साहित्य आदर्श जीवन मूल्यों की पुनर्स्थापना का काम करता है: डॉ. प्रेम जनमेजय

Jaipur News।‘व्यंग्य यात्रा’ केयशस्वी संपादक डॉ. प्रेम जनमेजयने कहा है कि साहित्य समाज में फैली विसंगतियों, गैर बराबरी, साम्प्रदायिता, विद्रूपताएँ दूर कर चेतना लाने का काम करता है ।साहित्य आधुनिक विचार के साथ समाज के आदर्श जीवन मूल्यों की पुनर्स्थापना का काम करता है । समाज आज जिस प्रकार अन्याय, अत्याचार,असमानता के दौर से गुजर …

साहित्य आदर्श जीवन मूल्यों की पुनर्स्थापना का काम करता है: डॉ. प्रेम जनमेजय Read More »

September 24, 2021 5:25 pm
साहित्य आदर्श जीवन मूल्यों की पुनर्स्थापना का काम करता है: डॉ. प्रेम जनमेजय%%title%% %%sep%% %%sitename%%

Jaipur News।‘व्यंग्य यात्रा’ केयशस्वी संपादक डॉ. प्रेम जनमेजयने कहा है कि साहित्य समाज में फैली विसंगतियों, गैर बराबरी, साम्प्रदायिता, विद्रूपताएँ दूर कर चेतना लाने का काम करता है ।साहित्य आधुनिक विचार के साथ समाज के आदर्श जीवन मूल्यों की पुनर्स्थापना का काम करता है ।

समाज आज जिस प्रकार अन्याय, अत्याचार,असमानता के दौर से गुजर रहा है और आम आदमी जा जीवन का संकट में है,उसमें व्यंग्य सबसे बेहतर हथियार है। जब तोप मुकाबिल हो तब व्यंग्य लेखन समाज को बदलने में महती भूमिका निभा सकता है ।


डॉ.जनमेजय शुक्रवार को यहाँ सुरेश ज्ञानविहार विश्वविद्यालय के सभागार में राही सहयोग संस्थान,जयपुर के तत्वावधान में मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए शिक्षाविद और सुरेश ज्ञान विहार विश्वविद्यालय के चैयरमैन सुनील शर्मा ने कहा कि भाषा, साहित्य और संस्कृति ने ही हमारे जीवन मूल्यों को बचाए रखा है। सभ्यता और संस्कृति किसी भी देश का गौरव है एवं मातृभाषा इसकी बुनियाद है।

ढूँढाडी,हाडौती,मारवाड़ी,मेवाड़ी,वागडी का साहित्य विपुल और समृद्ध है और हिंदी का अस्तित्व इसी पर टिका हुआ है।दुर्भाग्यवश मातृभाषा की आज तक उपेक्षा होती रही है। मातृभाषा का सम्मान करके ही हम मजबूत राष्ट्र में सामाजिक समरसता को बनाए रख सकते हैं।

अब समय आ गया है कि इस दिशा में प्राथमिकता और गंभीरता से कदम उठाएं।इस अवसर पर डॉ.दुर्गाप्रसाद अग्रवाल ने सभी साहित्यिक विधाओं के महत्व पर प्रकाश डाला। वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. हेतु भारद्वाज और नन्द भारद्वाज के साथ डॉ. लालित्य ललित ने कहा कि साहित्य हमारे जीवन में चेतना और सुचिता लाने और प्रगतिशील सोच के साथ आगे बढ़ने की प्रेरणा देता है ।

आज इण्डिया नेटबुक्स, नोएडा,मोनिका प्रकाशन, जयपुर और राही सहयोग संस्थान द्वारा वर्ष 2020 के चयनित देश के 100 लेखकों के उपन्यास,कहानी,लघु कथा, कविता और व्यंग्य विधा पर आधरित पांच पुस्तकों यथा कविता संग्रह ‘संधि की रेखा पार’(संपादक डॉ. संजीवकुमार और डॉ.उषारानी राव), व्यंग्य संग्रह ‘चटपटे शरारे’(संपादक फारूक आफरीदी और कविता मुखर), कहानी संग्रह ‘पंथी को छाया मिले’ (संपादक डॉ. प्रणु शुक्ला), उपन्यास अंश ‘अंशों में अर्श’ (संपादक रमेश खत्री) और लघु कथा संग्रह छोटी छोटी बूंदें (संपादक डॉ. रामकुमार घोटड़) का लोकार्पण किया गया।इनके संपादकों ने पुस्तकों में सम्मिलित रचनाओं की समीक्षा प्रस्तुत की ।

इस मौके पर ये हुए सम्मानित

समारोह के दौरान तीन साहित्यिक विभूतियों प्रतिष्ठित कवि साहित्यकार और विधिवेत्ता डॉ. संजीवकुमार को नन्द चतुर्वेदी काव्य पुरोधा सम्मान, लब्ध प्रतिष्ठ व्यंग्यकार और व्यंग्य यात्रा के संपादक डॉ.प्रेमजनमेजय को डॉ.नरेंद्र कोहली व्यंग्य पुरोधा सम्मानऔर युवा व्यंग्यकार,कवि,संपादक डॉ लालित्य ललित को यज्ञ शर्मा व्यंग्य पुरोधा सम्मान दिया गया।

कार्यक्रम में देश प्रदेश की विभिन्न साहित्यिक, सांस्कृतिक और फिल्म क्षेत्र की अनेक हस्तियाँ मौजूद रही। प्राम्भ में राही संस्थान के कार्यकारी अध्यक्ष प्रसिद्ध उपन्यासकार कथाकार प्रबोध गोविल ने अतिथियों का स्वागत किया और समारोह के संयोजक फारूक आफरीदी ने आभार व्यक्त किया।

कार्यक्रम का संचालन प्रभात गोस्वामी और रेनू शब्दमुखर ने सफलतापूर्वक संचालन किया। कार्यक्रम मैं संस्था की अध्यक्ष डॉ. इंदु बंसल, रजनी मोरवाल, राम कुमार सांभरिया, अरुण कुमार, पुष्पा गोस्वामी, राजेंद्र मोहन शर्मा, राकेश कुमार, एस भाग्यम सहित अनेक गणमान्य प्रबुद्धजन उपस्थित रहे।

Prev Post

पुलिस थाने के निकट दिन दहाडे कार से उडाई लाखों की नकदी

Next Post

रीट परीक्षा की गोपनीयता को भंग करने वाले व्यक्ति या संस्था को बख्शा नहीं जाएगा- चिन्मयी गोपाल

Related Post

Latest News

पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज
बीसलपुर की लाइन टूटी, 15 दिन बाद भी नही हुई ठीक

Trending News

वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी

Top News

टोंक शांति एवं सद्भावना समिति की बैठक आयोजित
जयपुर को मिली एबीवीपी के राष्ट्रीय अधिवेशन की मेजबानी, अमित शाह करेंगे उद्घाटन सत्र में शिरकत
विजयादशमी पर  जयपुर में 29 स्थानों पर संघ का पथ संचलन, शस्त्र पूजन व शारीरिक प्रदर्शन भी होंगे
वसुंधरा राजे के बाद अब सतीश पूनिया ने भी की भी त्रिपुरा सुंदरी मंदिर में पूजा-अर्चना
टोंक जिला स्तरीय राजीव गांधी युवा मित्र प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित%%page%% %%sep%% %%sitename%%
Upload state insurance and GPF passbook in new version of SIPF
मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना से सुमन, रिजवाना बानो एवं दिनेश को मिली राहत
पटवारी 20 हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों अरेस्ट
राजकुमार शर्मा को ब्रेन हेमरेज
बीसलपुर की लाइन टूटी, 15 दिन बाद भी नही हुई ठीक