नाबालिग को फिल्में देखकर आया डॉन बनने का आइडिया,कर डाली खौफनाक वारदात

जयपुर। जगतपुरा में महल रोड के पास रामनगरिया में 10मई को ज्वैलर देशराज यादव के शोरूम में घुसकर यादव को गोली मारने वाले तीन बदमाशों को आखिर प्रताप नगर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। तीनों दूसरी वारदात की फिराक में थे। तीन में से दो बाल अपचारी हैं और तीसरा बदमाश तुंगा निवासी विक्रम मीणा है। विक्रम के पिता खेती करते हैं तथा अन्य दो के पिता सरकारी नौकरी में हैं। प्रताप नगर पुलिस ने बताया कि फायरिंग की घटना होने के बाद सीसीटीवी फुटेज में लाल रंग की केटीएम बाइक दिखाई दी थी। शहर के छह से सात शोरूमों में इस बाइक को दिखाकर जानकारी मांगी गई तो अहम सबूत मिले। इस आधार पर आरोपी विक्रम मीणा को अरेस्ट किया। उसके दो साथी जो नाबालिग हैं दोनों को भी पकड़ा गया है। ज्वैलर देशराज यादव (50) को गोली मारकर लूट की नाकाम कोशिश करने वाले ये तीनों आरोपी स्कूली समय से दोस्त है। पूछताछ में ग्यारहवीं कक्षा में पढऩे वाले नाबालिग ने बताया कि साउथ की फिल्मों में एक्शन देखकर डॉन बनने की सोची थी। विक्रम को इस बारे में बताया तो उसने ने एक देसी पिस्टल का भी इंतजाम किया और हमारे साथ आ गया। जिसके बाद तीनों ने वारदात को अंजाम दे डाला। जगतपुरा में महल रोड के पास रामनगरिया में 10 मई को ज्वैलर देशराज यादव (50) को गोली मारकर लूट की नाकाम कोशिश करने वाले स्कूल समय के तीन दोस्त निकले। तीनों झांसी से हथियार खरीदने के बाद दो थैले लेकर ज्वैलर को लूटने पहुंचे थे। पुलिस ने वारदात में शामिल बीएससी द्वितीय वर्ष के छात्र तूंगा निवासी विक्रम मीना को गिरफ्तार कर लिया। दूसरा पकड़ा गया साथी स्कूली छात्र है, जो घटनास्थल के पास भाई के साथ रहता है। तीसरा फरार साथी भी स्कूल का छात्र है।