पंजाब का गिरोह राजस्थान में कर रहा था जीएसटी चोरी का खेल,करोड़ो की चोरी पकडी, गिरफ्तार

Udaipur News। केन्द्रीय वस्तु सेवा कर (जीएसटी) विभाग उदयपुर कमिश्नरेट की एंटीइवेजन शाखा ने गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई कर 44 करोड़ मूल्य के बिलों द्वारा 7.97 करोड़ रुपये की कर चोरी पकड़ी है। गिरोह का पर्दाफाश कर मुख्य आरोपित अनिल कुमार अरोड़ा निवासी मंडी गोविंदगढ़, पंजाब को गिरफ्तार किया गया है। विभागीय अधिकारियों …

पंजाब का गिरोह राजस्थान में कर रहा था जीएसटी चोरी का खेल,करोड़ो की चोरी पकडी, गिरफ्तार Read More »

July 25, 2021 8:57 pm

Udaipur News। केन्द्रीय वस्तु सेवा कर (जीएसटी) विभाग उदयपुर कमिश्नरेट की एंटीइवेजन शाखा ने गुप्त सूचना के आधार पर कार्रवाई कर 44 करोड़ मूल्य के बिलों द्वारा 7.97 करोड़ रुपये की कर चोरी पकड़ी है।

गिरोह का पर्दाफाश कर मुख्य आरोपित अनिल कुमार अरोड़ा निवासी मंडी गोविंदगढ़, पंजाब को गिरफ्तार किया गया है।

विभागीय अधिकारियों ने बताया कि विभाग को गुप्त सूचना मिली कि उदयपुर शहर से एक गिरोह मार्च 2021 से ही बिना ई-वे बिल और फर्जी बिल्टियों के आधार पर आयरन लोकल कबाडि़यों से नगद में खरीद कर पंजाब भेज रहा है।

इस पर 18 जुलाई को नाकेबंदी के दौरान मादड़ी इंडस्ट्रियल एरिया उदयपुर में पंजाब और हरियाणा नम्बर के दो ट्रकों को रुकवाकर जांच की गई। जांच के दौरान दोनों ट्रकों में आयरन स्क्रेप बिना ई-वे बिल और अंडर वैट – अंडर वैल्यू के मण्डी गोविन्दगढ़, पंजाब भेजा जा रहा था।

जांच के दौरान पाया गया कि यह माल अनिल कुमार अरोड़ा उर्फ शंटी एवं उनके पुत्र रितिक अरोड़ा के कहने पर उन्होंने उदयपुर के स्क्रेप डीलरों के गोदाम से भरा जिसे पंजाब स्थित मण्डी गोविन्दगढ़ ले जाया जाना था।

गहन जांच में सामने आया कि आरोपित अनिल कुमार अरोड़ा उर्फ शंटी ही इस गिरोह का राजस्थान में मास्टर माइंड है जिसके द्वारा बिना बिल एवं बिना ई-वे बिल के आयरन स्क्रेप की खरीद-बेचान की जा रही है। इसके लिए उदयपुर में बालाजी सेल्स कॉर्पोरेशन व नागौर में करणी माता एंटरप्राइजेज के नाम से फर्म बनाई गई।

 

विभाग ने अनिल पर नजर रखी और उसके उदयपुर आते ही 23 जुलाई को उसके उदयपुर आवास पर सर्च ऑपरेशन किया गया।

वहां से बरामद दस्तावेज, लैपटॉप, मोबाइल फोन जब्त किए गए और उनसे सबूत पुख्ता हो गए कि सारा खेल वहीं चला रहा था। आरोपित अनिल व उसके गिरोह ने जीएसटी चोरी का अलग ही तरीका अपनाया था।

जिसमें अन्य व्यक्तियो के नाम पर फर्म खोली जाती थी जिससे माल का बिल जारी किया जाता था तथा नकली ट्रांसपोर्टर कम्पनी द्वारा बिल्टी जारी कर माल को पंजाब भेजा जाता था।

बिना ई-वे बिल के माल पहंुच जाने के बाद बिल को नष्ट कर दिया जाता था तथा उन्हें जीएसटी रिटर्न में भी नहीं दिखाया जाता था और माल की बेचान पर देय जीएसटी का भुगतान भी नहीं किया जाता था। इस मामले मे आगे जांच जारी है।

Prev Post

बीकानेर के कृष्ण चंद पूनिया का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में नाम दर्ज

Next Post

किसान विरोधी तीनों कृषि कानूनों को वापस लें केन्द्र सरकार: सचिन पायलट

Related Post

Latest News

बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा

Trending News

भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
ब्रश, स्पंज और उंगलियों से लिक्विड फाउंडेशन कैसे लगाएं
आपके जीवन में स्वस्थ कितना जरुरी हैं और आहार क्या है, फायदे और डाइट चार्ट
बोलेरो को ट्रेलर ने मारी टक्कर तीन की मौत दो बच्चों सहित पांच गम्भीर घायल, भीलवाड़ा रैफर

Top News

बजरी ट्रक ऑपरेटरों यूनियन की सोहेला मिर्च मण्डी मे बैठक का आयोजन 
Rajasthan : कांग्रेस विधायक दल की बैठक आज, आलाकमान पर छोड़ा जा सकता है मुख्यमंत्री चयन का फैसला
भीलवाड़ा में गुटखा व्यापारी का दिनदहाडे अपहरण, 5 करोड़ फिरौती मांगी, 3 हिरासत में 
उपराष्ट्रपति कल राजस्थान के बीकानेर दौरे पर
नवरात्रा 26 से, घट स्थापना का मुहूर्त कब-कब और कैसे करें जानें 
PFI को खाड़ी देशों से मदद, Ed ने 120 करोड़ रुपए किए जब्त,PM पर हमले की थी साजिश
अंकिता हत्याकांड - भाजपा के नेता व पूर्व मंत्री के बेटे के रिसोर्ट पर चला बुलडोजर नेता पार्टी से निलंबित 
कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए नामांकन आज से शुरू, 30 सितम्बर है आखिरी तारीख
कांग्रेस में 'एक व्यक्ति एक पद' का सिद्धांत फॉर्मूला, एक दर्जन नेताओं को देना पड़ेगा इस्तीफा
मुख्यमंत्री कौन होगा काउंट डाउन शुरू : सचिन पायलट सहित ये प्रमुख नाम