बावड़ियों की नगरी जोधपुर

जयपुर से अलवर जाएं तो रास्ते में भानगढ़ आता है जहां बनी आभानेरी बावड़ी के सुंदर शिल्प की दुनिया भर में चर्चा है। कुछ अंतरराष्ट्रीय फिल्मों की वहां शूटिंग भी हुई है। दूर दूर से सैलानी वहां पहुंचते हैं और सेल्फियां लेते हैं, बावड़ी के सामने खड़े अपनों की तस्वीरें खींचते है। आभानेरी तो एक …

बावड़ियों की नगरी जोधपुर Read More »

January 8, 2022 1:52 pm
बावड़ियों की नगरी जोधपुरcity ​​of stepwells jodhpur%%title%% %%sep%% %%sitename%%

जयपुर से अलवर जाएं तो रास्ते में भानगढ़ आता है जहां बनी आभानेरी बावड़ी के सुंदर शिल्प की दुनिया भर में चर्चा है। कुछ अंतरराष्ट्रीय फिल्मों की वहां शूटिंग भी हुई है। दूर दूर से सैलानी वहां पहुंचते हैं और सेल्फियां लेते हैं, बावड़ी के सामने खड़े अपनों की तस्वीरें खींचते है। आभानेरी तो एक बावड़ी है। क्या आपको मालूम है जोधपुर में ऐसी अनेक कलात्मक बावड़ियां मौजूद हैं।

मारवाड़ का यह सिरमौर नगर “सूर्यनगरी” के नाम से विख्यात रहा है। इन दिनों इसे “नीली नगरी” भी कहा जाने लगा है क्योंकि यहां लोग अपने घरों की दीवारों की बाहर से नील डाल कर पुताई करते हैं। मगर जितनी बावड़ियां इस नगर में हैं उसे देखते हुए इसे “बावड़ियों की नगरी” कहा जाय तो गलत नहीं होगा।

बावड़ियों की नगरी

यहां चित्रों में देखिए क्या ‘तूरजी का झालरा’ नाम की यह विशाल बावड़ी कहीं भी आभानेरी से कम पड़ती है? बावड़ी ही क्यों उसके इर्द गिर्द पत्थरों पर कमाल की नक्काशी वाली इमारतें भी यहां के बासिंदों ने संभाल और सहेज रखी है।

यह बावड़ी सन् 1740 में जोधपुर की महारानी तंवर जी ने बनवाई थी। कुल 200 फीट गहरी यह बावड़ी जोधपुर के प्रसिद्ध लाल घाटू पत्थरों को तराश कर बनाई गई। यह पत्थर कोमल होता है जिस पर नक्काशी आसान होती है।

नृत्य मुद्रा में हाथियों की प्रतिमाएं, अप्सराओं की नक्काशी वाले आले तथा दो स्तरों पर पानी ऊपर खींच कर एक टैंक में एकत्र करने की पर्शियन व्हील की मूल व्यवस्था आज भी देखी जा सकती है। यह झालरे ने लंबे समय तक इस नगर के लोगों की प्यास बुझाई। यह बावड़ी आज पर्यटन का जरिया बन कर सैकड़ों को रोज़गार देती है।

जोधपुर की बावड़ियों की बात चले और तापी बावड़ी का जिक्र हुए बिना नहीं रहता जिसके वैभव को नगर के युवाओं ने बचा रखा है।

दूसरी तरफ इतनी ही विशाल और सुंदर ‘क्रिया का झालरा’ नाम की बावड़ी इंतजार कर रही है कि कोई इसे संभाले। ‘जालप बावड़ी’ और ‘नाज़र जी की बावड़ी’ का तो समाजों ने ही गला घोंट दिया है।

Prev Post

पुलिस कर्मियों का होगा निशुल्क वार्षिक स्वास्थ्य परीक्षण

Next Post

क्या है बिटकॉइन और इसका भविष्य क्या है ?

Related Post

Latest News

पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज
बीसलपुर की लाइन टूटी, 15 दिन बाद भी नही हुई ठीक

Trending News

कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान

Top News

टोंक जिला स्तरीय राजीव गांधी युवा मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित%%page%% %%sep%% %%sitename%%
Upload state insurance and GPF passbook in new version of SIPF
मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से सुमन, रिजवाना बानो एवं दिनेश को मिली राहत
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज
बीसलपुर की लाइन टूटी, 15 दिन बाद भी नही हुई ठीक
Tonk: आवारा श्वान ने 7 लोगों को काटा, अस्पताल गए तो वहां भी नही हुई सार संभाल ,VIDEO 
IAS अतहर और डाॅ. महरीन आज बंधे शादी के बंधन में ,VIDEO
राजस्थान के सरकारी स्कूलों में मूल निवास प्रमाण पत्र बनवाने की जिम्मेदारी संस्था प्रधान की
पूर्व मंत्री और NCP नेता भुजबल का दुबई कनेक्शन का आरोप, FIR दर्ज