आरक्षण में संशोधन के लिए ओबीसी के लोगों का विरोध-प्रदर्शन, रैली निकाल दी चेतावनी

टोंक/पीपलू (ओपी शर्मा)। ओबीसी आरक्षण संघर्ष समिति एवं एनएसयूआई ने ओबीसी आरक्षण व्यवस्था में 2018 में हुए संशोधन से ओबीसी पुरुष आरक्षण को भारी नुकसान के खिलाफ कस्बे के बसस्टैंड से उपखंड कार्यालय तक नारेबाजी करते रैली निकाल कर प्रदर्शन किया तथा मुख्यमंत्री के नाम उपखंड अधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

युवाओं ने सरकार के खिलाफ हल्ला बोलते हुए भूतपूर्व सैनिकों का आरक्षण कोटा अलग करने या फिर 2018 से पूर्व की भांति आरक्षण व्यवस्था लागू करने की मांग की।

युवाओं ने सरकार को चेताया कि हमारे साथ अन्याय हो रहा है, दिन रात मेहनत कर टॉपर रहने वाले स्टूडेंट भी नौकरी नहीं लग पा रहे है।

पुरानी आरक्षण व्यवस्था जल्द बहाल करें। इस दौरान एनएसयूआई ब्लॉक अध्यक्ष मनन नामा, जीतू दगोलिया, राहुल सैन, बलराम आचार्य, अनिल चौधरी, विमलेश सैनी, अजय, हरिराम प्रजापत, सांवरा पांचाल, अमित टेलर, सांवरमल दगोलिया, जितेन्द्र योगी, जीतराम माली, मनोज, लखन साहू आदि शामिल रहे।

शिक्षक ने सेवानिवृत्ति पर विद्यालय में दिए 51 हजार रुपए

– पूर्व छात्रों ने चांदी का मुकुट पहनाकर दी विदाई

पीपलू (ओपी शर्मा)।उपखंड क्षेत्र के सिसोला निवासी शिक्षक बुद्धिप्रकाश शर्मा की सेवानिवृत्ति पर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय चांदली में सम्मान कार्यक्रम आयोजित हुआ। शिक्षक ने सेवानिवृत्ति पर विद्यालय विकास को लेकर 51 हजार रुपए का सहयोग दिया। इस सहयोग से विद्यार्थियों के लिए टेबल-बैंच ली गई।

प्रधानाचार्य चंद्रप्रकाश माहेश्वरी ने कहा कि सेवानिवृत्ति के बाद शिक्षक को अन्य कार्यों से जुडऩा चाहिए, जिससे वह मानसिक व शारीरिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ रह सकें। इस दौरान पूर्व विद्यार्थियों के संगठन ने भी शिक्षक को चांदी का मुकुट पहनाकर सम्मानित करते हुए भावभीनी विदाई दी।

बुद्धिप्रकाश शर्मा को 31 दिसंबर 1986 को उच्च प्राथमिक विद्यालय बीजवाड़ में प्रथम नियुक्ति मिली। इसके बाद राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय बगड़ी में रहते हुए प्रवासी भारतीय गरिमा त्यागी को प्रेरित कर वहां विद्यालय विकास को लेकर करीब 2 लाख के सहयोग से शैक्षणिक एवं तकनीकी सामग्रियां जुटाई।

वहीं राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय चांदली में भी स्काउट उद्यान विकसित करने, प्रवासी भारतीय के सहयोग से विद्यालय विकास के लिए शैक्षणिक सामग्री जुटाने का सराहनीय कार्य किया। इसको लेकर उन्हें जिलास्तर भी पुरस्कृत किया गया था।