पार्षद और अध्यक्ष के चुनाव में लम्बे अंतराल पर कटारिया ने उठाए सवाल

Udaipur News। पार्षदों की मतगणना और परिणाम जारी होने के बाद स्थानीय निकायों के अध्यक्षों के चुनाव के बीच 8 दिन के अंतराल को लेकर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और उदयपुर शहर विधायक पूर्व गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने सख्त सवाल उठाए हैं। उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर सीधे-सीधे बाड़ेबंदी को बढ़ावा देने का …

पार्षद और अध्यक्ष के चुनाव में लम्बे अंतराल पर कटारिया ने उठाए सवाल Read More »

January 19, 2021 5:04 pm

Udaipur News। पार्षदों की मतगणना और परिणाम जारी होने के बाद स्थानीय निकायों के अध्यक्षों के चुनाव के बीच 8 दिन के अंतराल को लेकर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और उदयपुर शहर विधायक पूर्व गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने सख्त सवाल उठाए हैं। उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर सीधे-सीधे बाड़ेबंदी को बढ़ावा देने का आरोप मढ़ा है। कटारिया ने दावा किया कि स्थानीय निकायों में कांग्रेस की बुरी हार होने वाली है।

मंगलवार को यहां उदयपुर में पटेल सर्कल भाजपा कार्यालय पर प्रेसवार्ता में कटारिया ने कहा कि पार्षदों के चुनाव के बाद 8 दिन का अंतराल बाड़ेबंदी को बढ़ावा देगा ही। अब बाड़ेबंदी कांग्रेस भी करेगी तो भाजपा को भी करनी पड़ेगी। कुल मिलाकर यह जो बाड़ेबंदी का खर्चा होगा, उसके लिए जिम्मेदार कौन है। कटारिया ने राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाली सरकार बताते हुए कहा कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो कार्रवाई तो करता है, लेकिन जब ऐन मौके पर चालान पेश करने की बात आती है, तब सब गोलमाल हो जाता है। इससे क्या साबित हो रहा है।

कटारिया ने बिजली की बढ़ी दरों, बेरोजगारी भत्ते सहित कांग्रेस की और भी घोषणाओं पर नाकाम बताते हुए कहा कि कांग्रेस ले-देकर बार-बार भाजपा पर आरोप लगा रही है कि भाजपा सरकार गिराना चाहती है। कटारिया ने सवाल किया कि क्या कांग्रेस के विधायक अलग-अलग होटलों में कटारिया से पूछ कर गए थे। कांग्रेस केवल अपनी झेंप मिटाने के लिए बार-बार ये बाते कह रही हैं। इसका जवाब जनता देगी।

ताराचंद मेरे 30 साल से टेस्टेड कार्यकर्ता

डूंगरपुर में निकाय चुनावों में टिकट वितरण के सवाल पर उन्होंने कहा कि डूंगरपुर प्रभारी ताराचंद जैन उनके 30 साल से टेस्टेड भाजपा कार्यकर्ता हैं। कटारिया ने दावा किया कि कटारिया पर आरोप लगाया जा सकता है, लेकिन ताराचंद पर नहीं।

ईसाई हुए तो क्या हुआ, इंसान तो है

हाल ही दिवंगत हुए पूर्व सांसद महावीर भगोरा के ईसाई होने के सवाल पर कटारिया ने कहा कि ईसाई हुए तो क्या हुआ, इन्सान तो हैं। उन्होंने कभी यह छिपाने की कोशिश नहीं की। पूर्व में भी जब उनके परिवार में शोक हुआ तब भी ईसाई रीति-रिवाज से ही संस्कार हुए थे। वे जनप्रतिनिधि थे, उन्हें जनता ने चुना और उन्होंने जनता के लिए बेहतर कार्य किया। गौरतलब है कि पूर्व सांसद भगोरा के ईसाई होने की जानकारी भाजपा के ही अधिकतर वरिष्ठ-कनिष्ठ कार्यकर्ताओं को नहीं थी और उनके अंतिम संस्कार के बाद यह विषय चर्चा में बना हुआ है।

Prev Post

किसान ट्रैक्टरों परेड निकालने की तैयारी में, सरकार ने बॉर्डर पर बढ़ाए जवान

Next Post

शंकाएं हुई दूर तो उछल पड़ा वैक्सीनेशन अभियान, 93.6 प्रतिशत के साथ राज्य में दूसरे स्थान पर आया बीकानेर

Related Post

Latest News

बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
उपराष्ट्रपति कल राजस्थान के बीकानेर दौरे पर
नवरात्रा 26 से, घट स्थापना का मुहूर्त कब-कब और कैसे करें जानें 
PFI को खाड़ी देशों से मदद, Ed ने 120 करोड़ रुपए किए जब्त,PM पर हमले की थी साजिश
अंकिता हत्याकांड - भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री के बेटे के रिसोर्ट पर चला बुलडोजर नेता पार्टी से निलंबित 
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन आज से शुरू, 30 सितम्बर है आखिरी तारीख
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा
मुख्यमंत्री कौन होगा काउंट डाउन शुरू : सचिन पायलट सहित ये प्रमुख नाम