Chief Minister Gehlot's statement, 'Delhi Police's terror rehearsal of dictatorial rule'
जयपुर राजस्थान

राजनीतिक नियुक्तियों की तीसरी सूची का इंतजार ! जुलाई माह में आ सकती है नियुक्तियों की तीसरी सूची, सूची को लेकर जारी है कांग्रेस नेताओं की बेकरारी

जयपुर। राज्यसभा चुनाव सम्पन्न होते ही प्रदेश में राजनीतिक नियुक्तियों की सुगबुगाहट एक बार फिर से शुरु हो गई है। जल्दी ही राजनीतिक नियुक्तियों की तीसरी सूची आने की संभावना जताई जा रही है। पूर्व में जारी हो चुकी दो सूचियों में एडजस्ट नहीं हो पाए नेताओं को अब तीसरी सूची से उम्मीद है।

प्रदेश में राज्यसभा चुनाव की सरगर्मी खत्म होते ही अब राजनीतिक नियुक्तियों की तीसरी सूची को लेकर सुगबुगाहट शुरु हो गई है। माना जा रहा है कि जुलाई महीने में राजनीतिक नियुक्तियों की तीसरी सूची जारी की जा सकती है। अभी तक राज्यसभा चुनाव के चलते यह सूची अटकी हुई थी। प्रदेश के आधा दर्जन से ज्यादा बोर्ड-निगम और अकादमियों के साथ ही करीब 15 यूआईटी में राजनीतिक नियुक्तियां होनी हैं। पूर्व में जारी हो चुकी दो सूचियों में जिन नेताओं को नियुक्ति नहीं मिल पाई उन्हें अब इस तीसरी सूची का बेसब्री से इंतजार है।

हालांकि कांग्रेस के आन्दोलन के चलते यह इंतजार और ज्यादा लम्बा होता जा रहा है। पहले माना जा रहा था कि राज्यसभा चुनाव सम्पन्न होने के कुछ दिनों बाद ही राजनीतिक नियुक्तियों की तीसरी सूची आ जाएगी लेकिन अब जुलाई माह में यह सूची आने की चर्चाएं हैं। इससे पहले राजनीतिक नियुक्तियों की दो जम्बो सूचियां जारी हो चुकी हैं जिनमें कुल 132 नेताओं को नियुक्तियां दी गई थी। पहली सूची में 58 और दूसरी सूची में 74 नेताओं को राजनीतिक नियुक्ति का तोहफा दिया गया। अब तीसरी सूची में 40 से 50 नाम शामिल हो सकते हैं। कहा जा रहा है कि प्रदेश स्तर पर शेष रही राजनीतिक नियुक्तियों की सूची सीएम गहलोत, पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा और प्रदेश प्रभारी अजय माकन द्वारा आपसी चर्चा के बाद पहले ही आलाकमान को भेजी जा चुकी है और अब इस पर केवल आलाकमान की मुहर लगना बाकी है।

लेकिन पार्टी आलाकमान अभी चूंकि दूसरे बड़े मसलों में उलझा है लिहाजा सूची को मंजूरी मिलने में देरी हो रही है। विवाद की स्थिति से बचने के लिए राज्यसभा चुनाव से पहले इस सूची को जारी नहीं किया गया। प्रदेश में जिन राज्यस्तरीय बोर्ड-निगमों में नियुक्तियां अभी शेष हैं उनमें मदरसा बोर्ड, अल्पसंख्यक वित्त निगम, देवस्थान बोर्ड और हाउसिंग बोर्ड शामिल हैं। वहीं अकादमियों की बात करें तो साहित्य अकादमी, ब्रजभाषा अकादमी, संगीत नाटक अकादमी, उर्दू अकादमी, ललित कला अकादमी, सिंधी अकादमी और संस्कृत अकादमी आदि में नियुक्तियां होनी है।

प्रदेश की जिन यूआईटी में नियुक्तियां होनी हैं उनमें अलवर, माउंट आबू, बाड़मेर, भीलवाड़ा, भरतपुर, चित्तौड़गढ, भिवाड़ी, बीकानेर, कोटा, जैसलमेर, पाली, उदयपुर, सीकर, श्रीगंगानगर और सवाईमाधोपुर शामिल है। इसके साथ ही जयपुर, जोधपुर और अजमेर विकास प्राधिकरण और मेला प्राधिकरणों में भी नियुक्तियां होनी हैं। बहरहाल नियुक्तियों का इंतजार कर रहे नेताओं की धड़कनें बढी हुई हैं और वे बेसब्री से इस तीसरी सूची का इंतजार कर रहे हैं।

Sameer Ur Rehman
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/