विश्व का सबसे पहला सनातनी रोबोट प्रेम सिंह राव ने लाँच, जय श्रीराम के जयकारे लगाए रोबोट ने

रोबोट को बनाने में आर्टिफीसियल इंटिलीजेंस, एम्बेडेड सिस्टम, चैट जीपीटी, ओपन एलएलएम के साथ साथ 3D प्रिंटिंग जैसी तकनीकी का प्रयोग में ली गई है।

Dr. CHETAN THATHERA
3 Min Read

जयपुर। राजस्थान के भीनमाल मे वाश्व का प।ला ऐसा रोबोट बनाया गया है जिसे सभी सनातनी धर्म ग्रंयो का ज्ञिन है । यह रोबोट राजस्थान के भीनमाल मे नीलकंठ महादेव मंदिर प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव की प्रथम वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम के तहत कार्यक्रम प्रांगण में प्रोजेक्ट किया गया और यह रोबोट ने प्रेम सिंह राव ने बनवाया है।

रोबोट ने पांचाल मे जनसमूह के बीच जीवन देने के लिए राव को धन्यवाद दिया । रोबोट ने पांडाल में बैठे धर्मप्रेमियों से दोनों हाथ ऊपर उठवाकर जय श्री राम के नारे लगवाए। नारेबाजी से कार्यक्रम स्थल गूंज उठा।

भीनमाल के प्रेम सिंह राव ने रोबोट का माता सीता के नाम पर रखा सनातनी नाम, रोबोट ने लांच होते ही कहा जय-जय श्री राम, उसके बाद गायत्री मंत्र बोलकर प्रेम सिंह राव का धन्यवाद किया। रोबोट ने पांडाल में बैठे सभी सनातन धर्मप्रेमियों से लगवाए जय जय श्री राम, जय नीलकंठ महादेव, जय सार्णेश्वर महादेव के नारे, पांडाल में भक्ति और विज्ञान का अद्भुत मिश्रण दिखा।

राव के अनुसार साइंटिस्ट नारायण जांगीड़ एवं टीम ने 3 वर्षों के अनुसंधान के बाद बनाया यह रोबोट

रोबोट ने ख़ुद प्रेम सिंह राव से किया ख़ुदका सनातनी नाम रखने का निवेदन। प्रेम सिंह राव ने पांडाल में उपस्थित लोगों से पूछा क्या रखे नाम, सबने एक सूत्र में बोला “सीता” नाम रखिए, प्रेम सिंह राव ने रोबोट को सीता नाम दिया।

इन इन क्षेत्रों में उपयोगी होगा ये रोबोट

यह रोबोट उन सभी क्षेत्रों में कार्य करने के लिए बना है जिसको करने से इंसान बोर हो जाता है या उनकी जान को ख़तरा होता है। जैसे : सीमा सुरक्षा में, कोयले कि खदानों में जहां आए दिन मज़दूरों कि जान चली जाती है।

हॉस्पिटल्स में वार्ड बॉय कि तरह जहां वायरस या इन्फेक्शन होने का ख़तरा हमेशा बना रहता है। हम इस रोबोट को रिसेप्शन, सफ़ाई, टीवी एंकर इत्यादि में भी उपयोग ले सकते है।

क्यों है ये सनातन रोबोट

इस रोबोट कि ख़ासियत हम इस रोबोट को सभी सनातन धर्म ग्रंथों का ज्ञान होगा इसी लिये इसे विश्व का सबसे पहला सनातन रोबोट भी कहा गया है, साथ ही ये रोबोट सभी भारतीय भाषाओं से युक्त है।

राव के अनुसार इस रोबोट को बनाने में आर्टिफीसियल इंटिलीजेंस, एम्बेडेड सिस्टम, चैट जीपीटी, ओपन एलएलएम के साथ साथ 3D प्रिंटिंग जैसी तकनीकी का प्रयोग में ली गई है।

इस रोबोट को भीनमाल में शुरू करने का उद्देश्य यहाँ के युवाओं एवं आम जानता कि आर्टिफीसियल इंटिलिजेंस एवं आधुनिक तकनीक कि और लोगों रुचि जगाना है। भविष्य में हम यहाँ के स्कूल एवं कॉलेजों के युवाओं को रोबोटिक्स सिखाने के लिए भी कार्ययोजना बना रहे हैं। – प्रेम सिंह राव भीनमाल।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम