Tuesday, January 31, 2023

सूचना उपलब्ध नहीं कराने पर भीलवाड़ा की आसींद पालिका ईओ सहित प्रदेश के 4 अधिकारियों पर जुर्माना

जयपुर/ राजस्थान राज्य सूचना आयोग ने आम अवाम को वांछित सूचना मुहैया कराने में कोताही बरतने वाले अधिकारियों के प्रति अपना कड़ा रुख बरकरार रखा है। आयोग ने ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग के दो अधिकारियों पर सूचना अधिकार कानून की अवेहलना करने पर पंद्रह- पंद्रह हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। आयोग ने स्वायत शासन विभाग के तीन अधिकारियों पर पांच पांच हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। यह जुर्माना उनकी तनख्वाह से वसूला जायेगा।

राज्य सूचना आयुक्त लक्ष्मण सिंह ने सीमावर्ती बाड़मेर जिले में साता पंचायत के ग्राम विकास अधिकारी पर 15 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। आयोग ने यह जुर्माना तब लगाया जब बाड़मेर के भगवान् सिंह ने अपनी अपील में शिकायत की कि अधिकारी उन्हें लम्बे समय से सूचना नहीं दे रहे है। आवेदक सिंह ने 10 सितंबर ,2018 को ग्राम पंचायत में अर्जी देकर गांव में सप्लाई की गई सामग्री का विवरण माँगा था। लेकिन अधिकारी ने अनसुना कर दिया। आयोग ने अधिकारी से जवाब तलब किया और कोई पांच बार नोटिस भेज कर सफाई देने को कहा, पर अधिकारी ने कोई परवाह नहीं की। आयोग ने अधिकारी को अगले 21 दिन में भगवान सिंह को मुफ्त में सूचनाएं उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। ऐसे ही पाली जिले में कुरना के ग्राम सचिव पर पंद्रह हजार रुपये की शास्ति अधिरोपित करने का आदेश दिया है। वहां स्थानीय व्यक्ति ढला राम ने 20 दिसम्बर ,2018 को ग्राम पंचायत से ग्राम पंचायत की बैठक का विवरण और केश बुक का विवरण माँगा था, लेकिन ग्राम सचिव ने उनके आवेदन को अनदेखा कर दिया। आयोग ने ग्राम सेवक को चार बार नोटिस भेज कर स्प्ष्टीकरण देने को कहा, लेकिन ग्राम सचिव ने इसे भी अनदेखा किया। इस नाराजगी जाहिर करते हुए राज्य सूचना आयुक्त लक्ष्मण सिंह ने ग्राम सचिव पर पंद्रह हजार रुपये का जुर्माना लगाने का आदेश दिया। आयोग ने अपने आदेश में कहा ग्राम सेवक ढला राम को रिकॉर्ड का अवलोकन करने के लिए आमंत्रित करे और उन्हें 100 पृष्ठ तक की सूचना निशुल्क उपलब्ध करवाए।ऐ से ही आयोग ने जोधपुर जिले में भाखरी के ग्राम सेवक पर दस हजार रुपये का जुर्माना लगाया है।

उधर राज्य सूचना आयुक्त नारायण बारेठ ने कोटा नगर विकास न्यास के सचिव पर सूचना अधिकार कानून की अनदेखी पर पांच हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। आयोग में कोटा के कुलदीप कपूर ने न्यास के खिलाफ अपील दायर कर शिकायत की कि उन्हें सूचना मुहैया नहीं करवाई जा रही है। कपूर ने 25 जून ,2019 को अर्जी दाखिल कर सूचना मांगी थी। इस मामले में न्यास ने आयोग से जवाब तलब किया, लेकिन तीन बार अवसर देने के बाद भी न्यास ने कोई जवाब नहीं दिया। आयोग ने आदेश की प्रति कार्मिक विभाग को भी भेजने का निर्देश दिया है। आयुक्त बारेठ ने भीलवाड़ा में आसींद नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी पर दो अलग अलग मामलों में पांच पांच हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। आयोग में आसींद के मोहम्मद सलीम ने शिकायत की थी कि कोई दो साल बाद भी उनकी अर्जी पर पालिका ने सूचना मुहैया नहीं करवाई। आयोग ने अधिकारी से इस देरी और कोताही का सबब पूछा। मगर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। आयोग ने अपने आदेश की प्रति स्थानीय निकाय विभाग को भेजने का निर्देश दिया है।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम
Editor - Dainik Reporters http://www.dainikreporters.com/

Must Read

विद्यार्थियों के हिंदी, अंग्रेजी एवं गणित विषय के होमवर्क को जांचा

कलेक्टर चिन्मयी गोपाल ने मंगलवार को मालपुरा उपखंड के सरकारी विद्यालयों का औचक निरीक्षण किया

रेप के मामले मे आसाराम बापू को उम्रकैद की सजा, राजस्थान की लेडी सिघंम ADSP ने किया था गिरफ्तार

संत कथावाचक आसाराम बापू(81) को 10 साल पुराने रेप के मामले में आज गांधीनगर हाईकोर्ट ने उम्र कैद की सजा सुनाई है

गिरदावर व ग्राम विकास अधिकारी के तबादले पर रोक,टोंक कलेक्टर व सीईओ सहित अन्य को नोटिस

राजस्थान सिविल सेवा अपील अधिकरण ,जयपुर ने मंगलवार को ज़िले में पदस्थापित भू अभिलेख निरीक्षक व ग्राम विकास अधिकारी के तबादला आदेशो के क्रियान्वयन पर रोक लगाते हुए