राज्यसभा चुनाव में जीत का विधायकों को इनामः पसंद से होंगे नौकरशाही में तबादले, बड़े फेरबदल की तैयारी

-एसपी और कलेक्टर सत्तारूढ़ कांग्रेस के विधायकों के निशाने पर -जल्द सामने आएगी नौकरशाही में तबादलों की बड़ी सूची -नौकरशाहों के कार्यशैली से असंतुष्ट विधायकों ने राज्यसभा चुनाव के दौरान दिखाई थी नाराजगी -हाल ही कैबिनेट की बैठक के दौरान भी मंत्रियों ने नौकरशाहों की कार्यशैली को लेकर उठाए थे सवाल

June 15, 2022 1:31 pm
राज्यसभा चुनाव में जीत का विधायकों को इनामः पसंद से होंगे नौकरशाही में तबादले, बड़े फेरबदल की तैयारी

जयपुर। राज्यसभा चुनाव में 3 सीटों पर जीत दर्ज करने के बाद अब राज्य की गहलोत सरकार ने चुनाव की बाड़ेबंदी के दौरान अपने विधायकों से किए गए वादे पर अमल करने की कवायद शुरू कर दी है। नौकरशाहों पर लगाम लगाने की विधायकों की मांग पर सरकार में मंथन शुरू हो चुका है और इसके लिए नौकरशाही में बड़े स्तर पर तबादले की कवायद भी शुरू हो चुकी है। बड़ी बात यह भी है कि इस बार नौकरशाही के तबादलों में कांग्रेस और समर्थित विधायकों की जमकर चलेगी, उन्हीं के पसंद के अधिकारियों को एसपी और कलक्टर लगाया जाएगा।

विधायकों से मांगे गए थे नाम

विश्वस्त सूत्रों की माने तो राज्यसभा चुनाव संपन्न होने के बाद विधायकों से उनकी पसंद के अधिकारियों के नाम मांगे गए थे, जिन्हें वे कलक्टर और एसपी लगवाना चाहते हैं। बकायदा कई विधायकों ने तो लिखित में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का अपनी पसंद के अधिकारियों के नाम भी दिए हैं।

सत्तारूढ़ कांग्रेस विधायकों के निशाने पर हैं एसपी-कलक्टर

दरअसल सरकार में इन दिनों कांग्रेस और समर्थित विधायकों के निशाने पर जिलों के एसपी और कलेक्टर हैं। सत्तारूढ़ कांग्रेस के विधायकों का कहना है कि जिलों के एसपी और कलक्टर उनके फोन नहीं उठाते और न ही उनके कामों को अहमियत देते हैं। हाल ही में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेहद करीबी माने जाने वाले 2 विधायकों ने तो अपने जिले के एसपी के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया था।

नौकरशाहों की कार्यशैली से असंतुष्ट विधायकों की नाराजगी आई थी बाहर

वहीं नौकरशाहों की ओर से विधायकों को अहमियत नहीं देने और उनके कामों की अवहेलना करने से असंतुष्ट विधायकों ने राज्यसभा चुनाव के दौरान अपनी नाराजगी जाहिर की थी। नाराजगी के चलते कांग्रेस और कई समर्थित विधायक तो बाड़ेबंदी में ही नहीं पहुंचे थे। इसके बाद आनन-फानन में विधायकों को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुलाकर संतुष्ट करने का प्रयास किया था। मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान भी विधायकों ने नौकरशाहों की कार्यशैली को लेकर सवाल खड़े किए थे। इस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्यसभा चुनाव के बाद उनकी पसंद के अधिकारियों को ही फील्ड पोस्टिंग देने का आश्वासन दिया था। मुख्यमंत्री के आश्वासन के बाद ही कांग्रेस और समर्थित विधायक राज्यसभा चुनाव की बाड़ेबंदी में पहुंचे और सरकार के पक्ष में मतदान किया था।

कई मंत्रियों की भी नहीं बैठ रहा अधिकारियों से तालमेल

इधर सरकार के कई मंत्रियों की भी विभागों के अधिकारियों के साथ तालमेल नहीं बैठ पा रहा है। हाल ही में कई मंत्रियों ने भी कैबिनेट की बैठक के दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समक्ष अधिकारियों की कार्यशैली को लेकर नाराजगी जाहिर की थी और कहा था कि सरकारी अधिकारी सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन में अड़ंगा लगाते हैं, जिस पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंत्रियों को निर्देश दिए थे कि वो ऐसे अधिकारियों की सूची बनाएं और मुझे सौंपे। उन अधिकारियों खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे।गौरतलब है कि नौकरशाही के साथ सत्तारूढ़ कांग्रेस के विधायक और मंत्रियों का विवाद पहला नहीं है। इससे पहले भी गहलोत सरकार के कई मंत्रियों ने नौकरशाही के कामकाज को लेकर नाराजगी जाहिर की थी, जिसके बाद उन अधिकारियों के तबादले किए गए थे।

Prev Post

पीसीसी मुख्यालय में आज जनसुनवाई, कार्यकर्ताओं-आमजन की शिकायतों को सुनेंगे मंत्री

Next Post

राजस्थान कांग्रेस के आधा दर्जन नेताओं पर भी हो चुकी है जांच एजेंसियों की कार्रवाई

Related Post

Latest News

कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष खड़गे या सिंह,तस्वीर 8 को होगी साफ,G-23 नेता मिले गहलोत से, रौचक होगा चुनाव 
राजस्थान में आलाकमान की धमकी बेअसर, गहलोत गुट के नेता ने फिर..
गहलोत को CM हटाते ही राजस्थान में कांग्रेस खंड-खंड बिखर ...

Trending News

राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
प्रिंसिपल डाॅ. खटीक पुनः बने जिलाध्यक्ष 

Top News

कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष खड़गे या सिंह,तस्वीर 8 को होगी साफ,G-23 नेता मिले गहलोत से, रौचक होगा चुनाव 
राजस्थान में आलाकमान की धमकी बेअसर, गहलोत गुट के नेता ने फिर..
गहलोत को CM हटाते ही राजस्थान में कांग्रेस खंड-खंड बिखर ...
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
पुलिस पर प्रताड़ना का आरोप, परिवादी को ही कर रही है परेशान 
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान
टोंक के बनेठा थाने का एसआई 10 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार, एक प्रकरण में कार्रवाई नही करने की एवज में मांग रहा था घूस
REET - 2022 का परीक्षा परिणाम घोषित 
राजस्थान में रहेगा गहलोत का ही राज, सचिन..