जयपुर राजस्थान

Jaipur / परिवहन विभाग के 7 अधिकारी, 9 दलालों को ACB ने दबोचा छापे के दौरान 1.20 करोड़ की नकदी मिली, तलाशी अभियान जारी है

Jaipur News (फ़िरोज़ उस्मानी)। परिवहन विभाग में दलालों के जरिये वाहन मालिकों को डरा-धमकाकर मासिक बंधी वसूलने का भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने बड़ा खुलासा किया है। मामले में परिवहन निरीक्षक को दलाल से चालीस हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है।

एसीबी टीम ने दलाल के पास से अन्य अधिकारियों को बंधी देने के लिए रखे एक लाख बीस हजार रुपए भी जब्त किए गए। इसी के साथ ब्यूरो की ओर से परिवहन विभाग के सात अधिकारियों और नौ दलालों को निरुद्ध कर चलाए गए तलाशी अभियान में अब तक करीब एक करोड़ बीस लाख रुपए नगद, प्रोपर्टी के दस्तावेज तथा मध्यस्थ दलालों के पास से रिश्वत लेनदेन की सूचियों सहित अन्य महत्वपूर्ण साक्ष्य बरामद किये गये है।

एसीबी के महानिदेशक आलोक त्रिपाठी ने बताया कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो को परिवहन विभाग के अधिकारियों की ओर से दलालों के जरिये वाहन मालिकों को डरा-धमकाकर मासिक बन्धी के रूप में रिश्वत राशि प्राप्त करने की सूचना मिली। इस पर मामले की जांच की गई। सत्यापन होने पर ये कार्रवाई गुप्त रूप से अमल में लाई गई।

इस पर ब्यूरो मुख्यालय से महानिदेशक डॉ. आलोक त्रिपाठी के निर्देशानुसार अतिरिक्त महानिदेशक दिनेश एमएन की ओर से डेढ़ दर्जन टीमों का गठन किया गया। परिवहन निरीक्षक उदयवीर सिंह को दलाल मनीष मिश्रा के द्वारा चालीस हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया एवं मनीष मिश्रा के पास से अन्य अधिकारियों को मासिक बन्धी देने के लिए रखे एक लाख बीस हजार रुपए भी जब्त किये गये। इस प्रकार बड़े पैमाने पर प्राईवेट दलालों के जरिये वाहनों की सूची बनाकर उनकी मासिक बन्धी प्राप्त की जा रही थी तथा उसे परिवहन विभाग के अधिकारियों को पहुंचाया जा रहा था।

तलाशी अभियान जारी

इस क्रम में परिवहन विभाग के अधिकारी डीटीओ शाहजहांपुर गजेन्द्र सिंह, डीटीओ चौमू विनय बंसल, डीटीओ मुख्यालय महेश शर्मा तथा परिवहन निरीक्षक शिवचरण मीणा, उदयवीर सिंह, आलोक बुढानिया, नवीन जैन रतनलाल को निरूद्ध कर इनके निवास की तलाशी की जा रही है। इसके अतिरिक्त प्राईवेट व्यक्ति मध्यस्थ दलाल जसवन्त सिंह यादव, बस संचालक गोल्ड लाइन ट्रांसपोर्ट कम्पनी, विष्णु कुमार-तनुश्री लॉजिस्टिक, ममता पत्नी योगेश कुमार उर्फ बन्टी-तनुश्री लॉजिस्टिक, मनीष मिश्रा-तनुश्री लॉजिस्टिक, रणवीर, पवन उर्फ पहलवान तथा विष्णु कौशिक को भी ब्यूरो की ओर से निरूद्ध किया जाकर उनके निवास तथा व्यावसायिक प्रतिष्ठानों की तलाशी का अभियान जारी है।

एक करोड़ बीस लाख रुपए के करीब नगदी के साक्ष्य

ब्यूरो के दलों की ओर से किये जा रहे तलाशी अभियान में अब तक एक करोड़ बीस लाख रुपए के करीब नगद, प्रोपर्टी के दस्तावेज तथा मध्यस्थ दलालों के पास से रिश्वत लेनदेन की सूचियां, हिसाब-किताब का ब्योरा तथा लेपटॉप-मोबाईल फोन पर लेनदेन एवं रिश्वत हिसाब-किताब के महत्वपूर्ण साक्ष्य बरामद किये गये है। ब्यूरो के दलों का सर्च अभियान जारी है।

liyaquat Ali
Sub Editor @dainikreporters.com, Provide you real and authentic fact news at Dainik Reporter.