सरकारी स्कूल निरीक्षण करने गये सरपंच के साथ प्रधानाचार्य ने की दादागिरी । गंदगी के बीच शिक्षा लेने को मजबूर भारत का भविष्य

निवाई । (विनोद सांखला) निवाई उप तहसील दतवास श्रैत्र के ग्राम पंचायत हिगोंनिया बुजुर्ग के अन्तर्गत आने वाले गाँव जगसरा की राजकीय उत्कृष्ट उच्च प्राथमिक विद्यालय का निरीक्षण करने गये सरपंच सरपंच छोटुराम मीना विद्यालय में जगह -जगह गंदगी देखी तो प्रधानाचार्य को सफाई के बोलना महंगा साबित हुवा विद्यालय में विद्यार्थियों के सामने ही सरपंच को बाबुलाल शर्मा ने जमकर गाली गलोच कर ड़ाली । मामला इतना बिगड़ गया कि प्रधानाचार्य सरपंच के साथ मारपीट तक उतारू हो गया।

हुवा यू की : विधार्थियो की शिकायत पर सरपंच छोटुराम मीना ने विद्यालय का निरीक्षण करने पहुंचे तो विद्यालय मैं जगह जगह गंदगी के ढेर मिले , शौचालय की सफ़ाई नही होने की वजह से विद्यालय परिसर में बदबू आ रही थी । विद्यालय में जगह जगह गंदगी देखकर सरपंच ने प्रधानाचार्य बाबुलाल शर्मा को विद्यालय में साफ-सफ़ाई रखने के लिए बोलना सरपंच को महंगा साबित हो गया।

इतनी बदबु ओर गंदगी में कैसे हो पढ़ाई।

सरपंच मीना ने बताया कि यहां विद्यार्थि जर्जर भवन के अंदर मौत के साये में शिक्षा ग्रहण कर रहे है। विद्यालय में जगह-जगह गंदगी व शौचालय की सफ़ाई नही होने की वजह से विद्यालय परिसर में बदबू से भी बच्चे विद्यालय आने से कतरा रहे है । बदबू ओर गंदगी के बीच शिक्षा लेने को मजबूर हो रहे है विद्यार्थि ।

प्रधानाचार्य की दादागिरी

 

प्रधानाचार्य सरपंच को कहने लग गया कि पहले ग्राम पंचायत के शौचालय साफ करवाओ सरपंच को यहाँ तक कह दिया कि जो करना है करो गंदगी ऐसे ही रहेगी,तथा सरपंच के साथ जमकर गाली गलोच व धक्का मुक्की भी की। स्थानीय ग्रामीण कैलाश, मुकेश, हरिकेश, रामदेव ने बताया कि प्रधानाचार्य कभी भी समय पर विद्यालय नहीं पहुंचते तथा जिसकी शिकायत प्रारंभिक जिला शिक्षा अधिकारी को कि गई लेकिन कोई कार्यवाही नहीं होने से प्रधानाचार्य का होसला इस कदर बुलंद है को वो ना तो समय पर विद्यालय पहुंचता ना ही बच्चों के लिए पोषहार बनता है ।

सरपंच व ग्रामीणों ने जिलाकलेक्टर सुबेसिंह यादव को पत्र लिखकर तत्काल कार्यवाही की मांग की ।