प्रशासन पर पथराव मामले मे सीआईडी (सीबी) ने किया 8 फरार आरोपियों का ‘बेनाम’ इश्तहार जारी

Nagour news ( चेतन ठठेरा ) ।ताऊसर ग्राम पंचायत की गोचर भूमि पर बने बंजारा समाज के मकान तोडऩे के दौरान गत वर्ष 25 अगस्त को उपजे विवाद के बाद नागौर एसडीएम दीपांशु सांगवान द्वारा दर्ज कराए गए राजकार्य में बाधा एवं पुलिस व प्रशासन की टीम पर पथराव मामले में सीआईडी (सीबी) अब कार्रवाई के मूड में आ गई है।
अजमेर रेंज सीआईडी (सीबी) की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यशविनी राजौरिया के नेतृत्व में टीम पिछले काफी दिनों से नागौर सर्किट हाउस में डेरा डाले हुए हैं। टीम ने पिछले करीब पांच-छह महीनों में सभी पक्षों के बयान दर्ज करने के बाद अब गिरफ्तारियां शुरू कर दी है। गत 19 फरवरी को ही टीम ने नागौर कोतवाली पुलिस की सहायता से छह आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया था, जहां से सभी को जेल भेजा गया। सोमवार को टीम ने अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान पथराव करने वाले आरोपियों की वीडियो फुटेज से फोटो निकालकर ‘बेनाम’ इश्तहार जारी किया है, जिसमें कुल आठ आरोपियों के फोटो प्रकाशित किए गए हैं तथा उन्हें फरार बताते हुए आमजन से जानकारी मांगी गई है। इश्तहार में सूचना देने के लिए नागौर एसपी डॉ. विकास पाठक, सीआईडी (सीबी) की अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यशविनी राजौरिया व कोतवाली थानाधिकारी अमराराम खोखर के नाम एवं मोबाइल नम्बर भी प्रकाशित किए गए हैं।

क्या था मामला


गौरतलब है कि नागौर उपखंड अधिकारी सांगवान ने 25 अगस्त 2019 को रिपोर्ट देकर बताया कि वे पुलिस एवं प्रशासनिक दल-बल के साथ 25 अगस्त को सुबह 7 बंजारों की ढाणियों में अतिक्रमण हटाने के लिए गए थे। पूर्व नियोजित योजना के अनुसार अलग-अलग दल बनाकर शांतिपूर्वक अतिक्रमण हटाया जा रहा था, उस दौरान हनुमान बंजारा ने पीछे की तरफ मुडकऱ हाथ ऊपर कर भीड़ की तरफ इशारा किया।

जिसके फलस्वरूप भीड़ उत्तेजित हो गई व सुनियोजित विद्रोह का आगाज कर दिया। एसडीएम ने रिपोर्ट में बताया कि 200-250 महिला-पुरुषों ने एक राय होकर उनके तथा उनकी टीम पर जानलेवा हमला किया व विधि पूर्ण कार्रवाई को रोकने का प्रयास करते हुए पत्थर बाजी की। हमले में जेसीबी चालक फारूख खान पुत्र रसूल खान घायल हो गया, जिसकी अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई थी।

यह है नामजद आरोपी


एसडीएम की रिपोर्ट पर पुलिस ने हनुमान बंजारा, आत्माराम बंजारा, जेठाराम बंजारा भागीरथ बंजारा मंगला राम बंजारा, दरबाराम बंजारा, सामरी बंजारा, रामूराम बंजारा, जगदीश बंजारा, मंगाराम बंजारा, दिनेश बंजारा, भागीरथ बंजारा, झूमर राम बंजारा, चेनाराम बंजारा, अवतार बंजारा, गणपत बंजारा चन्दणाराम बंजारा, गलकू बंजारा, धन्नाराम बंजारा, मोडाराम बंजारा, पाबूराम बंजारा, नेतल बंजारा, श्रवण बंजारा, चूनाराम बंजारा, बाबाराम बंजारा, रावत राम बंजारा, किशना राम बंजारा के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया था।

ये हो चुके गिरफ्तार


पुलिस के अनुसार मामले में गत 19 फरवरी को ताऊसर के रामनाडा निवासी हनुमानराम बंजारा (22), हनुमानराम (45) पुत्र मंगलाराम बंजारा, मोडाराम (46) पुत्र कानाराम बंजारा, पाबूराम (46) पुत्र सोनाराम बंजारा, आत्माराम (41) पुत्र मोटाराम बंजारा एवं अवतार राम (42) पुत्र शेराराम बंजारा को गिरफ्तार कर न्यायालय के आदेश पर जेल भेजा था