टोंक रत्न बनवारी लाल बैरवा: जिले के सर्वाधिक कामयाब राजनेता, प्रदेश में दो बार मंत्री और उप मुख्यमन्त्री भी रहे थे सरल हृदय बाऊजी

Tonk / सुरेश बुन्देल। जनता में बाऊजी के नाम से मशहूर रहे बनवारी लाल बैरवा की दास्तान बेहद दिलचस्प रही है, उन्हें आज भी लोग गाहे-ब-गाहे याद कर ही लेते हैं। राजनीति हमारी व्यवस्था का महत्वपूर्ण अंग है। उससे जुड़ी जिले की खास सियासी शख्सियतों का जिक्र करना भी बहुत जरूरी है, भले ही वे …

टोंक रत्न बनवारी लाल बैरवा: जिले के सर्वाधिक कामयाब राजनेता, प्रदेश में दो बार मंत्री और उप मुख्यमन्त्री भी रहे थे सरल हृदय बाऊजी Read More »

May 15, 2020 6:50 am

Tonk / सुरेश बुन्देल। जनता में बाऊजी के नाम से मशहूर रहे बनवारी लाल बैरवा की दास्तान बेहद दिलचस्प रही है, उन्हें आज भी लोग गाहे-ब-गाहे याद कर ही लेते हैं। राजनीति हमारी व्यवस्था का महत्वपूर्ण अंग है। उससे जुड़ी जिले की खास सियासी शख्सियतों का जिक्र करना भी बहुत जरूरी है, भले ही वे किसी भी विचारधारा या पार्टी से जुड़े रहे हों। जिले के सबसे कामयाब जन प्रतिनिधि के तौर पर बनवारी जी को आज भी याद किया जाता है, जिनकी वफादारी की वजह से कांग्रेस पार्टी में उनकी प्रतिष्ठा हमेशा बरकरार रही। सबसे खास बात तो ये रही कि वकालत से शुरू हुआ उनका सार्वजनिक जीवन राजस्थान के उप मुख्यमंत्री पद पर जाकर खत्म हुआ।

धन्ना तलाई से चलकर विधानसभा और संसद पहुंचने का सफ़र

बनवारी लाल का जन्म टोंक के धन्ना तलाई इलाके में रहने वाले किसान दौलत राम के घर 19 जनवरी 1933 को हुआ था। पढ़ाई में दिलचस्पी होने की वजह से उन्होंने राजस्थान विश्वविद्यालय से एम. ए./ एल. एल. बी. तक की तालीम हासिल की और 1961 से 1964 तक धौलपुर नगर पालिका में अधिशाषी अधिकारी पर तैनात हुए। नौकरी उन्हें रास नहीं आई, लिहाजा उन्होंने वकालत करने का निश्चय किया और पहला चुनाव जीतकर 1966 में टोंक नगर परिषद में उप सभापति बने। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। निवाई विधानसभा का चुनाव जीतकर पहली बार राजस्थान सरकार में जेल एवं मुद्रण राज्य मंत्री (1972- 1977) बनाए गए। 1980 तथा 1984 के लोकसभा चुनावों में जीत हासिल कर बाऊजी लगातार दो बार सांसद बने। 1993 में उन्होंने निवाई विधानसभा का चुनाव फिर जीता, तब राज्य में भैरोंसिह शेखावत की भाजपा सरकार बनी थी। 1998 में बनी अशोक गहलोत सरकार में बनवारी लाल को दूसरी बार समाज कल्याण, आयोजना व यातायात मंत्री बनाया गया। इसके बाद 2002 में उन्हें उप मुख्यमंत्री का दायित्व सौंपा, जो उनके राजनीतिक जीवन की सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि रही। 22 जुलाई 2009 को उनका परलोक गमन हुआ।

सादगी, सरलता और सहजता की प्रतिमूर्ति थे बाऊजी

सक्रिय राजनीति में होने के बावजूद बाऊजी की दिलचस्पी समाजसेवा, मेहतर बंधुओं के उत्थान और पिछड़े- दलित कल्याण में ज्यादा रही। अल्पसंख्यकों की भलाई के लिए भी वे प्रयत्नशील रहे। ग्रामीण क्षेत्र के कमजोर तबकों की सेवा के लिए वे सदैव तत्पर रहा करते थे। उर्दू व हिंदी साहित्य, दर्शन शास्त्र और राजनीतिक विज्ञान के अध्ययन में उनकी खासी दिलचस्पी थी। आज भी कृषि मंडी के पास बने उनके आवास ‘कमला भवन’ में बाऊजी का पुस्तकालय और उनकी स्मृतियां मौजूद हैं। नए बस स्टैंड के समीप लगी हुई बाऊजी की प्रतिमा देखकर लोग उनकी यादें ताजा कर लेते हैं। जो उन्हें करीब से जानता है, वो उनकी पुण्य तिथि पर जरूर श्रद्धा सुमन अर्पित करने आता है। उनका सरल, सहज, विनम्र और मधुर स्वभाव ही उनके व्यक्तित्व की विशेषता रही, जिसकी बदौलत वे शोहरत की बुलंदियों पर पहुंचे और टोंक जिले की सियासत में सबसे ज़्यादा कामयाब हुए।

सुरेश बुन्देल- टोंक @कॉपीराइट

Prev Post

लाॅकडाउन- कलेक्ट्रेट मे कलेक्टर के समीप खडी इस महिला का चालान कौन बनाएगा

Next Post

रोजी रोटी बैंक करौली के सदस्यों ने जिला कलेक्टर एवं एसपी को सौंपी 5100 रुपया की सहायता राशि

Related Post

Latest News

बीसलपुर की लाइन टूटी, 15 दिन बाद भी नही हुई ठीक
Tonk: आवारा श्वान ने 7 लोगों को काटा, अस्पताल गए तो वहां भी नही हुई सार संभाल ,VIDEO 
IAS अतहर और डाॅ. महरीन आज बंधे शादी के बंधन में ,VIDEO

Trending News

कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान

Top News

बीसलपुर की लाइन टूटी, 15 दिन बाद भी नही हुई ठीक
Tonk: आवारा श्वान ने 7 लोगों को काटा, अस्पताल गए तो वहां भी नही हुई सार संभाल ,VIDEO 
IAS अतहर और डाॅ. महरीन आज बंधे शादी के बंधन में ,VIDEO
राजस्थान के सरकारी स्कूलों में मूल निवास प्रमाण पत्र बनवाने की जिम्मेदारी संस्था प्रधान की
पूर्व मंत्री और NCP नेता भुजबल का दुबई कनेक्शन का आरोप, FIR दर्ज
नामदेव छीपा समाज के त्रिदिवसीय गरबा महोत्सव झंकार का समापन, महिला मण्डल की कार्यकारिणी का शपथ ग्रहण
माफी तो मांगी,लेकिन वायरल पन्ना बता रहा है कि सचिन पायलट और प्रभारी अजय माकन निशाने पर थे
PFI का सपोर्ट करने पर पाक सरकार का ट्विटर अकाउंट पर प्रतिबंध
कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के बाद अब सलमान खान के डुप्लीकेट संजय की जिम में एक्सरसाइज के दौरान मौत
कोतवाली पुलिस कहिन रिपोर्ट दर्ज होने के बाद बता दिया जाएगा, बुजुर्ग महिला से लूट का प्रयास विफल ,लोगों ने युवक को पकड़ा ,VIDEO