सिंघवी और बेनीवाल का वाकयुद्ध, धारीवाल कर रहे भष्ट्राचार सिंघवी चुप क्यों–बेनीवाल

Jaipur News । आरएलपी संयोजक और नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के समर्थक और छबड़ा से भाजपा विधायक प्रतापसिंह सिंघवी के हाल ही में आए बेनीवाल विरोधी बयान पर अब राजनीति तेज हो गई है। बेनीवाल ने गुरुवार को ट्वीट कर सिंघवी को नसीहत दी है कि वे आपसी गठजोड़ का हिस्सा बनने के स्थान पर विपक्ष की भूमिका को मजबूत करें।

बेनीवाल ने यह ट्वीट प्रताप सिंह सिंघवी के बुधवार रात जारी किए गए बयान पर पलटवार करते हुए किया। इस बयान के आधार पर प्रकाशित एक समाचार को लेकर सिंघवी ने ट्वीट किया, जिस पर बेनीवाल ने री ट्वीट करते हुए पलटवार किया। बेनीवाल ने लिखा कि सिंघवी मत भूलो कि विपक्ष में हो, बेहतर होगा लोकतंत्र में विपक्ष की भूमिका मजबूत करो। गहलोत सरकार के गठजोड़ का हिस्सा बनकर घोटालों और अनियमितताओं को नहीं दबा सकते हैं, जिनकी जवाबदेही आपकी और धारीवाल की बनती है।

बेनीवाल ने अपने ट्वीट में यह भी लिखा कि धारीवाल सरकार बचाने के लिए भारी भ्रष्टाचार कर रहे हैं, जिस पर आपका दो साल से कोई बयान नहीं आया, जबकि आप यूडीएच मंत्री रह चुके हो फिर आखिर ऐसा क्यों? इससे पहले बुधवार को कोटा से आने वाले भाजपा नेता और विधायक प्रताप सिंह सिंघवी, पूर्व विधायक भवानी सिंह राजावत, प्रहलाद गुंजल, विद्याशंकर नंदवाना और पूर्व जिला प्रमुख गोविंद सिंह परमार ने एक संयुक्त बयान जारी कर हनुमान बेनीवाल पर निशाना साधा था।

बेनीवाल की केंद्रीय कृषि कानून को लेकर दी गई भाजपा से संबंध तोडऩे की धमकी पर पलटवार करते हुए इन भाजपा नेताओं ने कहा था कि बेनीवाल कल क्या, आज ही भाजपा से संबंध तोड़ लें। भाजपा को उनकी कोई जरूरत नहीं है। भाजपा अब एक शक्तिशाली पार्टी बन चुकी हैं और आरएलपी के गठजोड़ बिना भी चल सकती है। अब उसी संयुक्त बयान पर हनुमान बेनीवाल ने ट्वीट के जरिए अपना जवाब दिया है।