बाघ है या जरख दो दिन से बना हुआ हैअसमंजस,2 दिन में भी जानवर पकड़ से दूर

बगीचे वाले किसान की हालत दिनों-दिन हो रही है खराब ग्रामीणों के ऊपर मंडरा रहे हैं खतरें के बादल

Tonk News । टोंक जिले के अलीगढ़़ अलीगढ़़ उपखंड के चौरु के पास लसाडिया गांव में एक किसान के बगीचे में 2 दिन से बाघ की तरह का जानवर विचरण कर रहा है। ग्रामीणों की सूचना पर वन विभाग के अधिकारी भी निरीक्षण कर रहे हैं। लेकिन 2 दिन से असमंजस बना हुआ है कि बगीचे में बाघ है या जरख। अभी तक यह तय नहीं हो पाया है।वहीं इस जानवर के पकड़ में नहीं आने से किसान का हाल बेहाल बना हुआ है।यह जानवर दिन भर तो गायब रहता है एवं रात्रि को निकलता है।इसलिए ग्रामीण भी इससे डरे हुए हैं। वहीं इस जानवर से ग्रामीणों में भय बना हुआ है कि किसी भी वक्त यह किसी पर भी जानलेवा हमला कर सकता है एवं किसानों के जानवरों पर भी हमला कर सकता है।इससे ग्रामीण रात को घरों में ही रहने पर विवश बने हुए हैं एवं अपने कृषि कार्य को भी नहीं कर पा रहे।इस जंगली जानवर के वन कर्मियों ने मौके पर से पद चिन्ह भी लिए है एवं उच्चाधिकारियों को भी भेजे हैं। वहीं विभाग के उच्चाधिकारी पद चिन्ह देखकर जरख होने का अनुमान लगा रहे हैं। लेकिन दो दिन में भी इस जानवर के कैद से बाहर होने के चलते ग्रामीणों में भय का माहौल बना हुआ है। वहीं इससे खतरें के बादल ग्रामीणों के ऊपर मंडरा रहे हैं।

इनका कहना है-

वन विभाग के शंकर लाल मीना का कहना है कि दो दिन से टीम के साथ किसान के बगीचे में जा कर निरीक्षण कर रहा हूँ।अभी तक पद चिन्ह से जरख की तरह लग रहा है।