जयपुर राजस्थान

नुपूर मामला – राजस्थान पुलिस ही अजमेर के सलमान चिश्ती को कहती , ऐसा बोलेगा तो बच जाएगा, देखें वीडियो

जयपुर/ राजस्थान की पुलिस और अधिकारी ही प्रदेश में नूपुर शर्मा का सर कलम करने और उसकी हत्या करने वाले को मकान इनाम में देने की घोषणा का वीडियो बनाकर वायरल करने वाले को ही बचा रही हैं इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसमें पुलिस का ऐसा चेहरा बेनकाब हो रहा है ? अगर पुलिस ही इस तरह सांप्रदायिकता भड़काने वालों को बचाने लग गई तो फिर प्रदेश में सौहार्द का वातावरण कैसे बन सकता है यह विचारणीय विषय है?

एक टीवी चैनल पर डिबेट के दौरान हजरत मोहम्मद पैगंबर साहब पर टिप्पणी को लेकर विवाद में आई भाजपा की निलंबित पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता नूपुर शर्मा का समर्थन करने वालों की हत्या और धमकियों का सिलसिला तो जारी है ही इसी मामले में अजमेर दरगाह क्षेत्र में रहने वाले खादिम सलमान चिश्ती द्वारा उदयपुर में कन्हैया लाल साहू दर्जी के तालिबानी हत्याकांड से पहले और बाद में आरोपी रियाज अटारी और गौस मोहम्मद द्वारा बनाए गए वीडियो और फिर इस वीडियो को वायरल करने की तर्ज पर ही सलमान चिश्ती ने एक वीडियो बनाकर वायरल किया था।

इस वीडियो में सलमान ने पहले नूपुर की हत्या करने तथा बाद में इसी वीडियो में ही नूपुर की हत्या करने वाले को स्वयं का मकान इनाम में देने की बात कहते हुए वीडियो बनाकर वायरल किया था इस मामले में दरगाह पुलिस ने सलमान को गिरफ्तार किया और इस गिरफ्तारी के दौरान ही पुलिस कस्टडी में ही सलमान से जब पूछा गया कि तुमने वीडियो कौन सा नशा करके बनाया तो सलमान ने कहा कि मैं कोई नशा नहीं करता इस पर डिप्टी एसपी दरगाह संदीप सारस्वत ने कहा कि ” ऐसे बोल कि मैंने नशे की हालत में विडियो बनाया है तो तू बच जाएगा” । इस वीडियो के सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद अजमेर पुलिस संदेह के दायरे में आ गई है और चर्चा होने लगी कि पुलिस ही दंगा भड़काने वाले और सांप्रदायिकता फैलाने वालों को बचाने का प्रयास कर रही है।

 

इस वीडियो के वायरल होने पर एक्शन में हाय पुलिस अधिकारियों ने डिप्टी एसपी सारस्वत को दरगाह क्षेत्र से हटाकर लाइन भेज दिया है।

लेकिन आमजन में यह चर्चा है कि केवल पुलिस अधिकारी को इस कृत्य के लिए लाइन भेजना ही कोई समाधान नहीं है ऐसे अधिकारियों और पुलिसकर्मियों के खिलाफ जो संपर्क था भड़काने वाले दंगा फैलाने वालों को मदद कर रहे हैं उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए ?

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम