टोंक

टोंक में सीवरेज व पेयजल प्रोजेक्ट बना जी का जंजाल, विकास के नाम पर करोड़ों रुपये का दुरुपयोग,

Tonk (फ़िरोज़ उस्मानी)। करोड़ों रुपये के सरकारी पैसों का दुरुपयोग व बंदरबाट कैसे होती है इसका नज़ारा आप टोंक शहर में होने वाले सीवरेज(Sewerage) व पेयजल प्रॉजेक्ट (drinking water project )में देख सकते है। आमजन की परेशनियों से ज़िम्मेदार अधिकारियों को भी कोई सरोकार नही है। हैरत की बात है कि नगर परिषद भी वार्डों की इन समस्याओं पर आंखे मूंदे बैठा है। आयुक्त से लेकर नगर परिषद चैयरमेन तक को इससे कोई सरोकार नही है।

वार्डों के हालात बदतर

राज्य सरकार की और से लगभग 380 करोड़ रुपये का टोंक शहर में सीवरेज व पेयजल का कार्य चल रहा है। सेवा प्रदाता कंपनी ईएमएस इंफ्राकॉन इस प्रोजेक्ट की आड़ में सरकार की छवि को धूमिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। शहर के कई वार्डों की स्थिति बद से बदतर नज़र आ रही है।

ज़िला प्रमुख की गली में भी बुरे हालात

इसी तरह ज़िला प्रमुख के वार्ड 25 में भी कार्यों में लापरवाही दिखाई दे रही है। पिछले 10 दिनों से वार्डवासियों के खुदाई में टूटे हुए घरों के नल कनेक्शन तक नही जुड़ पा रहे है। खुदाई के बाद किए गए गहरे गहरे गड्ढे तक भी नही भरे गए है। आमजन की पैदल चलना भी दुश्वार हो चला है। मंदिर – मस्जिद व स्कूल जाने वाले बच्चें भी परेशान है। इस समस्याओं को लेकर जब वार्ड पार्षदों से शिकायत की जाती है तो,संबंधित वार्ड पार्षदों की नेतागिरी नही चल पा रही है।

आपसी मतभेद

इस प्रोजेक्ट में चल रहे कार्यों में आपसी सामजंस्य की कमी भी देखी जा रही है। ठेकेदार कंपनी मालिको की भी अनसुनी कर रहे है। वहीं कंपनी के जेईएन रोजाना आकर ठेकेदार को दिशा निर्देश देकर चले जाते है। लेकिन समस्या जस की तस रह जाती है। वही दूसरी और ज़िम्मेदार अधिकारी भी इस और ध्यान नही दे रहे है। यहां नगर परिषद भी कुम्भकरण की नींद सो रहा है। रोजाना मिल रही शिकायतों के बाद भी इनके कान पर जूं तक नही रेंग रही है।

Firoz Usmani
Firoz Usmani Tonk : परिचय- पत्रकारिता के क्षेत्र में पिछले 15 वर्षो से संवाददाता के रूप में कार्यरत हुंॅ, 9 साल से राजस्थान पत्रिका ग्रुप के सांयकालीन संस्करण (न्यूज़ टुडे) में जिला संवाददाता के रूप से कार्य कर रहा हंू। राजस्थान पत्रिका न्यूज़ चैनल में भी अपनी सेवाएं देता रहा हूं। एवन न्यूज चैनल में भी संवाददाता के रूप में कार्य किया है। अपने पिता स्व. श्री मुश्ताक उस्मानी के सानिध्य में पत्रकारिता की क्षीणता के गुण सीखें। मेरे पिता स्व.श्री मुश्ताक उस्मानी ने भी 40 वर्षो तक पत्रकारिता के क्षैत्र में कार्य किया है। देश के कई बड़े न्यूज़ पेपर से जुड़े रहे। 10 वर्ष दैनिक भास्कर में ब्यूरों चीफ रहें।