पनवाड़ सागर की भराव क्षमता बढ़ाने की मांग को लेकर कलेक्टर को दिया ज्ञापन

पनवाड़ सागर की भराव क्षमता 14 फीट से बढ़ाकर 16 फीट बढ़ाने की मांग को लेकर जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया

August 6, 2022 9:19 pm
पनवाड़ सागर की भराव क्षमता बढ़ाने की मांग को लेकर कलेक्टर को दिया ज्ञापन

टोंक।  जल उपभोक्ता संगम पनवाड़ सागर ने  पनवाड़ सागर की भराव क्षमता 14 फीट से बढ़ाकर 16 फीट बढ़ाने की मांग को लेकर जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया।जल उपभोक्ता संगम पनवाड़ सागर की ओर से लादूलाल मीणा, रणजीत सिंह एडवोकेट, बाबू माली, रामप्रसाद वैष्णव, रमेश माली, चेतन प्रकाश बैरवा, त्रिलोक चंद आदि ने दिए ज्ञापन में बताया कि पनवाड़ सागर जो कि तहसील देवली में स्थित है। नवाड़ सागर की सिंचाई नहरों से वर्तमान में पनवाड़ सेन्दियावास, बाललक्ष्मण, गोपीपुरा, कुषालपुरा, कल्याणपुरा आदि गांव के किसानों द्वारा अपनी कृषि भूमि की सिंचाई की जाती है। उक्त किसान अत्यधिक गरीब होने के कारण कृषि पर आश्रित हैं।

उक्त गांव के किसानों के पास कृषि भूमि की सिंचाई के लिए पनवाड़ सागर की संचाई नहरों के अलावा अन्य कोई सिंचाई संबंधी साधन नहीं है। पनवाड़ सागर की भराव क्षमता संसाधन एवं व्यवस्था के आधार पर 18 फीट है। जो कि उक्त भराव क्षमता पनवाड़ सागर की सिंचाई नहर के मुख्य द्वार पर प्रसाधन द्वारा अंकित है लेकिन प्रषासन द्वारा कई वर्षों से बिना किसी कारण उक्त पनवाड़ सागर की भराव क्षमता 14 फीट तक ही सिमित कर रखा है। बारिश के पानी की आवक होने से पनवाड़ तालाब ज्यों ही 14 फीट भर जाता है। उक्त पनवाड़ सागर का 14 फीट पानी भी सिंचाई का समय आते आते रिसाव होने के कारण लगभग 12 फीट की रह जाता है। 

पनवाड़ सागर की भराव क्षमता कम होने के कारण जब सिंचाई के उक्त सिंचाई नहरें चालू की जाती हैं तो उक्त सिंचाई का पानी अन्तिम छोर तक नहीं पहुंच पाता है। जिससे कहीं गरीब व कमजोर किसान अपनी कृषि भूमि की सिंचाई से वंचित रह जाते हैं। इस दौरान किसानों की कृषि भूमि तक सिंचाई का पानी नहीं पहुंचने के कारण कई बार ऐसी घटनाएं घटित हो चुकी हैं। वर्तमान में पनवाड़ सागर से भारी मात्रा में कृषि भूमि सिंचित की जाती है। इसलिए पनवाड़ सागर का 14 फीट पानी पर्याप्त नहीं है। इसलिए गरीब एवं असहाय किसानों की कृषि भूमि की सिंचाई की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए। पनवाड़ सागर की भराव क्षमता 14 फीट से बढ़ाकर 16 फीट की जानी अति आवश्यक है।

Prev Post

टोंक बनास पुल टूट गया है....मचा हडक़म्प ,मौके पर पहुंचे तो पता चला कि मॉकड्रील थी

Next Post

टोंक में तिरंगे झंडो का वितरण किया

Related Post

Latest News

दिल्ली में केंद्रीय पशुपालन मंत्री जी सीएम गहलोत की वार्ता, पशुओं में फैल रहे लंपी स्किन रोग पर जल्द पाएंगे नियंत्रण
टोंक में रक्षाबंधन का त्यौहार पर ऐतिहासिक परंपरा जो राजपूत समाज कर रहा हैं, जानें
एसडीएम वर्षा मीणा एवं एसआई गौरव कुमार की सूझबूझ से टला हादसा

Trending News

समीक्षा बैठक में  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने लिया बड़ा फ़ैसला, जानें 
आरक्षण में संशोधन के लिए ओबीसी के लोगों का विरोध-प्रदर्शन, रैली निकाल दी चेतावनी
Rajasthan में 200 पशु चिकित्साधिकारियों व 300 पशुधन सहायकों की होगी अस्थाई भर्ती 
खेल दिवस पर ग्रामीण ओलंपिक का आगाज़, 22 हजार खिलाड़ियों की 126 टीमों मे होगा महामुकाबला

Top News

दिल्ली में केंद्रीय पशुपालन मंत्री जी सीएम गहलोत की वार्ता, पशुओं में फैल रहे लंपी स्किन रोग पर जल्द पाएंगे नियंत्रण
टोंक में रक्षाबंधन का त्यौहार पर ऐतिहासिक परंपरा जो राजपूत समाज कर रहा हैं, जानें
एसडीएम वर्षा मीणा एवं एसआई गौरव कुमार की सूझबूझ से टला हादसा
अब कभी भी खुल सकता है राजनीतिक व संगठनात्मक नियुक्तियों का पिटारा, गहलोत-माकन ने फाइनल किए नाम
वीडियो संदेश के जरिए सीएम गहलोत ने दी रक्षाबंधन की बधाई, राजस्थान को भी आगे बढ़ाने का आह्वान
सीएम गहलोत फिर पहुंचे दिल्ली, उपराष्ट्रपति धनकड़ के शपथग्रहण समारोह में करेंगे शिरकत
आईफ़ोन 14 को लेकर सबसे बड़ी ख़बर ,अब होगा मेड इन इंडिया होगा आई फ़ोन 14, जानें अब क्या होगी इसकी रेट
‘द ग्रेट इंडियन लाफ्टर चैलेंज- चैंपियंस’ राजू श्रीवास्तव को पड़ा दिल का दौरा
मोदी के कार्यकाल में भारत विकास की रफ्तार पकड़ रहा है - घनश्याम तिवाड़ी
जयपुर पुलिस का ये होगा नया प्रतीक चिन्ह ,महानिदेशक पुलिस  एम एल लाठर ने किया अनावरण