गर्म व ठंडे पानी के कुंडों के लिए प्रसिद्ध है धार्मिक स्थल तालवृक्ष

Alwar News । सरिस्का बाघ परियोजना क्षेत्र स्थित तालवृक्ष अपनी सुंदरता व हरियाली के लिए जिले में अपना विशेष स्थान रखता है। यह अलवर शहर से करीब 35 किलोमीटर दूर स्थित है। यहां गंगा माता का मंदिर है। मंदिर के नीचे गर्म व ठंडे पानी के कुंड बने हुए है। जहां प्राकृतिक रूप से पानी …

गर्म व ठंडे पानी के कुंडों के लिए प्रसिद्ध है धार्मिक स्थल तालवृक्ष Read More »

February 3, 2021 5:08 pm

Alwar News । सरिस्का बाघ परियोजना क्षेत्र स्थित तालवृक्ष अपनी सुंदरता व हरियाली के लिए जिले में अपना विशेष स्थान रखता है। यह अलवर शहर से करीब 35 किलोमीटर दूर स्थित है। यहां गंगा माता का मंदिर है। मंदिर के नीचे गर्म व ठंडे पानी के कुंड बने हुए है। जहां प्राकृतिक रूप से पानी आता है। इस स्थल को गंगा के समान माना गया है।

ग्रामीणों में ऐसी मान्यता है कि यहां नहाने से सभी पाप धुल जाते है। जिस कारण अलवर जिले सहित आसपास के जिलों से भी लोग यहां नहाने आते है। प्रकृति की अलग छवि देखने यहां देशी-विदेशी पर्यटक भी बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। यहां के गर्म कुंडे में नहाने से चर्म रोग दूर हो जाते है।

प्राकृतिक सुंदरता बढ़ाती है यहां बनी मुगलकालीन छतरियां

तालवृक्ष में मुगलकालीन कई छतरियां बनी हुई हैं। छतरियां ताल वृक्ष की सुंदर प्राकृतिक नजारे में चार चांद लगा देती हैं। छतरियों के अंदर की तरफ मुगलकालीन समय की पेंटिंग बनी हुई है। हालांकी इन दिनों देखरेख के अभाव में यह छतरियां जर्जर हो रही है।

साल में दो बार भरता है यहां मेला

यहां साल में दो बार कार्तिक पूर्णिमा और वैशाख पूर्णिमा को मेला लगता है। यहां गंगा माता का प्राचीन मंदिर है। साथ ही संतोषी माता का मंदिर भी बना हुआ है। बताया जाता है कि यहां मांडव ऋषि ने तपस्या की थी। तपस्या के फल स्वरुप गंगा माता यहां विराजमान हुई थी। गंगा माता के मंदिर के सामने रोड़ के दूसरी साइड भूतेश्वर महादेव का मंदिर है। जहां बताते है कि प्राचीन समय में पृथ्वी के गर्भ से शिवलिंग निकला था। यह शिवलिंग करीब 6 फ़ीट का है। यह मंदिर भी मुगलकालीन है।

तालवृक्ष के जंगल में देखे जा सकते हैं विभिन्न प्रकार के जीव जंतु

अलवर जिले का धार्मिक स्थल तालवृक्ष सरिस्का परियोजना अंतर्गत आता है। जिस कारण यहां घना जंगल है। साथ ही खजूर के पेड़ अत्यधिक मात्रा में खड़े हुए हैं। घना जंगल होने के कारण यहां बन्दर, चीतल, कबूतर, रोज, नीलगाय, कबूतर, पैंथर, टाइगर सहित कई प्रकार के वन्यजीव भी वितरण करते हैं।

Prev Post

भीलवाड़ा के गांव की निशानेबाज बेटी आकांक्षा बनी ब्रांड अम्बेसडर

Next Post

Flipkart Office के कर्मचारी ने ही करवाई हथियार के दम पर लूट, 3 गिरफ्तार

Related Post

Latest News

बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
उपराष्ट्रपति कल राजस्थान के बीकानेर दौरे पर
नवरात्रा 26 से, घट स्थापना का मुहूर्त कब-कब और कैसे करें जानें 
PFI को खाड़ी देशों से मदद, Ed ने 120 करोड़ रुपए किए जब्त,PM पर हमले की थी साजिश
अंकिता हत्याकांड - भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री के बेटे के रिसोर्ट पर चला बुलडोजर नेता पार्टी से निलंबित 
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन आज से शुरू, 30 सितम्बर है आखिरी तारीख
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा
मुख्यमंत्री कौन होगा काउंट डाउन शुरू : सचिन पायलट सहित ये प्रमुख नाम