मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट में जोधपुर को कई सौगातें दी

जोधपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने तीसरे कार्यकाल के तीसरे बजट में जोधपुर को कई सौगातें दी है। राज्य विधानसभा में आज अगले वित्त वर्ष का बजट पेश करते हुए गहलोत ने जोधपुर की सेहत और शिक्षा का पूरा ध्यान रखते हुए कई सौगातें प्रदान की है। इंफ्रास्ट्रक्चर में भी कई सौगातें दी गई है। इसमें सीवरेज और यातायात सुधार की घोषणाओं में कुछ राहत दी गई है। भैरव नाले के लिए भी बजट दिया गया है। उन्होंने बरकतुल्ला खां स्टेडियम के विकास के लिए बीस करोड़ रुपए की घोषणा की है।

इससे अब यहां आईपीएल व अंतरराष्ट्रीय मैच होने की संभावना बढ़ गई है। शिक्षा के क्षेत्र में गहलोत ने जोधपुर में 400 करोड़ की लागत से नई डिजिटल यूनिवर्सिटी खोलने की घोषणा की। इस तरह की यह प्रदेश की पहली यूनिवर्सिटी होगी। इसी तरह गहलोत ने जोधपुर में पब्लिक हेल्थ कॉलेज, योग नेचुरोपैथी का कॉलेज, आयुर्वेद यूनिवर्सिटी में पंचकर्म का इंटरनेशनल सेंटर के अलावा सूरसागर में गल्र्स महाविद्यालय खोलने की घोषणा की।

कई महत्वपूर्ण घोषणाएं:

वहीं उम्मेद अस्पताल में नेशनल लेवल का न्यू नैटल इंस्टीट्यूट स्थापित करने की घोषणा की जबकि चिकित्सा के क्षेत्र में गहलोत ने एमडीएम में 17 करोड़ की लागत से नई डायग्नोस्टिक विंग, मेडिकल कॉलेज में गठिया रोग के लिए अलग से विभाग, पावटा अस्पताल के बेड क्षमता डेढ़ सौ से तीन सौ करने, 50 बेड का नया आईसीयू बनाने, जोधपुर में रीजनल कैंसर इंस्टीट्यूट स्थापित करने, एमडीएम के ट्रोमा सेंटर के विस्तार के लिए 25 करोड़ रुपए देने की घोषणा की। मथुरादास माथुर अस्पताल में 17 करोड़ की लागत से डाइग्नोस्टिक विंग की स्थापना होगी। उम्मेद अस्पताल में पीडियाट्रिक यूरोलॉजी विभाग शुरू करने की घोषणा। तिंवरी में नया पीएचसी, पीलवा लोहावट में पीएचसी को सामुदायिक स्वाथ्य केंद में तब्दील किया जाएगा।

वहीं मथानिया को सरकारी अस्पताल में क्रमोन्नत किया जाएगा। पिछले बजट में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कंवेेंशन सेंटर के लिए डीपीआर की घोषणा की गई थी। इस बार इसके लिए 60 करोड़ का प्रावधान सीएम गहलोत ने किया है। 150 सौ की क्षमता का ऑडिटोरियम व कंवेंशन सेंटर प्रभावित है। इसे फिलहाल पालिटेक्निक कॉलेज में प्रस्तावित किया गया है।