राजस्थान के सभी जिलों में होने वाले ड्राई रन की सभी तैयारियां पूर्ण – डॉ. रघु शर्मा

Jaipur News । चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने कहा कि शुक्रवार 8 जनवरी को प्रदेश के 33 जिलों में 102 सेंटर्स पर ड्राई रन की सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। इससे संबंधित प्रशिक्षण, वितरण, भंडारण संबंधी सभी कार्य पूरे कर लिए गए हैं।

डॉ. शर्मा गुरुवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन सिंह की अध्यक्षता में आयोजित वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तैयारियों के बारे में जानकारी दे रहे थे। सीफू में आयोजित इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा 2 जनवरी को कराए जाने वाले ड्राई रन के लिए 3 जिलों का चयन करने के निर्देश थे, जबकि राज्य सरकार ने 7 जिलों के 18 केंद्रों पर ड्राई रन किया। वैक्सीन के बारे में केंद्र से आने वाले सभी दिशा-निर्देशों की पालना की जाएगी।

 

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार की सजगता और सतर्कता के चलते प्रदेश में कोरोना के केसेज में लगातार गिरावट आ रही है। प्रदेश में रिकवरी की रेट 96.6 पहुंच चुकी है और मृत्युदर भी अन्य राज्यों के मुकाबले काफी कम है। उन्होंने बताया कि चार चरणों में वैक्सीनेशन का काम होगा। पहले चरण की तैयारियां चल रही हैं। 3 हजार केंद्रों का फिजिकल सत्यापन किया जा चुका है। गाइडलाइन के अनुसार सभी तरह के वेटिंग रूम, वैक्सीनेशन रूम और मॉनिटरिंग रूम जैसी सभी व्यवस्थाएं कर ली गई हैं।

डॉ. शर्मा ने बताया कि मुख्य सचिव के स्तर पर कमेेटियों का गठन हो चुका है। सभी प्रकार के प्रशिक्षण दिए जा चुके हैं। राज्य में कोविड वैक्सीन स्टोर के 3 राज्य स्तरीय, 7 संभाग स्तरीय, 34 जिला स्तरीय वैक्सीन स्टोर है एवं सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर 2444 कोल्ड पैन पॉइन्टस कार्यशील हैं। अब तक 4 लाख 24 हजार 192 लाभार्थियों का डेटा कोविन साफ्टवेयर में अपलोड कर दिया गया है और वैक्सीनेशन के लिए 53659 स्थल व 18634 वैक्सीनेटर्स चिन्हित कर लिए गए हैं।

इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने देश के सभी मुख्यमंत्रियों और चिकित्सा सचिवों और विभाग से संबंधित उच्चाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि देश में प्रत्येक राज्य ने कोरोना से लड़ाई में बेहतरीन काम किया है। उन्होंने बताया कि देश भर में कोरोना संक्रमण में गिरावट आ रही है और रिकवरी भी तेजी से हो रही है। उन्होंने कहा कि सबसे पहले 1 करोड़ हैल्थ सेक्टर से जुड़े लोगों को, दूसरे चरण में लगभग 2 करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स, तृतीय चरण में 50 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों को और चतुर्थ चरण में किसी भी उम्र के ऐसे व्यक्ति जो गम्भीर बीमारियों से ग्रसित हैं, को टीका लगाया जाएगा। उन्होंने 17 जनवरी को वल्र्ड इम्यूनाइजेशन डे पर पोलियो की खुराक पिलाने की तैयारी करने के भी निर्देश दिए।

इस अवसर पर चिकित्सा सचिव सिद्धार्थ महाजन, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक नरेश कुमार ठकराल, आयुक्त चिकित्सा शिक्षा शिवांगी स्वर्णकार, आरएमएससीएल के निदेशक आलोक रंजन, जन स्वास्थ्य निदेशक केके शर्मा, आरसीएच निदेशक लक्ष्मण सिंह ओला, सीफू के निदेशक ओपी डोरिया सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।