देश में एकीकृत चुनाव प्रणाली होगी लागू ? संसद का विशेष सत्र 2 दिन बाद, देश और नेताओं की निगाहें टिकी है सत्र पर

Dr. CHETAN THATHERA
8 Min Read

जयपुर/ केंद्र में भाजपा के मोदी सरकार द्वारा 2 दिन बाद बुलाए गए संसद के विशेष सत्र में भारत में एकीकृत चुनाव प्रणाली लागू करने के का बहुमत से निर्णय लेकर मोदी सरकार कभी भी लोकसभा भंग करके चुनाव आयोग को चुनाव कराने की सिफारिश कर सकती है ? इस तरह की अटकलें का बाजार पूरे देश में और राजनीतिक हलकों में जबरदस्त है वह सब की निगाहें लोकसभा के विशेष सत्र पर अटकी हुई है । अगर हकीकत चुनाव प्रणाली लागू होती है तो वर्तमान में लोकसभा के साथ किन-किन राज्यों के चुनाव होंगे जाने ।

संसद का विशेष सत्र 18 से 22 सितंबर को बुलाया गया है। इस सत्र में एक देश, एक चुनाव को लेकर बड़ी चर्चा संभावित बताई जा रही है। भारतीय जनता पार्टी ने अपने चुनाव अभियान को पूरी तरह से लोकसभा चुनाव पर केंद्रित कर रखा है । भाजपा के नेता कई बार विभिन्न मंचों से यह बात दोहरा रहे है कि तैयारी लोकसभा की हो रही है। ऐसे में देश में करीब एक दर्जन राज्यों का विधानसभा चुनाव कराने की संभावना बहुत ही प्रबल हो गई है। भाजपा की इस चुनाव के साथ क्षेत्रीय क्षत्रपों ( पार्टियों)का प्रभाव कम करने की तैयारी भी है। फिर चाहे वह अपने पार्टी के हों या फिर क्षेत्रीय पार्टी। वैसे भी छह राज्यों में विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही होते हैं और अभी नवंबर व दिसंबर 2023 में पांच राज्य में विधानसभा चुनाव है ।

लोकसभा के साथ इन राज्यों में होगे विधानसभा चुनाव ?

राजस्थान

राजस्थान में विधानसभा चुनाव नवंबर व दिसंबर में संभावित है। ऐसे में लोकसभा भंग हो जाती है, तो यहां लोकसभा चुनाव भी साथ ही होगा। राजस्थान विधानसभा की 200 सीटें हैं और लोकसभा की 25 सीट है। राजस्थान मे वर्तमान मे कांग्रेस की सरकार है। ज्योति मिर्धा को भाजपा में शामिल कर लिया है। राजनीति में मिर्धा परिवार का एक बड़ा आकार रहा है। मिर्धा का पार्टी में शामिल होना लोकसभा चुनाव की तैयारी का साफ इशारा कर रहा है।

मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव नवंबर व दिसंबर में संभावित है। ऐसे में अगर लोकसभा भंग हो जाती है, तो यहां लोकसभा चुनाव भी साथ ही होगा। मध्यप्रदेश में विधानसभा की 230 सीटें हैं और लोकसभा की 29 सीट है। यहां वर्तमान मे भाजपा की सरकार है।

छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव नवंबर व दिसंबर में संभावित है। ऐसे में अगर लोकसभा भंग हो जाती है तो यहां लोकसभा चुनाव भी साथ ही होगा। छत्तीसगढ़ में विधानसभा की 90 सीटें हैं और लोकसभा की 11 सीट है। यहां वर्तमान मे कांग्रेस की सरकार है।

तेलंगाना

तेलंगाना में विधानसभा चुनाव नवंबर व दिसंबर में संभावित है। ऐसे में अगर लोकसभा भंग हो जाती है तो यहां लोकसभा चुनाव भी साथ ही होगा। तेलंगाना में विधानसभा की 119 सीटें हैं और लोकसभा की 17 सीट है। यहां टीआरएस की सरकार है।

मिजोरम

मिजोरम में विधानसभा चुनाव नवंबर व दिसंबर में संभावित है। ऐसे में अगर लोकसभा भंग हो जाती है तो यहां लोकसभा चुनाव भी साथ ही होगा। मिजोरम में विधानसभा की 40सीटें हैं और लोकसभा की एक सीट है। यहां वर्तमान मे भाजपा समर्थित सरकार है।

ओडिशा

ओडिशा में विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही होते हैं। ऐसे में अगर लोकसभा भंग हो जाती है तो यहां भी लोकसभा चुनाव विधानसभा के साथ कराया जा सकता है। यहां 147 विधानसभा और 21 लोकसभा सीट है। यहां बीजेडी की सरकार है।

आंधप्रदेश

आंधप्रदेश में विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही होते हैं। ऐसे में अगर लोकसभा भंग हो जाती है तो यहां भी लोकसभा चुनाव विधानसभा के साथ कराया जा सकता है। यहां 175 विधानसभा और 25 लोकसभा सीट है। यहां वाईएसआर की सरकार है।

सिक्किम

सिक्किम में विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही होते हैं। ऐसे में अगर लोकसभा भंग हो जाती है तो यहां भी लोकसभा चुनाव विधानसभा के साथ कराया जा सकता है। यहां 32 विधानसभा और एक लोकसभा सीट है। यहां भाजपा समर्थित सरकार है।

अरुणाचल प्रदेश

अरुणाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही होते हैं। ऐसे में लोकसभा के साथ यहां विधानसभा चुनावा कराया जा सकता है। यहां 40 विधानसभा सीट और एक लोकसभा सीट है। यहां भाजपा समर्थित सरकार है।

महाराष्ट्र

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही होते हैं। ऐसे में लोकसभा के साथ यहां विधानसभा चुनावा कराया जा सकता है। यहां 288 विधानसभा और 48 लोकसभा सीट है। यहां भाजपा समर्थित सरकार है। यहां भी सरकार भंग की जा सकती है।

हरियाणा

हरियाणा में विधानसभा चुनाव लोकसभा के साथ ही होते हैं। ऐसे में लोकसभा के साथ यहां विधानसभा चुनावा कराया जा सकता है। यहां 90 विधानसभा और 10 लोकसभा सीट है। यहां भाजपा की सरकार है। यहां भी सरकार भंग की जा सकती है।

जम्मू और कश्मीर

जम्मू और कश्मीर को काफी लंबे समय से विधानसभा चुनाव का इंतजार है। पांच साल में अब तक यहां विधानसभा चुनाव नहीं हुए हैं। लोकसभा चुनाव होने पर विधानसभा के चुनाव की संभावना यह बढ़ जाती है। परिसीमन हो चुका है। चुनावी तैयारी भी है। ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि लोकसभा चुनाव के साथ विधानसभा चुनाव क्या होगा। जम्मू और कश्मीर में लोकसभा की कुल पांच सीटें हैं। विधानसभा की यहां 90 सीटें हैं।

कांग्रेस पार्टी के साथ सहित हाल ही में बनाए गए इंडिया अलायंस में इस समय देश की 28 राजनीतिक पार्टियां हैं। विधानसभा और लोकसभा चुनाव की एक साथ घोषणा होते ही सभी क्षेत्रीय पार्टियां छितरा जाएंगी। इससे भाजपा को जबरदस्त फायदा होगा। उदाहरण के तौर पर महाराष्ट्र में लोकसभा के साथ ही विधानसभा चुनाव की घोषणा होती है तो उद्धव ठाकरे की शिवसेना और शरद पवार की एनसीपी विधानसभा चुनाव में आमने सामने आ सकती है। अगर दोनों एक साथ भी आते हैं तो भाजपा ही मुख्य मुकाबले में होगी। ऐसे में फायदा होना तय है।

दूसरा कांग्रेस अभी सिर्फ पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में थी। ऐसा होते ही लड़ाई चौतरफा हो जाएगी। इससे नुकसान तय है। सबसे प्रमुख बात ओडिशा, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, महाराष्ट्र सहित अन्य छोटे प्रदेशों में राज कर रही। क्षेत्रीय पार्टियों का केंद्र विधानसभा चुनाव होगा न की लोकसभा चुनाव। इससे लोकसभा में भाजपा को जबरदस्त फायदा हो सकता है।

भाजपा का जहां क्षेत्रीय पार्टियों से गठबंधन है। वहां भाजपा लोकसभा और क्षेत्रीय पार्टी वहां के विधानसभा पर केंद्रित हो सकती है। चुनाव एक साथ कराने का एक संकेत यह भी है कि भाजपा अपने ही क्षेत्रीय नेताओं का कद कायदे में रखने का प्रयास कर रही है। राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में राज को रियासत समझने वाले नेताओं को दरकिनार किया जा रहा है ।

Share This Article
Follow:
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम