प्रसूति के दौरान निजी चिकित्सालयो द्वारा अनावश्यक वसूली तो होगी कार्यवाही

Dr. CHETAN THATHERA
2 Min Read

Bhilwara News ।  चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त  मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के जिला अधिकारियों को पत्र जारी कर निर्देश दिए हैं कि कुछ निजी चिकित्सालयों द्वारा COVID-19 त्रासदी के दौरान प्रसूताओं के परिजनों से  पी पी ई किट(ppe kit) एवं स्टाफ के नाम पर अनावश्यक राशि वसूलने के प्रयास किए जा रहे हैं। सामान्य प्रसव को भी अति आवश्यक बताकर सिजेरियन प्रसव कराने की शिकायतें भी प्राप्त हो रही है।

उन्होंने निर्देशित किया कि यह पूर्णतया अनुचित है, जबकि निजी चिकित्सालयो द्वारा एनएफएसए एवं एस ई सी सी श्रेणी के लाभार्थियों को निशुल्क चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने हेतु राज्य सरकार के साथ अनुबंध किया गया है साथ ही अन्य लोगों से भी तय राशि अनुसार ही निर्धारित शुल्क लिया जा सकता है।

अतिरिक्त मुख्य सचिव ने समस्त जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे समस्त निजी चिकित्सालयों को पाबंद करें, साथ ही रेंडम बेसिस पर चिकित्सालय में भर्ती प्रसूताओं एवं अन्य महिलाओं से वार्ता कर अनावश्यक ली गई राशि के बारे में जानकारी प्राप्त करें। कोरोनावायरस त्रासदी के दौरान अप्रत्याशित रूप से सिजेरियन प्रसव की संख्या अधिक पाई जाती है तो तत्काल पाबंद करें। जिले में सभी निजी चिकित्सालय के परिसर में, जिला स्तरीय कंट्रोल रूम के फोन नंबर भी चस्पा कराए जाएं।

इस प्रकार के प्रकरणों में कहीं से भी शिकायत आती है तो प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित की जाए, साथ ही आमजन में मीडिया के माध्यम से जागरूकता फैलाते हुए संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने की कार्यवाही भी की जाए।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम