के ओपीजेएस विश्वविद्यालय, अलवर के बगड़ राजपूत स्थित सनराइज विश्वविद्यालय तथा झुंझुनूं के चुडेला स्थित जगदीश प्रसाद झाबरमल टीबरेवाल विवि, पथेरी बड़ी के सिंघानिया विवि एवं बिगोदना के श्रीधर विश्वविद्यालय के प्रति छात्रों व अभिभावकों को चेताया गया है। नोटिस में कहा गया है कि वर्ष 2008 से अब तक अलग-अलग अधिनियमों द्वारा स्थापित 51 निजी विश्वविद्यालयों में प्रवेश लेने से पहले विद्यार्थियों व अभिभावकों को कुछ बातें जांचनी होगी। इनमें इन निजी विश्व विद्यालयों को कैम्पस से बाहर स्टडी सेंटर, ऑफ कैम्पस सेंटर, ऑफ शार सेंटर बिना राज्य सरकार एवं यूजीसी की अनुमति के खोलने का अधिकार नहीं है।

निजी विवि अपने अधिनियम की अनुसूची-2 तथा अधिनियम की धारा 04 में वर्णित पाठ्यक्रम संबंधित नियामक निकायों की अनुमति के बाद ही संचालित कर सकते हैं। पाठ्यक्रमों में प्रवेश केवल मेरिट के आधार पर ही दिए जा सकते हैं, जबकि व्यावसायिक और तकनीकी पाठ्यक्रमों में केवल प्रवेश प्रक्रिया के माध्यम से ही दिए जा सकते हैं। जिन व्यावसायिक तकनीकी पाठ्यक्रमों के लिए राज्य अथवा केन्द्र सरकार की एजेन्सियां प्रवेश परीक्षा आयोजित करती है, उनमें प्रवेश परीक्षा द्वारा सीटें आवंटित कराकर ही प्रवेश दिए जा सकते हैं।

Prev Post

मुख्यमंत्री, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष व प्रदेश प्रभारी पर मुकदमा दर्ज करने की मांग,टोंक गुर्जर समाज ने दिया राज्यपाल के नाम ज्ञापन

Next Post

93 साइबर अपराधी पकडे, 218 मोबाइल,310 सिम कार्ड बरामद

Related Post

Latest News

राजस्थान में बड़ा सियासी घटनाक्रम, गहलोत समर्थक 92 विधायकों ने दिया इस्तीफा 
बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

राजस्थान में बड़ा सियासी घटनाक्रम, गहलोत समर्थक 92 विधायकों ने दिया इस्तीफा 
बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
उपराष्ट्रपति कल राजस्थान के बीकानेर दौरे पर
नवरात्रा 26 से, घट स्थापना का मुहूर्त कब-कब और कैसे करें जानें 
PFI को खाड़ी देशों से मदद, Ed ने 120 करोड़ रुपए किए जब्त,PM पर हमले की थी साजिश
अंकिता हत्याकांड - भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री के बेटे के रिसोर्ट पर चला बुलडोजर नेता पार्टी से निलंबित 
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन आज से शुरू, 30 सितम्बर है आखिरी तारीख
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा