Udaipur case- Netbandi will continue in Rajasthan, accused Riyaz's relation with Bhilwara,
उदयपुर राजस्थान

उदयपुर घटना – रियाज व गौस की राजस्थान जलाने की थी साजिश, ISIS व सूफा से जुडाव, किन किन जिलों में फैला नेटवर्क, पढ़े कई खुलासे

 उदयपुर/ भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नुपूर शर्मा का समर्थन करने वाले युवक कन्हैया लाल तेली टेलर की निर्मम हत्या को अंजाम देने वाले रियाज और गौस मोहम्मद से चल रही पूछताछ में चौकाने वाले खुलासे सामने आए हैं जिनमें इन दोनों का आतंकी संगठन आईएसआईएस(ISIS) और सूफा से जुड़ाव था तथा राजस्थान के भीलवाड़ा टोंक सहित आठ जिलों में इन्होंने अपना नेटवर्क फैला रखा था और करीब 30 जिलों में नेटवर्क को फैलाने की तैयारी चल रही थी इसके साथ ही इन दोनों को इन संगठनों और अरब देश से आर्थिक मदद संगठन में युवाओं को तैयार करने के लिए तथा जोड़ने के लिए मिल रही थी और इनका मकसद पूरे राजस्थान को दहलाना था ऐसे कई और खुलासे अभी तक सामने आए हैं एनआईए और अन्य जांच एजेंसियों द्वारा दोनों से भी पूछताछ जारी है।

कहां लिया आतंकी सगंठन से प्रशिक्षण

जांच पड़ताल में सामने आया कि भीलवाड़ा जिले के आसींद उपखंड मुख्यालय पर रहने वाले रियाज अंसारी ने आसींद छोड़ने के बाद रोजगार की तलाश में उदयपुर आया और यहां उसकी दोस्ती गौस मोहम्मद से हो गई और दोनों अधिकांश समय साथ ही रहने लगे इसी दौरान रियाज का पाकिस्तान से संचालित होने वाले संगठन दावत ए इस्लाम से संपर्क हुआ और इसी ग्रुप के जरिए पाकिस्तान में बैठे मौलाना ने रियाज का ब्रेनवाश ( भडकाया) गया यही नहीं दावते इस्लाम संगठन नें उसकी शादी भी करवाई इसके बाद मौलाना ने ट्रेनिंग के लिए उससे और गौस को पाकिस्तान बुलाया 2014 में रियाज और गौस मोहम्मद 30 लोगों के साथ पाकिस्तान के कराची में गए इस 30 सदस्य दल में उदयपुर के वसीम और अख्तर राजा भी शामिल थे कराची में इनको डेढ़ महीने तक प्रशिक्षण दिया गया और फिर वापस भारत आ गए उसके बाद से यह दोनों दावते इस्लामी संगठन और पाकिस्तान के राजनीतिक दल तहरीक ए लब्बेक के संपर्क में थे।

कहां से मिल रही थी आर्थिक मदद

दावते इस्लामी संगठन से ही जुड़े तथा सऊदी अरब में रहने वाले सलमान और अब्बू इब्राहिम से लगातार संपर्क में थे और राजस्थान में नेटवर्क खड़ा करने के लिए आर्थिक मदद के लिए वह 2014 और 2019 में सऊदी अरब गए तथा 2018 में नेपाल भी गए और वहां से इन्होंने आर्थिक मदद अर्थात फंडिंग मिली।

राजस्थान मे ISIS व अलसूफा के लिए तैयार कर रहे थे?

अरब देशों से मिली आर्थिक मदद के जरिए रियाज और गौस मोहम्मद का मकसद राजस्थान में नेटवर्क बनाना था और इसके लिए वह काम भी कर चुके थे नेटवर्क आतंकी संगठन आई एस आई(ISIS) और अलसूफा के लिए यह नेटवर्क तैयार करने की आशंका सामने आई है।

ऐसे फंसाते युवाओं को

रियाज और गौस मोहम्मद अरब देशों से मिली आर्थिक मदद के जरिए संगठन का नेटवर्क फैलाने के लिए गरीब और बेरोजगार युवाओं को हंसाने के लिए चुनते और उनकी मदद कर उन्हें विश्वास में लेते फिर उनका भी निवास करने के लिए ऐसे भड़काने वाले वीडियो सामग्री डालते और उन्हें समझाते।

उदयपुर , भीलवाडा आदि जिलो मे अलसूफा का प्रमुख है रियाज

रियाज अंसारी के तार आतंकी संगठन अल शिफा से भी हैं और वह करीब 5 साल से अलसुफा के लिए उदयपुर सहित आसपास के जिलों में नेटवर्क तैयार कर रहा था 5 साल पहले तकरीबन आज टोंक निवासी मुजीब के नेतृत्व में अलसूफा के लिए काम कर रहा था लेकिन 30 मार्च को निम्बाहेडा राजस्थान बॉर्डर पर पुलिस और एटीएस की टीम द्वारा तीन आतंकियों से 12 किलो विस्फोटक बरामद होने और जयपुर को दहलाने की साजिश फेल होने के बाद मुजीब जेल चला गया उसके बाद रियाज अलसूफा का उदयपुर सहित आसपास के जिलों में प्रमुख बनकर काम कर रहा है।

 

ISIS से संपर्क मे है

जांच में यह भी सामने आया है कि दोनों आरोपियों के पास पाकिस्तान के करीब 10 से अधिक मोबाइल नंबरों पर बातचीत हो रही है और यह मोबाइल इंटरनेट कॉलिंग व सोशल मीडिया के जरिए(ISIS) से सीधे संपर्क में हैं।

भीलवाडा, जोधपुर व करौली मे हुए दंगो मे इन दोनो का हाथ था

रियाज और गौस मोहम्मद ने आतंकी संगठनों के लिए पूरे राजस्थान में नेटवर्क फैलाने और वह अब तक भीलवाड़ा उदयपुर अजमेर राजसमंद टोंक बूंदी बांसवाड़ा में नेटवर्क फैला चुके हैं। रियाज और गौस मोहम्मद दोनों आरोपी करौली जोधपुर और भीलवाड़ा के बाद उदयपुर में दंगा भड़काने के लिए ही इन्होंने कन्हैया लाल दर्जी की हत्या की थी और इनका मकसद पूरे राजस्थान को दंगों की चपेट में लेकर दहलाने का था।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम