निजी स्कूल फीस: सुप्रीम कोर्ट के अंतरिम आदेश से लाखों अभिभावकों में निराशा

Udaipur News। राजस्थान में प्राइवेट स्कूलों की फीस को लेकर राजस्थान के अभिभावकों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। अभिभावक संघ ने सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष मजबूती से रखने और फीस एक्ट लागू कराने को लेकर संघर्ष जारी रखने का निर्णय किया है। अभिभावक संघ ने इस फैसले पर निराशा व्यक्त की …

निजी स्कूल फीस: सुप्रीम कोर्ट के अंतरिम आदेश से लाखों अभिभावकों में निराशा Read More »

February 9, 2021 10:58 am

Udaipur News। राजस्थान में प्राइवेट स्कूलों की फीस को लेकर राजस्थान के अभिभावकों को सुप्रीम कोर्ट से बड़ा झटका लगा है। अभिभावक संघ ने सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष मजबूती से रखने और फीस एक्ट लागू कराने को लेकर संघर्ष जारी रखने का निर्णय किया है।

अभिभावक संघ ने इस फैसले पर निराशा व्यक्त की है। अभिभावक संघ के संयोजक हरीश सुहालका का कहना है कि कोरोना काल में अभिभावक ट्यूशन फीस ही नहीं चुका पा रहे हैं और हाईकोर्ट के फैसले से अभिभावकों को राहत महसूस हुई थी, लेकिन अब अभिभावकों को अपना पक्ष सुप्रीम कोर्ट में और मजबूती से रखना होगा। हाईकोर्ट ने स्पष्ट रूप से निजी स्कूलों को अपना हिसाब-किताब उनकी वेबसाइटों पर शो करने के भी आदेश दिए थे जो कि फीस एक्ट के तहत दिए गए थे, हाईकोर्ट के फैसले पर रोक से स्कूल अपनी फीस का विभक्तीकरण बताने के लिए बाध्य नहीं रह पाएंगे, इससे स्कूलों की पारदर्शिता पर सवाल बना रहेगा। अभिभावकों में सुप्रीम कोर्ट में अपना पक्ष मजबूती से रखने और अंतिम निर्णय तक फीस नहीं जमा कराने की चर्चा जोरों पर है।

सुहालका का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा है कि जो अभिभावक फीस जमा नहीं करा पाएंगे उनके बच्चों को शिक्षा-परीक्षा और परिणाम से वंचित नहीं किया जाएगा। अभिभावक संघ फीस एक्ट को लागू करवाने के लिए प्रयासरत है। सभी समाधान व पारदर्शिता फीस एक्ट में निहित हैं। यदि फीस एक्ट लागू होता है तो निजी स्कूलों द्वारा अनर्गल लिए जाने वाले शुल्क सामने आएंगे और उनसे अभिभावक राहत पा सकेंगे। निजी स्कूलों का नुकसान हो, ऐसा कोई अभिभावक नहीं चाहता, लेकिन फीस की लूट रुके यह सभी चाहते हैं। फीस का एक्ट के अनुसार सटीक निर्धारण होना चाहिए। जरूरत होने पर धरना भी दिया जाएगा।

गौरतलब है कि कोरोना काल के दौरान अभिभावकों ने फीस में रियायत की मांग की थी, इस पर राजस्थान सरकार ने रियायत दी थी, इसके बाद हाईकोर्ट ने भी पाठ्यक्रम के अनुसार ट्यूशन फीस का 60 व 70 प्रतिशत देने का फैसला दिया। इसके बाद निजी स्कूल सुप्रीम कोर्ट पहुंचे और सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने पिछले सत्र के मुताबिक फुल फीस छह किस्तों मंे लेने का अंतरिम आदेश जारी किया। साथ ही, इस आदेश में यह भी कहा गया है कि जो फीस जमा नहीं करा सके उसे पढ़ाई व परीक्षा से वंचित नहीं किया जाए। 5 मार्च 2021 से छात्रों से सत्र 2019-20 में तय फीस के हिसाब से ले पाएंगे।

गौरतलब है कि राजस्थान हाईकोर्ट में चीफ जस्टिस इंद्रजीत महांती की खंडपीठ ने निजी स्कूल फीस विवाद मामले में अभिभावकों को राहत दी थी। कोर्ट ने फैसला सुनाया था कि स्कूल सिर्फ ट्यूशन फीस का 60 (आरबीएसई) व 70 (सीबीएसई) प्रतिशत ही फीस के तौर पर ले सकेंगे। साथ ही, फीस विभक्तीकरण को वेबसाइटों पर शो करने के आदेश भी दिए थे। हाईकोर्ट के इस आदेश पर प्राइवेट स्कूलों की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुये अब सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है। हालांकि, अभी अंतिम फैसला आना शेष है।

निजी स्कूलों ने कहा, राहत भरा फैसला

-निजी स्कूलों का कहना है कि फैसले से उन्हें राहत मिली है और आॅनलाइन कक्षाओं को मान्यता भी मिली है। लेकिन, फीस नहीं देने वालों को पढ़ाई-परीक्षा-परिणाम से वंचित नहीं कर सकने वाली बात पर वे अभी कुछ नहीं कह पा रहे हैं।

Prev Post

दिल्ली से पटना पहुंचे शाहनवाज, मंत्रिमंडल में जगह मिलना तय

Next Post

मंगलवार का राशिफल ,आपका दिन आपके लिए कैसा रहेगा। आज आपके जीवन में क्या-क्या परिवर्तन हो सकता है

Related Post

Latest News

राजस्थान का अगला पायलट होंगे डाॅ जोशी ? सचिन नहीं, आलाकमान झुकेगा या 70 साल पहले का इतिहास दोहराया जा सकता, पढ़े खबर
टोंक के पचेवर ग्राम विकास अधिकरी 15 हज़ार रुपए लेते ट्रेप,पीएम आवास योजना की दूसरी किश्त जारी करने की एवज में मांग रहा था 20 हज़ार की घुस,
राजस्थान कांग्रेस में घमासान-अब गहलोत पर सकंट, ऑब्जर्वर लौटे, गहलोत व सचिन तलब,आलाकमान गहलोत से नाराज

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

गहलोत सरकार के मंत्री शांति धारीवाल का बड़ा आरोप, गहलोत को हटाने का षड्यंत्र रच रहे थे माकन, सबूत पेश कर दूंगा
ACB का धमाका - PHED का चीफ इंजीनियर और दलाल 10 लाख रिश्वत लेते गिरफ्तार
जी 6 के विधायकों का गहलोत कैंप पर तीखा हमला, कहा- 'आलाकमान को आंख दिखाने वालों पर हो कार्रवाई'
मंत्री धारीवाल ने माकन के वक्तव्य पर किया पलटवार, माकन और आलाकमान को किया कटघरे में खड़ा
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए आ सकता है नया नाम, कौन, जानें पढ़े ख़बर 
राजस्थान का अगला पायलट होंगे डाॅ जोशी ? सचिन नहीं, आलाकमान झुकेगा या 70 साल पहले का इतिहास दोहराया जा सकता, पढ़े खबर
टोंक के पचेवर ग्राम विकास अधिकरी 15 हज़ार रुपए लेते ट्रेप,पीएम आवास योजना की दूसरी किश्त जारी करने की एवज में मांग रहा था 20 हज़ार की घुस,
राजस्थान कांग्रेस में घमासान-अब गहलोत पर सकंट, ऑब्जर्वर लौटे, गहलोत व सचिन तलब,आलाकमान गहलोत से नाराज
राजस्थान के सियासी घटनाक्रम से नाराज कांग्रेस आलाकमान ने प्रभारी अजय माकन से मांगी रिपोर्ट
टोंक में सड़क हादसे में 4 की मौत, कोटा एलन कोचिंग के छात्र हरिद्वार घूमने निकले थे, बाड़ा तिराहे पर हुआ हादसा