पोकरण फायरिंग रेंज में टारगेट से पहले फटा गोला, बीएसएफ का एक जवान शहीद, तीन घायल

murder

जैसलमेर। सीमावर्ती जिले की पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज में अभ्यास के दौरान 105 एमएम गन का गोला टारगेट से पहले ही फट गया, जिसमें सीमा सुरक्षा बल का एक जवान शहीद हो गया, जबकि तीन अन्य जवान घायल हो गए। जोधपुर स्थित बीएसएफ के राजस्थान फ्रंटियर मुख्यालय ने हादसे की पुष्टि की है। पिछले 4 दिन के दौरान पोकरण में 105 एमएम गन से यह दूसरा हादसा हुआ है। तब गन की बैरल फटने से एक जवान जख्मी हो गया था। बीएसएफ ने पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

सैन्य सूत्रों के मुताबिक बीएसएफ इन दिनों सेना की पोकरण स्थित फायरिंग रेंज में अभ्यास कर रही है। सीमा के निकट किशनगढ़ में बीएसएफ की खुद की फायरिंग रेंज है, लेकिन 105 एमएम गन की रेंज 17 किलोमीटर होने के कारण इससे गोले दागने का अभ्यास बड़ी फायरिंग रेंज पोकरण में किया जा रहा है। मंगलवार देर रात इस गन से एक गोला दागते ही यह दूर जाने के बजाए बाहर निकलते ही फट गया। इस गन के पास खड़े चार जवान घायल हो गए। बाद में उत्तर प्रदेश निवासी जवान सतीश कुमार की सांसें थम गईं। तीन अन्य घायलों का इलाज चल रहा है। इनकी हालत खतरे से बाहर है।

जोधपुर स्थित बीएसएफ के राजस्थान फ्रंटियर मुख्यालय का कहना है कि हादसे के कारणों का पता लगाया जा रहा है। अमूमन गोला अपने लक्ष्य पर जाकर ही फटता है। पता लगाया जाएगा कि चूक किस स्तर पर और कैसे हुई? ताकि भविष्य में इस तरह के हादसों से बचा जा सके। इससे पहले शनिवार को फायरिंग रेंज में 105 एमएम गन से गोले दागने के दौरान बैरल फटने से सेना का एक जवान घायल हो गया था। उसका जोधपुर के सैन्य अस्पताल में इलाज चल रहा है।

गुजरात के भुज से बीएसएफ की 1077वीं बटालियन पोकरण फील्ड फायरिंग रेंज में अभ्यास के लिए आई हुई है। देर रात आर्टिलरी अभ्यास के दौरान 105 एमएम गन से अभ्यास के दौरान यह हादसा हुआ, जिसमें बीएसएफ के एक जवान 32 वर्षीय सतीश कुमार पुत्र छत्रपाल सिंह निवासी आगरा (उत्तरप्रदेश) की मौत हो गई, जबकि तीन जवान घायल हो गए। गंभीर रूप से घायल जवानों को प्राथमिक उपचार के बाद जोधपुर रेफर कर दिया गया है।