कौन सुनेगा ? किसे सुनाए,विधायक से लेकर प्रशासन तक नही ले रहा सुध,बिजली पानी को तरसता टोंक

Firoz Usmani
Exif_JPEG_420

टोंक(फ़िरोज़ उस्मानी)। टोंक ज़िला मूलभूत समस्याओं के लिए तरस रहा है, विद्युत कटौती और पेयजल की समस्या विकराल रूप ले रही है। विधायक से लेकर प्रशासन तक कोई सुध नही ले रहा है।। आमजन आखिर अपनी समस्याएं लेकर जाए तो आखिर जाए कहाँ ?

पानी बिजली की समस्या

इस भीषण गर्मी में विद्युत कटौती और पेयजलापूर्ति की समस्या बनी हुई है। घरों के नल सूखे पड़े, शहर में कई वार्ड ऐसे है जहाँ कई कई दिनों से पीने के पानी की समस्या बनी हुई है,,अगर नलों में पानी आ भी जाता है तो विद्युत कटौती के चलते घरों तक पानी मुहैया नही हो रहा है।। जलदाय विभाग 48 घंटे में एक बार पेयजल सप्लाई देने की बात कर रहा है,जो इस भीषण गर्मी में पर्याप्त नही है।

हालात इतनी दयनीय है कि कई वार्डों में पीने के पानी की एक बूंद तक नही पहुँच पा रही है,आमजन जब इसकी शिकायत संबंधित अधिकारियों से करता है तो अधिकारी कोई भी बहाना बनाकर अपना पल्ला झाड़ लेते है।।

कलक्टर से लगाई गुहार

आज भी वार्ड नम्बर 47 के लोगों ने ज़िला कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया और कलक्टर से गुहार लगा कर विद्युत कटौती को रोकने और पेयजल व्यवस्था को रोकने की गुहार लगाई है।। शहर के वार्ड नम्बर 25 शागिर्द पेशा में भी यही स्थिति बनी हुई है, पिछले 15 दिन से आधे वार्ड में पेयजलापूर्ति हो रही है और आधे वार्ड के नल पड़े है।। इसी तरह विद्युत कटौती का भी आंख मिचौली का खेल चल रहा है,बार बार लाइट जाती है,रात में तो घंटो विद्युत कटौती की जा रही है।।

 हर वर्ष करोड़ो खर्च

हर वर्ष मेंटिनेंस के नाम पर उपकरणों के नाम पर करोड़ो रूपये खर्च किए जाते है,बावजूद इसके गर्मी आते ही कभी लाइनों में फॉल्ट आ जाता है, कभी ट्रांसफॉर्मर जल जाते है।। कुल मिलाकर आमजन की समस्याओं का समाधान नही हो रहा है।।

Share This Article
Follow:
Firoz Usmani Tonk : परिचय- पत्रकारिता के क्षेत्र में पिछले 15 वर्षो से संवाददाता के रूप में कार्यरत हुंॅ, 9 साल से राजस्थान पत्रिका ग्रुप के सांयकालीन संस्करण (न्यूज़ टुडे) में जिला संवाददाता के रूप से कार्य कर रहा हंू। राजस्थान पत्रिका न्यूज़ चैनल में भी अपनी सेवाएं देता रहा हूं। एवन न्यूज चैनल में भी संवाददाता के रूप में कार्य किया है। अपने पिता स्व. श्री मुश्ताक उस्मानी के सानिध्य में पत्रकारिता की क्षीणता के गुण सीखें। मेरे पिता स्व.श्री मुश्ताक उस्मानी ने भी 40 वर्षो तक पत्रकारिता के क्षैत्र में कार्य किया है। देश के कई बड़े न्यूज़ पेपर से जुड़े रहे। 10 वर्ष दैनिक भास्कर में ब्यूरों चीफ रहें।