टोंक

बेटी के जन्म पर मिलेगा कलक्टर का बधाई संदेश,कलक्टर चिन्मयी गोपाल का नवाचार, बेटी घर की लक्ष्मी

Tonk (फिरोज़ उस्मानी)। कुछ लोग बेटियों को बराबर का दर्जा नहीं देते, वह लड़के और लड़की में फर्क समझते हैं। जब बेटा पैदा होता है तो घर में थाली बजाकर उसका स्वागत किया जाता है,लेकिन अब ऐसा नही है,बेटियां घर की लक्ष्मी होती है, इनको भी समाज मे बराबरी का अधिकार होने के साथ ही सम्मान होना चाहिए।

बेटियों के सम्मान के लिए ऐसे ही नवाचार की शुरुआत टोंक ज़िला कलक्टर चिन्मयी गोपाल ने की है। अब ज़िले में जिस परिवार में बेटी का जन्म होगा, उसके सम्मान में जिला कलक्टर का बधाई संदेश मिलेगा। साथ ही बेटी के बेहतर स्वास्थ्य व उज्जवल भविष्य की कामनां की भी आशा की जाएगी।

इस नवाचार की शुरुआत आज ज़िला कलक्टर चिन्मयी गोपाल, सीईओ सौम्या झा, उपखंड अधिकारी नित्याके व आरएएस अधिकारी नवनीत कुमार ने कलेक्ट्रेट सभागार में बेटी के जन्म पर ज़िला कलक्टर का बधाई संदेश व बाल विवाह मुक्त ग्राम पंचायत पुस्तिका का विमोचन किया गया।

इस नवाचार के तहत अब जिला कलेक्टर चिन्मयी गोपाल की ओर से जिले में बेटी के जन्म पर बधाई संदेशउसके परिजनों को भिजवाया जाएगा। जिसमें बेटी के बेहतर स्वास्थ्य सुनहरे भविष्य की आषा प्रकट की जाएगी। साथ ही बालिका के समस्त टीकाकरण को लेकर भी ध्यान दिलाया जाएगा।

बधाई संदेश में मुख्यमंत्री राजश्री योजना में बेटियों को मिलने वाली 50 हजार रूपये की सहायता की जानकारी भी दी गई है। बाल विवाह मुक्त राजस्थान: साझा अभियान के तहत जिले में बाल विवाह मुक्त ग्राम पंचायत होने से बालक-बालिकाओं में सकारात्मक, भयमुक्त एवं शैक्षिक वातावरण निर्माण संभव हो सकेगा।

कार्यक्रम में महिला अधिकारिता विभाग के सहायक निदेषक प्रकाश यादव , कृषि विभाग के सहायक निदेशक सुगर सिंह मीना एवं एक्षन एड यूनिसेफ के जिला समन्वयक जहीर आलम भी मौजूद रहे।

Firoz Usmani
Firoz Usmani Tonk : परिचय- पत्रकारिता के क्षेत्र में पिछले 15 वर्षो से संवाददाता के रूप में कार्यरत हुंॅ, 9 साल से राजस्थान पत्रिका ग्रुप के सांयकालीन संस्करण (न्यूज़ टुडे) में जिला संवाददाता के रूप से कार्य कर रहा हंू। राजस्थान पत्रिका न्यूज़ चैनल में भी अपनी सेवाएं देता रहा हूं। एवन न्यूज चैनल में भी संवाददाता के रूप में कार्य किया है। अपने पिता स्व. श्री मुश्ताक उस्मानी के सानिध्य में पत्रकारिता की क्षीणता के गुण सीखें। मेरे पिता स्व.श्री मुश्ताक उस्मानी ने भी 40 वर्षो तक पत्रकारिता के क्षैत्र में कार्य किया है। देश के कई बड़े न्यूज़ पेपर से जुड़े रहे। 10 वर्ष दैनिक भास्कर में ब्यूरों चीफ रहें।