तस्करों ने खेली खून की होली: दो की हत्याएं और दो घायल

Jodhpur News। तस्करों ने बुधवार को डांगियावास से पांच लोगों का अपहरण किया। बुरी तरह मारपीट कर दो की लाशें इधर उधर फेेंक दी। दो घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। पांचवा शख्स का पता नहीं लगा है। शव देर रात मिलने पर कमिश्ररेट पुलिस हरकत में आई और नाकाबंदी करवाने के साथ हत्यारों की तलाश में संभाग भर मेें सर्चं चलाया। दोपहर तक कोई हत्यारा हाथ नहीं लगा। इस घटनाक्रम को लेकर नागौर सांसद हनुमान बेनिवाल ने ट्वीट कर जोधपुर कमिश्ररेट पुलिस को तत्काल एक्शन लेने और हत्यारों को पकडऩे की मांग रखी। इधर जाट समाज से जुड़े कई लोग शहर के मथुरादास माथुर अस्पताल में जुट गए। साथ ही जल्द ही हत्यारों की गिरफ्तारी मांग करते हुए डांगियवास पुलिस थाना प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग। शहर में इस घटना की जानकारी आग की तरह फेलने से सनसनी हो गई। हत्या की वजह आरंभिक तौर पर तस्करी के एक ट्रक को लेकर होना माना जाता है। इसमें तस्कर मांगीलाल नोखड़ा व उसके भाई सुरेश नोखड़ा के आदमियों का हाथ होने का भी अंदेशा जताया जाता है।

मृतकों के परिजन और पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पता लगा कि बुधवार दोपहर दो बजे डांगियावास क्षेत्र से पांच लोगों बोयल निवासी महेंद्र पुत्र मोहनराम, डांगियावास के भैराराम जाट, इनकी गाड़ी का चालक दूदे खां, श्रवण और कंवराराम का इनके घरों से 15- 20 बदमाशों ने अपहरण कर ले गए थे। कई घंटों तक गाडिय़ों में घुमाते रहने के साथ मारपीट की गई। बुरी तरह की गई मारपीट में महेद्र बोयल और भैराराम की मौत हो गई।
फिर बुधवार रात महेंद्र का शव शहर के बासनी हलके में मेडिपल्स अस्पताल के निकट डाल दिया गया। बताया जाता है कि स्कार्पियो में आए बदमाशों ने शव को वहां डाला। मंंगलवार सुबह फिर सूचना मिली कि एम्स रोड बोरानाडा हलके में नारनाड़ी के पास में युवक को एक और शव मिला है। जो भैराराम का निकला। एक के बाद एक शव मिलने से पुलिस के हाथपैर फूल गए। हालांकि रात वाले मामले में पुलिस को पता लग गया था। बासनी पुलिस व डीसीपी वेस्ट भी मेडिपल्स अस्पताल के पास में पहुंच गए थे।
सूत्रों के मुताबिक सुबह फिर नारनाडी स्थित एक मंदिर के पास में दूदे खां घायलावस्था में पड़ा मिला। इस इस पर उसे मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती कराया गया। वह फिलहाल बयान देने की स्थिति में नहीं है ऐसा बताया गया है। दो और अपहृर्त श्रवण व कंवराराम का पता नहीं चला है। मगर बताया जाता है कि श्रवण मारपीट में कुछ जख्मी होने पर पुलिस उसे साथ लेकर गई है ताकि हत्यारों का पता लगाया जा सके। कंवराराम का कहां है इस बारे में अभी जानकारी नहीं हुई है।
यह रंजिश आ रही है सामने:
एसीपी बोरानाडा मांगीलाल राठौड़ ने बताया कि हत्या की वजह आरंभिक तौर पर तस्करों की रंजिश हो सकती है। तीन दिन पहले तस्करों की एक अफीम से लदा ट्रक आना था। जोकि लूट लिया गया था। ऐसे में अंदेशाा है कि उन तस्करों ने उक्त लोगों पर संदेह जाहिर किया होगा। जिसके चलते से घटनाक्रम हुआ है।
मांगीलाल नोखड़ा गैंग का अंदेशा:
सूत्रों की माने तो लोहावट के मांगीलाल नोखड़ा तस्करी किंग है। यह ट्रक संभवत: उसकी पार्टी द्वारा मंगवाया गया था। मगर बाद में ट्रक लूट हो गई थी। जिस पर वह इन लोगों पर संदेह जाहिर कर रहा था। इस अपहरण एवं हत्याकांड में मांगीलाल नोखड़ा के भाई सुरेश नोखड़ा पर भी संदेह जाहिर किया जा रहा है। वह भी इसमें शामिल हो सकता है।