Tonk : मेहनत का कोई विकल्प नहीं- चिन्मयी गोपाल

टोंक । विद्यार्थियों के कैरियर निर्माण के लिए जिला कलेक्टर चिन्मयी गोपाल की ओर से 16 अगस्त 2022 से शुरू किये गये अभियान ’मिशन प्रेरणा’ के प्रथम बैच की निःशुल्क कोचिंग क्लासेज का मंगलवार को समापन हुआ। प्रथम बैच में 150 छात्र-छात्राओं ने 7 से 8 जनवरी 2023 को होने वाली समान पात्रता परीक्षा (सीईटी) के लिए जिला मुख्यालय पर 134 दिन निःशुल्क कोचिंग क्लासेज लीं।  

प्रथम बैच के समापन समारोह में जिला कलेक्टर ने छात्र-छात्राओं को प्रेरित करते हुए कहा कि मेहनत का कोई विकल्प नहीं होता है…असफलताओं से हताश नहीं हों और चुनौतियों को स्वीकार करें।

जीवन में आने वाली पारिवारिक व व्यक्तिगत समस्याओं से घबराकर अपने लक्ष्य को नहीं छोड़ें। कैरियर निर्माण के लिए कोई भी परीक्षा छोटी-बड़ी नहीं होती है, ईमानदारी से परीक्षा की तैयारी कर अपने सपनों को पूरा करें।

जिला कलेक्टर ने कहा कि प्रतिभा हर व्यक्ति में होती है, बस उसे पहचानना एवं उचित अवसर का मिलना जरूरी होता है। मिशन प्रेरणा अभियान से ऐसे छात्र-छात्राओं को बेहतर अवसर प्रदान करने के कोशिश की गई है, जो प्रतिभाशाली हैं मगर संसाधनों एवं मार्गदर्शन के अभाव में आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं। मुझे खुशी है कि मेरा यह विजन सफल रहा है।

इस अभियान को साकार रूप देने के लिए उन्होंने वरिष्ठ लेखाधिकारी (पीडब्ल्यूडी) रामअवतार शर्मा, एडीईओ चौथमल चौधरी एवं राजकीय महात्मा गांधी पुस्तकालय अध्यक्ष गौरव शर्मा को श्रेय दिया। उन्हांेने कहा कि किसी भी बड़े विजन को पूरा करने के लिए अच्छी टीम का होना जरूरी है, तभी वह धरातल पर उतर पाता है।

मिशन प्रेरणा कोचिंग से आया आत्मविश्वास

मिशन प्रेरणा निःशुल्क कोचिंग क्लासेज में अध्ययनरत रीना जैन, मुस्कान, अमन एवं अमरदीप ने जिला कलेक्टर को अपने अनुभव बताते हुए कहा कि कोचिंग के बाद परीक्षा को लेकर उनका आत्मविश्वास बढ़ा है।

अनुभवी शिक्षकों के मार्गदर्शन से वे परीक्षा में सफलता को लेकर आशान्वित हैं। छात्र-छात्राओं ने फरवरी में होने वाली रीट परीक्षा के लिए भी निःशुल्क कोचिंग प्रदान करने का जिला कलेक्टर से अनुरोध किया।

इन शिक्षकों ने दी निःशुल्क कोचिंग

मिशन प्रेरणा अभियान में स्वप्रेरित होकर शिक्षकों ने निःशुल्क कोचिंग प्रदान की। शिक्षक रामकिशोर शर्मा ने राजस्थान का भूगोल व राजनीतिक विज्ञान, विशाल शर्मा ने भारत का इतिहास, हेमंत श्रीवास्तव व हितेन्द्र मिश्रा ने गणित, कपिल हिरानी ने रिजनिंग, रसपाल गुर्जर ने अंग्रेजी, हनुमान सर ने हिन्दी, तोशानी वशिष्ठ ने विज्ञान एवं जाकिर हुसैन ने अंग्रेजी विषय में छात्र-छात्राओं का मार्गदर्शन किया।