जयपुर राजस्थान

बीजेपी नेताओं में पायलट की तारीफ करने की होड़, सियासी गलियारों में सुगबुगाहट शुरू,पिछले 3 साल में बीजेपी के एक दर्जन नेता कर चुके हैं सचिन पायलट की प्रशंसा

जयपुर। टोंक से कांग्रेस विधायक और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट की प्रशंसा करने को लेकर इन दिनों बीजेपी में होड़ मची हुई है, एक के बाद एक नेता सचिन पायलट की तारीफों के पुल बांध रहा है। पूर्व में जहां केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, राज्यसभा सांसद रहे ओम माथुर, भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया, उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ के बाद अब नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया का प्रेम सचिन पायलट के लिए खूब प्रेम उमड़ रहा है।

सचिन पायलट के समर्थन में कटारिया कई बार बयान दे चुके हैं, हाल ही में उन्होंने यह कहकर सभी को चौंका दिया कि सचिन पायलट ने मरी हुई कांग्रेस को जिंदा किया था। विपक्ष में रहते हुए खूब मजबूती के साथ काम किया और उसी का परिणाम था कि सरकार कांग्रेस की बनी लेकिन फल किसी और को मिल गया।

दरअसल नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने 1 अगस्त को मेहंदीपुर बालाजी के दर्शन के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि सचिन पायलट ने मरी हुई पार्टी को जिंदा किया सरकार उन के दम पर बनी और फिर भी अशोक गहलोत पायलट को निकम्मा नकारा कहते हैं।

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के इस बयान के बाद सियासी गलियारों में भी सुगबुगाहट शुरू हो गई है। माना जा रहा है कि बीजेपी के नेता सचिन पायलट की तारीफ के बहाने उन पर डोरे डाल रहे हैं।

सचिन पायलट की प्रशंसा करने की एक वजह यह भी

दरअसल सचिन पायलट की प्रशंसा करने की एक वजह यह भी है कि बीजेपी के नेताओ का भी मानना है कि एक वर्ग विशेष में सचिन पायलट का जबरदस्त होल्ड है। अगर सचिन पायलट कांग्रेस का दामन छोड़कर बीजेपी में शामिल होते हैं तो संपूर्ण वोट बैंक बीजेपी के खाते में आ जाएगा।

हालांकि सियासी संकट के दौरान भी बीजेपी ने सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायकों को बीजेपी में आने का न्योता दिया था लेकिन तब पायलट में इस ऑफर को ठुकरा दिया था।

पायलट-गहलोत के बीच लंबी अदावत

वहीं दूसरी ओर पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बीच लंबी अदावत है। सरकार बनने के बाद से ही दोनों के बीच खींचतान चली आ रही है, कई बार दोनों खेमों के बीच जुबानी जंग भी हो चुकी है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जहां कई बार सचिन पायलट को निकम्मा नकारा कह चुके हैं तो वही सचिन पायलट भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर कई बार सियासी बाण छोड़ चुके हैं और उन्हें 2003 और 2013 में विधानसभा चुनाव का हार का जिम्मेदार बता चुके हैं।

मुख्यमंत्री पद पर है पायलट की नजर

वही पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट की नजर इन दिनों मुख्यमंत्री पद पर है। इसके लिए वह लगातार दिल्ली में लॉबिंग भी कर रहे हैं, चर्चा यह भी है कि अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो अगस्त महीने में कांग्रेस में कुछ बड़ा होने वाला है, जिसमें सचिन पायलट को कोई बड़ी भूमिका मिल सकती है।

Sameer Ur Rehman
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/