टोंक न्यूज़

पूजा अर्चना मे (कुंभ) कलश का विधान योग

       बाबूलाल शास्त्री

किसी भी प्रकार के मांगलीक कार्य देव स्थान मे साधक द्वारा सामग्री के साथ साथ कई वस्तुओ का उपयोग किया जाता है। जैसे जल पुष्प दीपक घंटी शंख आसन कलश आदि जिनका अलग अलग एक विशिष्ट महत्व एंव प्रतीकात्मक अर्थ होता है। जिसमे कलश या कुभं की भारतीय संस्कृति मे एक कल्पना की गई है। कुभं को समस्त बहा्रण्ड का प्रतीक माना गया है। क्योकि बहा्र्रण्ड का आकार भी घट के समान है। इसको यो भी कहा जा सकता है। कि घट मे समस्त सृष्टि का समावेश है। इसमे सभी देवी देवता नदी पर्वत तीर्थ आदि मोजूद है।

 

कलशस्य मुखे विष्णुः कुण्ठे रूद्रः समाश्रित:।
मूले तस्य स्थितो ब्रहा्र मध्ये मातृगणः स्मृताः ।।
कुक्षौ तु सागराः सप्त सप्तद्वीपा: वसुन्धराः।
ऋग्वेदोस्थ यजुर्वेदः सामवेदो हयथर्वणः।।
अंगेस्तु सहिता सर्व कलशे तु समाश्रिताः।।

अतः किसी भी पूजा, पर्व, अवसर, व संस्कार मे सबसे पहले कलश स्थापना करने का विधान है कलश स्थापना तथा पूजन के बिना कोई भी मंगल कार्य प्रारंभ नही किया जाता है।
कलश स्थापना का भी एक विधान है इसे पूजा स्थल पर ईशान कोण मे स्थापित किया जाना चाहिए प्रायः कलश ताम्बे का ही आम माना गया है। यदि यह उपलब्ध न हो तो मिट्टी का भी प्रयोग मे लिया जा सकता है सोने व चादीं का भी कलश प्रयोग मे ले सकते है शास्त्रो मे कलश कितना बडा या छोटा हो इसका भी वर्णन मिलता है इसे मध्य मे पचास अंगुल चैडा और सोलह अंगुल ऊंचा नीचे बारह अंगुल चैडा और ऊपर से आठ अंगुल का मुख रखे तो यह कलश सर्वश्रेष्ठ माना गया है। सामान्यता कलश को जल से भरा जाता है परन्तु विशेष प्रयोजन मे किए जाने वाले अनुष्ठानो मे विशेष वस्तुए रखे जाने का विधान है।

धर्मकामः क्षिपेद भस्म धनकामस्तु मोक्तिकम्।
श्री कामः कमलॅ दद्यात कामार्थी रोचन तथा।
मोक्षकामो न्यसेदवस्त्रंच जायकामो पराजिताम।
उच्चाटनार्थ व्याघ्राॅ च वश्यार्थ शिखिमूलकम्।।
मारणाय मरीचॅ च कैतवॅ मोहनायच।

अर्थात धर्म के लाभ हेतू अनुष्ठान किया जा रहा होतो कलश मे जल के स्थान मे भस्म का प्रयोग होता है धन के लाभ हेतू मोती व कमल का प्रयोग करते है। विषय भोग हेतू गोरोचन, मोक्ष हेतू वस्त्र विजय के लिए अपराजिता का प्रयोग करते हैं किसी का उच्चाटन करना हो तो व्याघ्री (छोटी कटोरी) वशीकरण के लिए मोर पंखी मारण हेतू काली मिर्च तथा आकर्षण करने हेतू धतूरा भरने का विधान है।

कलश को भूमि पर नही रखना चाहिए इसको रखने से पूर्व भूमि की शुद्धि करना आवश्यक हे। फिर घटार्गल यंत्र बनाना चाहिए यह नही बना सकते तो बिन्दू षटकोण अष्टदल आदि बनाया जा सकता है। इसे धान्य गेहू के ऊपर भी रखा जा सकता है। कलश को इनमे से किसी भी पदार्थ से भरकर विभिन्न देवताओ को कलश मे आवाहन किया जाता है इनके पश्चात प्रधान देवता (जिसकी आराधना या अनुष्ठान किया जाना है ) का आवाहन किया जाता है। साथ ही नवग्रहो एंव पितरो की स्थापना की जाती हैं तत्पश्चात ही मांगलीक कार्य का शुभारम्भ किया जाता है।

बाबूलाल शास्त्री (साहू)
मनु ज्योतिष एंव वास्तु शोद्य संस्थान टोंक
बडवाली हवेली के सामने सुभाष बाजार टोंक
मो. 9413129502, 9261384170

liyaquat Ali
Sub Editor @dainikreporters.com, Provide you real and authentic fact news at Dainik Reporter.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *