डायबिटीज से बचाव ही है उपचार

Jaipur News / Dainik reporter : बदलती जीवनशैली के कारण डायबिटीज (Diabetes) आज हर उम्र के लोगों को शिकार बना रहा है। मीठा खाना (Sweet food) इस बीमारी को बढ़ाता है। डायबिटीज के मरीजों में अक्सर यही धारणा रहती है कि, चीनी की मिठास की बजाए आर्टिफिशियल स्वीटनर (Artificial sweetener )ज्यादा सुरक्षित है, मगर यह पूरा सच नहीं है।

आर्टिफिशियल स्वीटनर सामान्य चीनी से 3000 गुणा तक अधिक मिठास तो देते हैं, लेकिन इनका ज्यादा सेवन मरीज की याददाश्त कमजोर करने से लेकर मोटापा (obesity) और पेट, बीपी, हार्ट (Stomach, BP, Heart) संबंधी रोगों का भी शिकार बना देता है।

वल्र्ड डायबिटीज डे के मौके पर नारायणा मल्टीस्पेशियलिटी हॉस्पिटल (Narayana Multispeciality Hospital) के डायबिटीज विशेषज्ञ डॉ. मुकुल गुप्ता (Diabetes specialist Dr. Mukul Gupta) ने आर्टिफिशियल स्वीटनर या शुगर फ्री जैसे पदार्थों में एसपारटेम, सैकरीन, सुक्रालोज, ऐसेसल्फेम-के आदि तत्व पाए जाते हैं, जो लगातार सेवन से नुकसानदेह साबित होते हैं।

कई शोधों में यह सामने आया है कि इनके ज्यादा सेवन से ब्रेन की कोशिकाऐं भी नष्ट हो सकती है। कुछ अध्ययनों मेंं इनसे इंसुलिन संवेदनशीलता पर भी प्रभाव पड़ता है। बच्चों के खाद्य पदार्थ जैली, जेम्स, टॉफी, चॉकलेट, पेस्ट्री में भी आर्टिफिशियल स्वीटनर मिले होते हैं, जिससे बच्चों में टाइप 2 डायबिटीज, मोटापाए पेट की बीमारिया हाने लगती है।

फोर्टिस अस्पताल के एसोसिएट कंसल्टेंट डा.मनोज खण्डेलवाल ने बताया कि लोगों में मधुमेह आनुवंशिक विसंगति के कारण हो सकता है। डायबिटीज हो जाए तो इसमें आजीवन सतर्कता एवं संपूर्ण इलाज की आवश्यकता है।

विश्व में मधुमेह जीर्णचयापचय विकारों के प्रमुख कारण के रूप में उभरा है जो इससे प्रभावित लोगों को शारीरिक, सामाजिक, मानसिक एवं मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य पर असर डाल रहा है।  इसके उपचार में मनोवैज्ञानिक मदद रोगी को रोग प्रबंधन में मदद करती है और मानसिक रूप से सबल बनाती है। चिंता और तनाव भी इसका मुख्य कारण है।

एसएमएस अस्पताल के डायबिटीज विशेषज्ञ डा. प्रकाश केसवानी ने बताया कि डायबिटीज पहले 40 वर्ष के बाद होने वाली बीमारी थी लेकिन अब यह 15 वर्ष की उम्र में टाइप-2 डायबिटीज सामने आ रही है। इसका मुख्य कारण शारीरिक श्रम बंद करना है। इससे बचने के लिए बाल्यकाल से ही स्वस्थ दिनचर्या अपनानी चाहिए।

इसमें नियमित व्यायाम, कम चिकनाई व वसायुक्त खाना, फास्ट फूड से दूरी रखनी चाहिए। व्यक्ति को पूरी नींद लेनी चाहिए क्योंकि नींद भी एक अच्छा व्यायाम है। इसके साथ ही बच्चों को मोबाइल से दूरी बनाकर रखनी होगी, मोबाइल के कारण बच्चे आउटडोर गेम्स से दूर हो रहे हैं। डायबिटीज से बचाव ही इसका सबसे बेहतर उपचार है।

liyaquat Ali
Sub Editor @dainikreporters.com, Provide you real and authentic fact news at Dainik Reporter.
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/

Must Read

हिन्दुस्तान जिंक भूमिगत खनन में बैटरी चलित वाहन करेगा उपयोग,1 बिलियन अमरीकी डालर का निवेश, देश की पहला ग्रुप होगा

भीलवाड़ा/ देश में चांदी और तांबा उत्पादन में सबसे अग्रणी नंबर वन ग्रुप वेदांता ग्रुप हिंदुस्तान जिंक कंपनी भी पर्यावरण की सुरक्षा को मध्य...

अक्षय सेवा संस्थान द्वारा फ्री आंखो का शिविर 5 को

भीलवाड़ा / अक्षय सेवा संस्था द्वारा भीलवाड़ा में निशुल्क आंखों का कैंप 5 फ़रवरी रविवार को संस्था के मुख्य संरक्षक चंद्र देव आर्य के...

रेल सेवाएं रद्द,एक गाड़ी हमीरगढ़ व दूसरी रायला में होगा ठहराव

अजमेर/ पूर्व रेलवे द्वारा हावड़ा मण्डल के बर्द्धमान स्टेशन पर अनुरक्षण कार्य हेतु ट्रेफिक ब्लॉक लिया जा रहा है। इस कार्य हेतु रेल यातायात...