जयपुर मैं एसीबी ने दो जगह कार्रवाई एक बैंक मैनेजर, कांस्टेबल रिश्वत लेते पकड़ा

May 3, 2018 2:55 pm

जयपुर। एसीबी ने गुरुवार को एक घूसखोर बैंक मैनेजर को 16 हजार रुपए की रिश्वत के आरोप में गिरफ्तार किया  है।

एसीबी के मुताबिक गिरफ्तार आरोपी संजय कावड़िया (55) निवासी तिलक नगर, हिरण नगरी,जिला उदयपुर का रहने वाला है। बैंक मैनेजर संजय कावडिया मरुधरा ग्रामीण बैंक सिरोही जिले की मंडार तहसील  में कार्यरत है। जिसे सोलह हजार की रिश्वत लेते हुए पकड़ा है। उसने यह राशि लोन राशि कम कराने के एवज में मांगी थी। एसीबी सिरोही की ट्रेप कार्रवाई के चलते बैंक में हडकम्प मच गया।

एएसपी जितेन्द्र सिंह ने बताया कि परिवादी अशोक कुमार की शिकायत पर ट्रेप कार्रवाई की गई है। उसने शिकायत दी थि उसके पिता ने बैंक से लोन रखा था। लेकिन समय पर ऋण राशि जमा नहीं करवा पाए। ऐसे में लोन पर ब्याज और पेनल्टी लगती रही। फिर ब्याज और ऋण कम करवाने की एवज में मरुधरा ग्रामीण बैंक के मैनेजर संजय कावडिया ने सोलह हजार मांगे। इस बारे में एसीबी सिरोही को शिकायत दी। एसीबी के सत्यापन के दौरान बैंक मैनेजर संजय ने 16 हजार रुपयों की मांग की। इस पर एसीबी ने ट्रेप रचा और फिर परिवादी अशोक कुमार को गुरुवार को रिश्वत की रकम लेकर मैनेजर संजय के पास भेजा। एसीबी अब मैनेजर संजय घर पर भी तलाशी लेगी।

मीणा पालडी चौकी का कांस्टेबल 11 हजार रुपए की रिश्वत लेते  पकड़ा

बाइक चोरी के एक मामले में आरोपी के दोस्त को मुल्जिम बनाने की धमकी देकर चालीस हजार की घूस मांग रहे खोहनागोरियान थाने के हैडकांस्टेबल रमन सिंह को एसीब ने 11 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। घूसखोरी में शामिल पालड़ी मीणा चौकी के इंचार्ज टाटा प्रकाश की भूमिका भी सदिग्ध मान रही है।  एसीबी की कार्रवाई के बाद चौकी के इंचार्ज टाटा प्रकाश फरार हो गया ।

एसीबी मुख्यालय के एएसपी पृथ्वी सिंह मीणा ने बताया कि परिवादी भुवनेश ने ब्यूरों में शिकायत की थी कि उसका भाई बाइक चोरी के एक मामले में खोहनागोरियान थाने द्वारा गिरफ्तार किया गया था। इसी प्रकरण में पालड़ी मीणा के चौकी इंर्चाज टाटा प्रकाश व हैडकांस्टेबल रमन सिंह उसके भाई राजेश के दोस्त दिनेश को मुल्जिम बनाने की धमकी देकर चालीस हजार रुपए की मांग कर रहे थे। एसीबी ने शिकायत का सत्यापन किया तो टाटा प्रकाश ने लेनदेन की बात रमन सिंह से करने की कहीं, इस पर परिवादी ने रमन सिंह संर्पक किया तो सौदा 35 हजार में तय हुआ। रमन सिंह ने परिवादी से उसी समय 24 हजार रुपए ले लिए। बाकी के11 हजार रुपए गुरूवार को देना तय हुआ। इस बीच एसीबी ने ट्रेप का आयोजन कर गुरूवार दोपहर को पालड़ी मीणा में ही परिवादी द्वारा 11हजार रुपए लेते हैडकांस्टेबल रमन सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया।

एसीबी ने बताया कि सत्यापन के दौरान हैडकांस्टेबल व चौकी इंचार्ज टाटा प्रकाश की भूमिका भी सामने आई है। एसीबी की कार्रवाई का पता चलने के बाद वह फरार हो गया।

Prev Post

चाकसू में केबल चोर गिरोह सक्रिय अलग-अलग स्थानों से 5 सौ मीटर केबल चोरी, उपभोक्ता परेशान

Next Post

घर से हजारों रुपए की नकदी सहित जेवरात हाथ साफ

Related Post