Religious processions, processions and DJs are not banned in Rajasthan, provided ..
टोंक राजस्थान

धार्मिक जुलूसों में नही बजेंगे साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाले गाने, राज्य सरकार ने जारी की नई गाईडलाइन

टोंक (फ़िरोज़ उस्मानी)। राजस्थान सरकार ने धार्मिक सामाजिक व कार्यक्रमों के लिए नई गाइड लाइन जारी की है।

इस गाइड लाइन के तहत खासतौर पर धार्मिक जुलूसों में बजने वाले साम्प्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाले गानों पर पाबंदी लगाई है। नई गाइड लाइन के तहत खासतौर पर धार्मिक जुलूसों में डीजे पर कौनसा गाना बजेगा ये प्रशासन को सूचना देनी होगी। इसी के बाद ही अनुमति दी जाएगी। अगर जुलूसों में बजाए जाने वाले गाने से अगर किसी तरह का माहौल खराब हो सकता है तो ऐसे गानों पर रोक रहेगी। इसी के साथ ही धार्मिक जुलूसों के लिए रुट की भी जानकारी देनी होगी। बिना अनुमति के कोई कार्यक्रम आयोजित नही किया जा सकेगा। दरअसल करौली में हुई घटना के बाद राज्य सरकार काफी सख्त दिखाई दे रही है। करौली की घटना में पुलिस ने माना है कि जुलूस में जिस तरह के गाने बजाए गए थे, इसके चलते उत्पात मचा था। कुल मिलाकर सरकार की मंशा यही है कि प्रदेश में करौली जैसी घटना दोबारा ना हो, इसके लिए धार्मिक जुलूसों पर पूरी तरह सख्ती रहेगी।

Firoz Usmani
Firoz Usmani Tonk : परिचय- पत्रकारिता के क्षेत्र में पिछले 15 वर्षो से संवाददाता के रूप में कार्यरत हुंॅ, 9 साल से राजस्थान पत्रिका ग्रुप के सांयकालीन संस्करण (न्यूज़ टुडे) में जिला संवाददाता के रूप से कार्य कर रहा हंू। राजस्थान पत्रिका न्यूज़ चैनल में भी अपनी सेवाएं देता रहा हूं। एवन न्यूज चैनल में भी संवाददाता के रूप में कार्य किया है। अपने पिता स्व. श्री मुश्ताक उस्मानी के सानिध्य में पत्रकारिता की क्षीणता के गुण सीखें। मेरे पिता स्व.श्री मुश्ताक उस्मानी ने भी 40 वर्षो तक पत्रकारिता के क्षैत्र में कार्य किया है। देश के कई बड़े न्यूज़ पेपर से जुड़े रहे। 10 वर्ष दैनिक भास्कर में ब्यूरों चीफ रहें।