सचिन पायलट का गौरव यात्रा में शामिल नहीं होना चर्चा का विषय, तल्खी बरकरार

Sachin Pilot's non-participation in Gaurav Yatra is a matter of discussion, the tension remains

जयपुर। देश में भाईचारा, सांप्रदायिक सद्भाव का संदेश देने के लिए 6 अप्रैल को गुजरात के साबरमती आश्रम से शुरू हुई कांग्रेस सेवा दल की गौरव यात्रा आज गुजरात राजस्थान बॉर्डर पर स्थित रतनपुर पहुंची, जहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह और प्रदेश प्रभारी अजय माकन ने यात्रा का स्वागत किया।

इसके अलावा कई कैबिनेट मंत्री और विधायक यात्रा में शामिल हुए लेकिन बड़ी बात यह है कि प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और डिप्टी सीएम रहे सचिन पायलट यात्रा में शामिल नहीं हुए जबकि पायलट जयपुर में ही मौजूद थे। वही चर्चा यह भी है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, प्रदेश प्रभारी अजय माकन और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष तीनों हेलीकॉप्टर से जयपुर से रवाना होकर उदयपुर पहुंचे थे लेकिन बावजूद इसके अपने साथ सचिन पायलट को नहीं ले गए, जिससे कांग्रेस गलियारों में भी चर्चा का विषय बना हुआ है।

चर्चा इस बात की है कि सचिन पायलट खुद ही यात्रा में शामिल होने नहीं गए या फिर सीएम अशोक गहलोत उन्हें अपने साथ लेकर नहीं गए। इससे साफ है कि दोनों के बीच तल्खी अभी बरकरार है हाल ही में दोनों के बीच बयानबाजी का दौर भी देखने को मिला था।

उपचुनावों में 7 गए थे हेलीकॉप्टर से

वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट विधानसभा उपचुनाव में पार्टी प्रचार करने के लिए हेलीकॉप्टर से साथ गए थे और मंच भी साझा किया था लेकिन पिछले कई महीनों से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट एक मंच पर नजर नहीं आ रहे हैं। जयपुर में हुए धरने में भी सचिन पायलट के आने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने धरने से दूरी बना ली थी।

देशभर के लिए स्टार प्रचारक राजस्थान में केवल विधायक

वहीं पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट भले ही देशभर में कांग्रेस पार्टी के लिए स्टार प्रचारक और पार्टी के लिए जगह-जगह प्रचार भी करते हैं लेकिन राजस्थान में वह केवल विधायक बनकर ही रह गए हैं। पार्टी के कई कार्यक्रमों में भी अभी उन्हें निमंत्रण तक नहीं दिया जाता है इससे भी सियासी गलियारों में कुछ चर्चाएं हैं ।गौरतलब है कि कांग्रेस सेवा दल की गौरव यात्रा आज उदयपुर के रतनपुर पहुंची है यहां से यात्रा बांसवाड़ा,नाथद्वारा, ब्यावर, अजमेर,जयपुर, रेवाड़ी, गुड़गांव, होते हुए दिल्ली पहुंचेगी।