मुश्किलों से लड़ने वालों के कदमों में जहां होता है — ठाकुर,18वी राष्ट्रीय स्काउट-गाइड जम्बूरी समापन 

जयपुर/पाली. /पाली जिले की रोहट पंचायत समिति के निम्बली गांव में 4 जनवरी से चल रही 18वी राष्ट्रीय स्काउट-गाइड जम्बूरी का समापन समारोह सोमवार सांय केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण तथा खेल एवं युवा मामले मंत्री भारत सरकार श्री अनुराग ठाकुर के मुख्य आतिथ्य में हुआ। प्रदेश शिक्षा मंत्री श्री बी डी कल्ला, जिले के प्रभारी और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता तथा कारागार विभाग मंत्री  टीकाराम जूली, भारत स्काउट गाइड अध्यक्ष श्री अनिलकुमार जैन व नेशनल कमिश्नर श्री के.के. खंडेलवाल भी बतौर अतिथि शामिल हुए। प्रारम्भ में केंद्रीय मंत्री  ठाकुर ने परेड का निरीक्षण कर मार्च पास्ट की सलामी ली। देश के विभिन्न प्रान्तों और सार्क देशों से आए दलों ने परेड की। वहीं बैंड वादन का भी प्रदर्शन किया। 

मुश्किलों से लड़ने वालों के कदमों में जहां होता है : केंद्रीय मंत्री श्री ठाकुर

 

नेटवर्क बनाओगे वहीं जीवन भर काम आएगा

जम्बूरी के समापन समारोह में केंद्रीय मंत्री श्री ठाकुर ने भव्य और अनुशासित आयोजन के लिए मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत, स्टेट चीफ कमिश्नर श्री निरंजन आर्य सहित सभी को बधाई दी।

स्काउट-गाइड से मुखातिब होते हुए कहा कि जम्बूरी एक भारत नेक भारत का साकार रूप है। जम्बूरी में भाग लेने का अवसर मिलना सौभाग्य है। इसमें युवा स्वंयसेवक नए दोस्त बना सकते हैं।

आज जो नेटवर्क बनाओगे वहीं जीवन भर काम आएगा। उन्होंने कहा कि परेशानियों से भागना आसान होता है, मुश्किलों से लड़ने वालों के क़दमों में ही जहां होता है। शिक्षा मंत्री श्री बी.डी. कल्ला ने कहा कि स्काउट गाइड परोपकार का पर्याय हैं। स्काउट गाइड जम्बूरी में सीखी अनुशासन और स्वावलंबन की बातों को आत्मसात करते हुए परोपकार के आदर्श स्थापित करें। 

पाली जिले के प्रभारी और सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता व कारागार विभाग मंत्री श्री टीकाराम जूली ने इस अद्वितीय आयोजन के लिए मुख्यमंत्री महोदय का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि जम्बूरी पर मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत का पूरा फोकस था। वे स्वयं समय समय पर तैयारियों की समीक्षा करते रहे और स्वयं जम्बूरी स्थल पर पहुंच कर निरीक्षण किया। स्टेट चीफ कमिश्नर श्री निरंजन आर्य और उनकी पूरी टीम ने समर्पित भाव से कार्य किया, तब कहीं जाकर यह ऐतिहासिक आयोजन मूर्त रूप ले पाया है। उन्होंने सरकार और पूरे जिले की ओर से देश – विदेश से आए स्काउट-गाइड का आभार व्यक्त किया। समारोह को भारत स्काउट-गाइड संघ के अध्यक्ष श्री अनिलकुमार जैन, नेशनल चीफ कमिश्नर श्री के.के.खंडेलवाल ने भी विचार व्यक्त किये। स्टेट चीफ कमिश्नर श्री निरंजन आर्य ने स्वागत उद्बोधन देते हुए 4 जनवरी से प्रारम्भ हुई जम्बूरी के बारे में विस्तृत जानकारी दी। कार्यक्रम में मारवाड जंक्शन विधायक श्री खुशवीरसिंह जोजावर, एडीएम प्रशासन श्री चंद्रभानसिंह भाटी, एडीएम सिलिंग जब्बरसिंह, यूआईटी सचिव श्री वीरेन्द्रसिंह चौधरी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बाली श्री बृजेश सोनी, पूर्व सांसद श्री बद्रीराम जाखड़, समाजसेवी श्री महावीरसिंह सुकरलाई, रोहट प्रधान सुनीता कंवर, जिला क्रीड़ा उपाध्यक्ष श्री यशपालसिंह कुम्पावत सहित अन्य वरिष्ठ जनप्रतिनिधिगण, प्रशासन एवं पुलिस विभाग के अधिकारीगण मौजूद रहे। 

दिखी एक भारत-नेक भारत की झलक

जम्बूरी स्थल पर बने मुख्य स्टेडियम में समापन समारोह के दौरान एक भारत-नेक भारत की झलक दिखी। देश के भिन्न-भिन्न प्रान्तों से आये दलों ने जहां  डाल-डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा…. गीत पर अपने-अपने क्षेत्र के लोक नृत्यों की एक साथ प्रस्तुति दी। इससे ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो पूरा हिंदुस्तान जम्बूरी मैदान में सिमट आया हो। 

ध्वजा अवतरण

जम्बूरी समापन के अवसर पर समारोह के दौरान अतिथियों की मौजूद में जम्बूरी ध्वज का अवतरण किया गया। गौरतलब है 4 जनवरी को महामहिम राष्ट्रपति महोदया की उपस्थिति में ध्वजारोहण के साथ जम्बूरी का शुभारंभ हुआ था।

 

नियतिम गतिविधियों व एडवेंचर में उत्साह

समापन समारोह से पूर्व सोमवार सुबह से शुरू हुई नियमित गतिविधियों एवं एडवेंचर एक्टिविटीज में भी स्काउट-गाइड ने अपार उत्साह दिखाया। सुबह जिला कलेक्टर अलवर श्री जितेंद्र सोनी के आतिथ्य में दैनिक गतिविधियों की शुरुआत हुई।  सोनी ने ध्वजारोहण कर मार्च पास्ट की सलामी ली। 

सोनी ने कहा कि राष्ट्रीय जम्बूरी में भाग लेना हम सभी के लिए गौरव की बात है और देश विदेश से आए सभी स्काउट एंड गाइड्स इसकी सीख को आत्मसात करते हुए देश व समाज की सेवा में योगदान दें। राज्य मुख्य आयुक्त श्री निरंजन आर्य, कार्यक्रम के स्टेट कॉर्डिनेटर श्री टीकम चन्द बोहरा और अन्य गणमान्य पदाधिकारी मौजूद रहे हैं।

विदित है कि 18 वीं राष्ट्रीय स्काउट एंड गाइड जंबूरी में मालदीव, घाना, मलेशिया, बांग्लादेश, श्री लंका, नेपाल और सऊदी अरब से स्काउट्स एंड गाइड्स आए हुए है। इनमे मालदीव से 106, मलेशिया से 10, घाना से 11, सऊदी अरब से 14, नेपाल से 40, बांग्लादेश से 69, श्री लंका से 48 कुल 298 स्काउट्स एंड गाइड आए हुए है।