आखिरकार 35 दिन की कड़वाहट के बाद मुख्यमंत्री गहलोत व पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट एक मंच पर आकर विक्ट्री का निशान दिखाया

Jaipur news / अशफाक कायमखानी। लोक कहावत है कि गोली का घाव भर जाता है लेकिन बोली का घाव भरना मुश्किल माना जाता है। लेकिन इस कहावत के विपरीत राजस्थान कांग्रेस मे गहलोत व पायलट समर्थकों के मध्य करीब बत्तीस दिन चली राजनीतिक उठा पटक व कड़वाहट के मध्य मुख्यमंत्री गहलोत द्वारा सचिन पायलट को निकम्मा व नकारा कहने के बावजूद जयपुर मे आज मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग मे उक्त दोनो नेता चाहे ऊपरी तौर पर सही लेकिन एक दुसरे की आवभगत मे इस तरह कसीदे गढ रहे तो मानो दोनो नेताओं के मध्य कभी किसी भी तरह का खरास पैदा हुआ ही नहीं था।

आखिरकार 35 दिन की कड़वाहट के बाद मुख्यमंत्री गहलोत व पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट एक मंच पर आकर विक्ट्री का निशान दिखाया 1

जबकि दोनो नेताओं के अतिरिक्त दोने के प्यादे जिन्होंने एक दुसरे के खिलाफ ओडियो-विडीयों जारी करके व प्रैस एवं सभा को सम्बोधित करते समय जो शब्दो का इस्तेमाल किये थे उन प्यादो की पतली हालत देखने लायक थी।

आखिरकार 35 दिन की कड़वाहट के बाद मुख्यमंत्री गहलोत व पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट एक मंच पर आकर विक्ट्री का निशान दिखाया 2


विधायक दल की बैठक मे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बत्तीस दिन मे आये खरास के बावजूद बढप्पन दिखाते हुये गर्मजोशी से पायलट का इस्तकबाल करते हुये सब भूलकर आगे बढने को कहा, वही पायलट ने भी मुख्यमंत्री गहलोत का अदब के साथ जवाब दिया ओर गांधी परिवार का शूक्रीया अदा किया। पायलट खेमे के विधायको के गांधी परिवार की कोशिशों के बाद वापस लोट आने से कल 14-अगस्त को विधानसभा मे कांग्रेस द्वारा लाये जाने वाले विश्वास प्रस्ताव के पक्ष मे 123 मत पड़ने की सम्भावना है।

आखिरकार 35 दिन की कड़वाहट के बाद मुख्यमंत्री गहलोत व पूर्व उपमुख्यमंत्री पायलट एक मंच पर आकर विक्ट्री का निशान दिखाया 3

जबकि स्पीकर जौशी व मंत्री भंवरलाल मेघवाल के मत विभाजन मे भाग नही लेने की सम्भावना जताई जा रही है। कांग्रेस के विश्वास प्रस्ताव के पक्ष मे कांग्रेस के 107 मे से जौशी व मेघवाल को छोड़कर बाकी 105 मतो के अतिरिक्त दो माकपा, दो बीटीपी, एक लोकदल व तेराह निर्दलीय विधायको के मतो को मिलाकर कुल 123 मत पक्ष मे पड़ते लगते है। जबकि विश्वास मत के खिलाफ मे बहतर भाजपा व तीन रालोपा के मिलाकर 75 मत पड़ सकते है।

अगर किसी वजह से माकपा के दो मत अंतिम समय मे तटस्थ रहने का फैसला करते है तो प्रस्ताव के पक्ष मे 121 मत आ सकते है।


कुल मिलाकर यह है कि पायलट धड़े के वापिस आने के बाद से ही उम्मीद जताई जा रही थी कि पायलट के राजस्थान की सियासत मे दोनो पद गवाने के बाद राजनीतिक तौर पर अगर कमजोर हुये है तो उनको विधायक दल की बैठक मे आम विधायक की तरह मंच के सामने साधारण विधायक की तरह बैठना पड़ेगा। लेकिन पद गवाने के बावजूद पायलट बैठक मे गांधी परिवार के मार्फत आने के चलते मुख्यमंत्री की बगल वाली सीट पर प्रमुख नेता के तोर पर स्थान पाने से उनकी राजनीतिक हेसियत को अभी भी मजबूत हांका जा रहा है।