भीलवाड़ा कलेक्टर मोदी की बालिकाओं व बेटियों के लिए नवाचार पहल

Innovation initiative for girls and daughters of Bhilwara Collector Modi

भीलवाड़ा / बेटी बचाओ बेटी पढ़ा़ओ योजनान्तर्गत ’राजीव गांधी ऑडिटोरियम व नगर परिषद् टाउन हॉल में प्रोजेक्ट सुस्मा के अन्तर्गत जिला स्तरीय एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला आयोजित की गयी।

इस अवसर पर बोलते हुये जिला कलक्टर आशीष मोदी ने बताया कि यह नवाचार जिले की बालिकाओं व महिलाओं के लिए मील का पत्थर साबित होगा। इससे बालिकाओं व महिलाओं को लाभ मिलेगा व महिला अपराधों में कमी आयेगी व समाज ने हमें बहुत कुछ दिया है ।

जिसके बदले में हमे भी समाज को सद्कार्य के रूप में वापस लौटाना चाहिए। उन्होंने घोषणा की कि माध्यमिक विद्यालयों में सेनेटरी नैपकिन को नष्ट करने के लिए खराब हुये इनसिनेटर को बदला जायेगा।

कार्यक्रम में मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ.शिल्पा सिंह ने भी संबोधित किया उन्होंने महिला सशक्तिकरण पर बल दिया व शिक्षकों तथा महिला पर्यवेक्षक को महत्वपूर्ण सामाजिक सरोकार निभाने का संदेश दिया।

महिला अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक श्री नगेन्द्र कुमार तोलम्बिया ने बताया कि प्रोजेक्ट सुस्मा के अन्तर्गत सुरक्षा में गुड टच बेड टच स्वच्छता में माहवारी प्रबंधन व एनीमिया रोकथाम तथा मारक क्षमता में आत्मरक्षा प्रशिक्षण को शामिल किया गया है।

इस अवसर पर लगभग 1500 सौ प्रतिभागी दोनों प्रशिक्षण स्थलो पर उपस्थित रहे। गुड टच बेड टच पर स्पर्श अभियान टीम के विक्रम सिंह राघव व प्रियंका कपूर ने सत्र लिया। उन्होंने बताया कि संवेदनशील विषयों पर बच्चो से बात करना चुनौतीपूर्ण कार्य है। इसमें शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

शोषण के चलते बालक मानसिक अवसाद का शिकार हो जाते है ऐसे में इन प्रशिक्षणो की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है। उन्होंने बताया कि बच्चों को निडर होकर गलत के खिलाफ आवाज उठाना चाहिए तथा सोशल मीडिया पर भी जिम्मेदारी पूर्वक व्यवहार करना चाहिये।

माता पिता मार्ग दर्शको शिक्षकों के साथ खुलकर चर्चा करनी चाहियें। 50 प्रतिशत बच्चे अपने जीवन काल में यौनशोषण के शिकार होते है। माहवारी स्वच्छता प्रबन्धन व ऐनीमिया रोकथाम पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.मुस्ताक खान ने सत्र लिया।

इसमें उन्होने माहवारी के दिनो में रखने वाली सावधानियो व अस्वच्छता से होने वाली बीमारियों पर प्रकाश डाला तथा बचाव के उपाय बताये साथ ही राज्य सरकार की और से बालिकाओं व महिलाओं को निःशूल्क सेनेट्री नेपकिन वितरण की उड़ान योजना पर जानकारी दी। इस अवसर पर आत्मरक्षा प्रशिक्षण का प्रदर्शन रजनी भंसाली व उनकी टीम के द्वारा किया गया।

 जिला शिक्षा अधिकारी महावीर कुमार शर्मा ने संबोधित करते हुये प्रोजेक्ट सुस्मा को ब्लॉक स्तर व ग्राम पंचायत स्तर पर ले जाने का रोड़मेप बताया। इस कार्यक्रम में केयर इण्डिया की खुशी टीम ने तकनीकी सहयोग प्रदान किया।

कार्यक्रम में सभी विकास अधिकारी, बाल विकास परियोजना अधिकारी, महिला पर्यवेक्षक, मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी एवं महिला अध्यापिकाऐं उपस्थित रही।