टोंक

बस की टक्कर से एक की मौत, थाना अधिकारी पहुंचे मौके पर

 

 

 प्रशासन बेबस अस्थाई बने कंट्रोल रूम के बाहर अतिक्रमण, मौके पर फल ,सब्जी, पकौड़ी के ठेले व अन्य का जमावड़ा

 

 डिग्गी( मनोज टाक)। प्रदेश के बड़े तीर्थों में शामिल प्रसिद्ध तीर्थ स्थल डिग्गी श्री कल्याण मंदिर की धार्मिक पावन नगरी डिग्गीपुरी में राजस्थान प्रदेश ही नहीं अन्य राज्यों व देश-विदेश से श्री कल्याण जी के दर्शनार्थ पूरे वर्षभर श्रद्धालु दर्शनार्थ आते रहते हैं। पर हर साल सावन माह से भाद्रपद माह (2 महीने) तक श्री कल्याण जी महाराज के प्रदेश भर से कहीं जिलों से पदयात्राएं आती है

जिससे सावन माह में भाद्रपद 2 महीने यहां के लिए विशेष है जिससे लाखों की संख्या में पदयात्री आते हैं। जिससे सावन माह में जयपुर से लकी पदयात्रा के नाम से हर वर्ष पर यात्रा यहां आती है । जिस का संचालन श्रीजी महाराज का परिवार करता है अबकी बार 53 वी पदयात्रा आई जयपुर से , उस में लाखों की संख्या में पदयात्री गण आए इस दौरान प्रशासन ने 5 दिन का मेला घोषित कर रखा है।

जयपुर ताड़केश्वर मंदिर से शुरू होने से लेकर पदयात्रा का मुख्य द्वार डिग्गी श्री कल्याण मंदिर पहुंचने तक 5 दिन प्रशासन चाक चौबंद रहता है उसके बाद प्रशासन मेला समापन के नाम पर इतिश्री कर लेता है जबकि पूरे सावन माह एवं भाद्रपद तक पद यात्रियों का हर रोज आना जाना रहता है वहीं अभी तो गंगापुर सिटी, हिंडौन ,दोसा ,करोली ,मंडावर सहित सैकड़ों जगह से अलग-अलग टोलियों में हजारों पद यात्रियों का आना बाकी है।

भाद्रपद माह में दूसरी ओर जहां प्रशासन श्योपुर मध्य प्रदेश की पदयात्रा आने तक मुस्तैद रहता था वहीं अबकी बार एक दिन पहले ही प्रशासन ने मेला समापन कर इतिश्री कर ली है जबकि श्योपुर (म. प्र) की पदयात्रा अब आएगी। उसके पहले ही अस्थाई रूप से बनाया गया कंट्रोल रूम खाली हो गया है, मुख्य नियंत्रण कक्ष के नाम से खोला गया था। प्रशासन की लापरवाही के चलते आज एक पदयात्री की मौत हो गई

रोडवेज बस की टक्कर से , जो डेढ़ से 2 घंटे तक मौत से जूझता रहा ना प्रशासन के उच्च अधिकारी आए ना हीं एंबुलेंस आई । तुरंत टक्कर के बाद स्थानीय डिग्गी थाना अधिकारी नियाज मोहम्मद आए जिन्होंने अपने स्टाफ के साथ थाने की जीप में घायल मोहन पुत्र नारायण गुर्जर निवासी नाॅनपुरा ,दूनी को एक्सीडेंट होने के बाद अस्पताल पहुंचाया।

जो करीब डेढ़ घंटे तक तड़पता रहा अस्पताल में, तो वहीं अस्पताल में भी सिर्फ एक डॉक्टर मौके पर मिला व दो कर्मचारी बाकी सब गायब । इस दौरान बस की टक्कर हुई वहां पर पद यात्रियों ने जाम भी लगाया जिससे आवागमन बाधित होने पर थानाधिकारी नियाज मोहम्मद नायब तहसीलदार ने पद यात्रियों को समझाकर जाम खुलवाया।

पूरे मेले के दौरान मेले का पूरा बोझ थाना अधिकारी नियाज मोहम्मद एवं तहसीलदार व नायब तहसीलदार पर ही नजर आया जबकि अभी पदयात्री ज्यों के ज्यों आ रहे हैं पर प्रशासन ने इति श्री कर ली है जिसका खामियाजा आज एक पद यात्री को अपनी जान देकर भुगतना पड़ा है ।
तो वहीं कल्याण जी की मुख्य द्वार धोली गेट पर फल , पकौड़ी के ठेले व अन्यो का जमावड़ा लगा रहता है जिससे आए दिन कहीं दुर्घटनाएं वह आवागमन में परेशानी आती है।

liyaquat Ali
Sub Editor @dainikreporters.com, Provide you real and authentic fact news at Dainik Reporter.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *