राजस्थान में यह क्या – गहलोत और पालयट गुट में पथराव, पुलिस को देनी पडी ……

Sikar News। राजस्थान की राजनीति में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और युवा दिलों की धड़कन पूर्व उपमुख्यमंत्री व पूर्व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के बीच अभी भी खिंचा तान और मनमुटाव है तथा प्रदेश में नेता और कार्यकर्ता दोनों ही खेमों में बंटे हुए हैं मतलब राजस्थान में कांग्रेस में ऑल इज वेल नहीं है गहलोत …

राजस्थान में यह क्या – गहलोत और पालयट गुट में पथराव, पुलिस को देनी पडी …… Read More »

February 4, 2021 1:29 pm

Sikar News। राजस्थान की राजनीति में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और युवा दिलों की धड़कन पूर्व उपमुख्यमंत्री व पूर्व कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट के बीच अभी भी खिंचा तान और मनमुटाव है तथा प्रदेश में नेता और कार्यकर्ता दोनों ही खेमों में बंटे हुए हैं मतलब राजस्थान में कांग्रेस में ऑल इज वेल नहीं है गहलोत और पायलट समर्थक नेता और कार्यकर्ताओं में एक दूसरे के प्रति बाहे चढ़ी हुई है और मौका मिलते ही अपना दमखम दिखाने के लिए सारी मर्यादाओं को भूल कर कुश्ती के दंगल की तरह या यूं कहें तो अतिशयोक्ति नहीं होगी कि असामाजिक तत्व तर्ज पर एक दूसरे को मरने मारने पर उतारू हो जाते हैं ऐसा ही घटनाक्रम जन-जन की आस्था के केंद्र और राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल खाटूश्यामजी में घटित हुआ जब पालिका में अध्यक्ष बनाने के लिए गहलोत और पायलट गुट के समर्थक आपस में एक धर्मशाला में भिड़े ही नहीं बल्कि दोनों ओर से जमकर पथराव तक हुआ ।

 

जानकारी के अनुसार सरदारशहर में कांग्रेस पालिका चैयरमेन बना रही है, पहले पायलट गुट की ओर से नामांकन के बाद अब गहलोत गुट ने भी नामांकन कर दिया है । पायलट गुट में विधायक भंवरलाल शर्मा के समर्थक पार्षद है। करीब 20 पार्षदों को लेकर भंवरलाल शर्मा के बेटे अनिल खाटूश्याम की गोल्डन वॉटर पार्क धर्मशाला में परिणाम के बाद से आ गए थे। वहीं गहलोत गुट की ओर से सीताराम सैनी ने भी चैयरमेन के लिए नामांकन तो भर दिया, लेकिन पार्षदों से बात करने के लिए दोपहर करीब तीन चार गाड़ियों में भरकर बाड़ेबंदी में पहुंच गए और पार्षदों को बाहर निकालने को लेकर पहले तो वाकयुद्ध चला जैर जबरदस्ती हुई और फिर धर्मशाला के अंदर और बाहर मौजूद लोगों ने जमकर एक दूसरे पर पथराव किया।

मामले की जानकारी मिलने पर थानाधिकारी पूजा पूनिया, सीओ बनवारी धायल समेत कई पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे। दोनों पक्षों को समझाया गया। सीताराम सैनी के साथ आए हुए लोग पार्षद शिवभगवान और राजकुमारी को जबरन अंदर रोक कर बंधक बनाने का आरोप लगा रहे थे, जबकि दूसरा पक्ष का कहना है कि यदि उनको परेशानी
होती तो वे आसानी से जा सकती थी।

पुलिस ने सीताराम सैनी की बात दोनों पार्षदों से करवाई। दोनों पार्षदों ने
स्वेच्छा से धर्मशाला में ठहरने की बात को कबूल किया। इसके बाद सीताराम सैनी समर्थकों को साथ लेकर सरदारशहर लौट गए।

Prev Post

ओवरटेक के फेर में हुई ट्रेलर-कंटेनर में टक्कर ,चालक और खलासी जिंदा जले

Next Post

क्रिकेट के भगवान तेंदुलकर के ट्वीट पर विधायक संयम लोढा ने लिया आडे हाथों

Related Post

Latest News

पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi

Trending News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 

Top News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
REET - 2022 का परीक्षा परिणाम घोषित 
राजस्थान में रहेगा गहलोत का ही राज, सचिन.. 
Rural Olympic Games - Innovative brilliant initiative of Bhilwara Collector Modi
राजस्थान में PFI पर शिकंजा कसने के कलेक्टर व एस पी को दिए अधिकार, पदाधिकारी भूमिगत
गहलोत नही लडेंगे चुनाव, सिंह कल भरेंगे नामांकन,राजस्थान पर फैसला आज