टोंक

कांस्टेबल ने जेईएन को दौड़ा दौड़ा कर पीटा, बिजली विभाग की टीम बकाया राशि वसूले गई थी

Tonk(फ़िरोज़ उस्मानी)। टोंक के सदर थानांतर्गत ( Tonk Sadar Police Station) अन्नपूर्णा (Annapurna) क्षेत्र में एक कांस्टेबल से पिछले तीन माह की बिजली के बिल (Electricity bills)की बकाया राशि वसूलने गई बिजली कर्मचारियों के साथ पुलिस कांस्टेबल मुकेश कुमार बेरवा ने लाठियों पत्थरों से हमला कर दिया। कांस्टेबल ने जयपुर डिस्कॉम के जेईएन(Jaipur Discom JEN) हनुमान चौधरी के साथ भी मारपीट की।

जयपुर डिस्कॉम के जेईएन हनुमान चौधरी

 

मामले को लेकर जब कर्मचारी सदर थाना पहुचे तो कांस्टेबल वहां भी पहुँच गया। वहां भी बिजली कर्मचारियों के साथ गाली गलौच की। पूरे मामले को लेकर जेईएन ने टोंक एसपी ओम प्रकाश से गुहार लगाई। एसपी के आदेश के बाद कांस्टेबल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। वही पूरे मामले को लेकर टोंक डिप्टी चंद्रसिंह ने बताया कि कांस्टेबल की पत्नी की और से भी घर मे जबरदस्ती घुस कर मारपीट करने की शिकायत दी है।

 

बिजली विभाग के जेईएन हनुमान ने आरोप लगाया है कि वो टीम के साथ एक कांस्टेबल के घर बिजली के बिल की बकाया राशि वसूलने गए थे। बिजली की बकाया राशि देने से इनकार करते हुए कांस्टेबल ने विभाग के कर्मचारियों के साथ गाली गलौच कर मारपीट शुरू कर दी। इतना ही नही कांस्टेबल ने घर से लाठी लाकर विभाग के कर्मचारियों पर हमला कर दिया।

 

बीच बचाव में कर्मचारियों ने कांस्टेबल से लाठी छीन ली। इस पर कांस्टेबल ने पत्थरों से हमला कर दिया। पूरे मामले को लेकर बिजली विभाग की टीम ने सदर थाना में कांस्टेबल के खिलाफ़ मामला दर्ज कराया है।

News Topic : Electricity bills,Jaipur Discom JEN,Under Tonk Sadar Police Station,Annapurna

Firoz Usmani
Firoz Usmani Tonk : परिचय- पत्रकारिता के क्षेत्र में पिछले 15 वर्षो से संवाददाता के रूप में कार्यरत हुंॅ, 9 साल से राजस्थान पत्रिका ग्रुप के सांयकालीन संस्करण (न्यूज़ टुडे) में जिला संवाददाता के रूप से कार्य कर रहा हंू। राजस्थान पत्रिका न्यूज़ चैनल में भी अपनी सेवाएं देता रहा हूं। एवन न्यूज चैनल में भी संवाददाता के रूप में कार्य किया है। अपने पिता स्व. श्री मुश्ताक उस्मानी के सानिध्य में पत्रकारिता की क्षीणता के गुण सीखें। मेरे पिता स्व.श्री मुश्ताक उस्मानी ने भी 40 वर्षो तक पत्रकारिता के क्षैत्र में कार्य किया है। देश के कई बड़े न्यूज़ पेपर से जुड़े रहे। 10 वर्ष दैनिक भास्कर में ब्यूरों चीफ रहें।