राजस्थान CM गहलोत ने खोला फिर पिटारा,कर्मचारियों की बल्ले-बल्ले,ओबीसी को राहत,भीलवाड़ा मे गुर्जर समाज को मिली …

Dr. CHETAN THATHERA
6 Min Read

जयपुर/ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर इस चुनावी वर्ष में सरकारी कर्मचारियों और ओबीसी तथा अन्य पिछड़ा वर्ग को लुभाने के लिए अपना पिटारा खोलते हुए काफी रात देखकर एक और मास्टर स्ट्रोक मारा है ।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में मंगलवार रात को मुख्यमंत्री निवास पर राज्य मंत्रिमंडल की बैठक आयोजित हुई। इसमें कार्मिकों के हित में पदोन्नति, पेंशन, स्पेशल-पे, पदनाम के संबंध में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। साथ ही विभिन्न समाजों को छात्रावासों के लिए भूमि आवंटित करने का निर्णय लिया गया। अब 25 वर्ष के सेवाकाल पर मिलेगा पेंशन का पूरा लाभ

मंत्रिमंडल ने राजस्थान सिविल सेवा (पेंशन) नियम, 1996 में संशोधन के प्रस्ताव का अनुमोदन किया है। इससे कार्मिक को 28 वर्ष की अर्हकारी सेवा के स्थान पर 25 वर्ष की सेवा पूर्ण कर सेवानिवृत होने पर ही पूर्ण पेंशन का लाभ प्राप्त हो सकेगा। साथ ही 75 वर्ष के पेंशनर / पारिवारिक पेंशनर को 10 प्रतिशत अतिरिक्त पेंशन भत्ता प्राप्त हो सकेगा। कार्मिक / पेंशनर की मृत्यु की दशा में उसके विवाहित निःशक्त पुत्र / पुत्री तथा 12,500 रुपये प्रतिमाह तक की आय वाले पात्र सदस्यों को भी पारिवारिक पेंशन का लाभ प्राप्त हो सकेगा। इस संशोधन की अधिसूचना दिनांक 1 अप्रैल 2023 से प्रभावी होगी।

कार्मिकों के स्पेशल पे में वृद्धि

मंत्रिमंडल ने राजस्थान सिविल सेवा (पुनरीक्षित वेतन) नियम, 2017 में संशोधन के प्रस्ताव का अनुमोदन किया है। इससे कार्मिकों के विशेष वेतन (स्पेशल पे) में वृद्धि होगी । उल्लेखनीय है की मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने 2023-24 बजट में इसके संबंध में घोषणा की थी, जिसके अनुसार कर्मचारियों तथा अधिकारियों को वर्तमान में देय स्पेशल एलाउंस और स्पेशल पे में वेतन विसंगति परीक्षण समिति की अभिशंषा के अनुरूप वृद्धि किया जाना प्रस्तावित था।

ओबीसी और अन्य पांडा वर्ग को बडी राहत

पिछड़ा वर्ग और अति पिछड़ा वर्ग की रिक्तियां होंगी 3 वर्षों तक अग्रेषित मंत्रिमण्डल ने अब किसी भर्ती वर्ष में पिछड़ा वर्ग और अति पिछड़ा वर्ग के पात्र अभ्यर्थी उपलब्ध नहीं होने की स्थिति में इनकी रिक्तियां अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति वर्ग की तरह आगामी तीन वर्षों तक अग्रेषित करने का निर्णय लिया है। इससे इन वर्गों के अभ्यर्थियों को रोजगार के अधिक अवसर प्राप्त हो सकेंगे।

चिकित्सको को भी राहत

मंत्रिमण्डल ने राजस्थान सिविल सेवा (पुनरीक्षित वेतन) नियम, 2017 की अनुसूची- 5 में संशोधन करते हुए वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारियों को पीजी डिग्री या समकक्ष डिप्लोमा होने पर अग्रिम वेतन वृद्धियों का पूर्ण लाभ देने का निर्णय किया गया है। इसमें वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी से उच्च पदों के लिए अग्रिम वेतन वृद्धियों का प्रावधान होने से उच्च अधिकारियों को भी लाभ प्राप्त हो सकेगा।

अभियोजन सेवा मे भी लाभ

अभियोजन सेवा में अब मिलेगा एक और अतिरिक्त पदोन्नति का अवसर मंत्रिमण्डल की बैठक में राजस्थान अभियोजन सेवा (संशोधन) नियम, 2023 का अनुमोदन करते हुए अभियोजन सेवा के अधिकारियों को एक अतिरिक्त पदोन्नति का अवसर देने का निर्णय किया है। इसके तहत संयुक्त निदेशक अभियोजन का एक नवीन पद सृजित और अतिरिक्त निदेशक के पद का पे लेवल L-20 से 121 किया गया है।

कार्यप्रभारित कार्मिकों को अब नियमित कार्मिकों की तर्ज पर वेतनमान, पदनाम

मंत्रिमण्डल ने राजस्थान सिविल सेवा (पुनरीक्षित वेतनमान ) नियम 1989, 1998, 2008 और 2017 में संशोधन कर कार्यप्रभारित कार्मिकों को नियमित कार्मिकों की तर्ज पर वेतनमान एवं पदनाम देने का निर्णय किया है।

चार सेवा नियम कार्मिक विभाग की अधिसूचना में शामिल

मंत्रिमण्डल ने कार्मिक विभाग की अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति की रिक्तियों के आरक्षण के संबंध में 17.01.2013 को जारी अधिसूचना में राजस्थान मत्स्य राज्य और अधीनस्थ सेवा नियम-2012 राजस्थान अधीनस्थ सेवा (भर्ती एवं अन्य सेवा शर्तें) नियम-2001 राजस्थान मदरसा शिक्षा सहायक अधीनस्थ सेवा नियम-2013 और राजस्थान विद्यालय सहायक अधीनस्थ सेवा नियम-2015 को शामिल करने का निर्णय किया है।

महाविद्यालय का नाम बदला

आयुर्विज्ञान महाविद्यालय दौसा का नामकरण पंडित नवल किशोर शर्मा के नाम पर मंत्रिमंडल ने आयुर्विज्ञान महाविद्यालय दौसा का नामकरण ‘पं नवल किशोर शर्मा आयुर्विज्ञान महाविद्यालय दौसा किए जाने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने 11 मई, 2023 को पंडित नवल किशोर शर्मा की प्रतिमा के अनावरण कार्यक्रम में इसके संबंध में घोषणा की थी। श्री शर्मा का राजनीति के साथ-साथ खादी उद्योग के विकास में महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

 

भीलवाड़ा व बीकानेर मे छात्रावासों के लिए रियायती दर पर भूमि

 

मंत्रिमंडल में वीर गुर्जर विकास एवं धर्मार्थ ट्रस्ट, भीलवाडा तथा रैगर समाज बीकानेर को भूमि आवंटित करने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया है वीर गुर्जर विकास एवं धर्मार्थ ट्रस्ट, भीलवाड़ा को छात्रावास के लिए नगर विकास न्यास भीलवाड़ा की आरसी व्यास नगर योजना के सेक्टर-9 में 280.08 वर्गगज का भूखण्ड आरक्षित दर की 5 प्रतिशत दर पर आवंटित किए जाने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया है। रैगर समाज बीकानेर को छात्रावास के लिए नगर विकास न्यास बीकानेर की स्वर्ण जयंती योजना में 15000 वर्गफुट भूमि आवासीय आरक्षित दर की 5 प्रतिशत दर पर आवंटित करने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया है। इस निर्णय से भीलवाड़ा और बीकानेर में गरीब छात्रों को निशुल्क ठहरने की व्यवस्था का लाभ मिलेगा।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम