प्रोफेसर (डॉ.) दिशांत बजाज (एडवोकेट) “एक्सीलेंस बुक ऑफ रिकॉर्ड्स” में नामित

Sameer Ur Rehman
3 Min Read

Tonk News। प्रोफेसर (डॉ.) दिशांत बजाज (एडवोकेट) का नाम “एक्सीलेंस बुक ऑफ रिकॉर्ड्स” में दर्ज किया गया है |प्रोफेसर (डॉ.) दिशांत बजाज को यह उपलब्धि उनके द्वारा विधि के क्षेत्र में किए गए उत्कृष्ट कार्यों ,विधि के क्षेत्र में प्राप्त की गई शैक्षणिक योग्यता ,विधि शिक्षा को बढ़ावा देने, विधिक जानकारी उपलब्ध कराने, विधिक सहायता उपलब्ध कराने, विधिक जागरूकता लाने, विधिक चेतना जागृत करने आदि सृजनात्मक कार्यों के फलस्वरुप प्रदान की गई है |

डॉ. बजाज ने देश के कई विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में विधि से संबंधित विभिन्न संगोष्ठीयो में भाग लिया एवं विधि से संबंधित शोध पत्र वाचन भी किया है |

डॉ. बजाज विभिन्न सामाजिक संस्थाओं से जुड़े हैं एवं विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के लिए निशुल्क विधिक सलाहकार के रूप में कार्य कर संस्थाओं के पास आने वाले विधि संबंधी मामलों में निशुल्क परामर्श देकर समाज सेवा संबंधी कार्य निरंतर कर रहे हैं | ताकि कोई भी व्यक्ति विधि की अनभिज्ञता एवं अर्थाभाव के कारण न्याय से वंचित न रहे|

डॉ. बजाज को विभिन्न राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सम्मान से सम्मानित किया जा चुका है |

डॉ. बजाज का नाम विभिन्न बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में दर्ज है |

डॉ. बजाज विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के महत्वपूर्ण पदों राष्ट्रीय अध्यक्ष, राष्ट्रीय महासचिव, आदि पदों पर कार्य कर रहे हैं |

डॉ. बजाज द्वारा लिखे गए सामाजिक एवं विधि संबंधी लेख दैनिक समाचार पत्रों में प्रकाशित होते रहते हैं | इन लेखों के माध्यम से डॉ. बजाज का उद्देश्य यही है कि इन लेखों को पढ़कर समाज में विधिक जागरूकता लाई जा सके, समाज के लोग अपने विधिक अधिकारों को जाने एवं अधिकारों का उल्लंघन होने पर विधि के अंतर्गत उपचार प्राप्त कर सके |

डॉ. बजाज ने विधि के विभिन्न पहलुओं जिसमें मृत्युभोज – एक कुप्रथा, आपदा प्रबंधन अधिनियम एवं कोविड-19, लोक अदालत-विवाद का वैकल्पिक समाधान, आत्मरक्षा का अधिकार ,भारतीय संविधान एवं विधिक सहायता संबंधी उपबंध , सोशल मीडिया एवं भारतीय दंड संहिता , इच्छा मृत्यु संबंधी विधि , बालकों के अधिकार , मृत्युदंड एवं इसकी प्रासंगिकता , मानवाधिकार , चेक अनादर संबंधी विधि , गर्भाधान पूर्व एवं प्रसव पूर्व निदान तकनीक अधिनियम , धूम्रपान निषेध अधिनियम , भारतीय विधि एवं वन्य जीव संरक्षण , महिलाओं एवं बालकों की अनैतिक तस्करी से संरक्षण, भारत में मध्यस्थता प्रणाली आदि विषयों पर लेखन कार्य भी किया है |

विधि के क्षेत्र में डॉ. बजाज द्वारा किए गए इन सभी सृजनात्मक कार्यों के फलस्वरुप “एक्सीलेंस बुक ऑफ रिकॉर्ड्स”टीम ने डॉ. दिशांत बजाज को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया |

Share This Article
Follow:
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/