AIMIM
जयपुर

राजस्थान में उपचुनाव में AIMIM की दस्तक से राजनीतिक हलचल बढी, कांग्रेस के नेताओं में बेचैनी

जयपुर /अशफाक कायमखानी । प्रमुख रुप से हैदराबाद के सुल्तान सलाऊद्दीन आवेशी द्वारा बनाई गई राजनीतिक पार्टी एआईएमआईएम ने पहले हेदराबाद तक अपने पैर पसार रखे थे। लेकिन सुल्तान सलाऊद्दीन आवेसी के साहबजादे ने विदेश से बेरिस्टर की पढाई मुकम्मल करके अपने पिता द्वारा बनाई गई राजनीतिक पार्टी मे शामिल होकर राजनीति के माध्यम से खिदमत करने के इरादे से एआईएमआईएम को हैदराबाद से लेकर भारत के अन्य हिस्सों तक बाहर लाकर उसे परवान चढाने की शुरुआत मे पहले महाराष्ट्र ओर फिर बिहार चुनाव के बाद गुजरात मे अपने पैर जमाने मे ठीक ठीक कामयाबी मिलने के साथ साथ अब जाकर भारतभर के अधीकांश हिस्सों के मुस्लिम समुदाय के युवाओं का एक बडा हिस्सा अब उन्हें वर्तमान राजनीतिक हालात मे अपना काईद (लीडर) मानने लगा है।

राजस्थान मे भाजपा व कांग्रेस के नाम पर दो दलीय व्यवस्था कायम होने की मजबूरी के कारण मुस्लिम समुदाय को कांग्रेस द्वारा ग्ररान्टेड वोटबैंक मानकर उनकी गहलोत सरकार द्वारा लगातार अनदेखी करते आने से खासतौर पर असहज महसूस करने वाला युवा तबका अब सांसद असदुद्दीन आवेसी व उनकी पार्टी एआईएमआईएम की तरफ उम्मीदो की टक टकी लगाने लगा है। जिस टकटकी को कुछ बूजुर्ग अपने आपको राजनीति मे अलग थलग पड़ने की सम्भावना जता कर इस खेल को खतरनाक बताते है वही युवा तबका इसको कांग्रेस द्वारा उनके लिये बनाये जा रहे असहज हालात से निकलने का वर्तमान समय मे एक मात्र विकल्प एआईएमआईएम व सांसद आवेसी को राजस्थान मे लाकर उसको परवान चढाना मात्र बता रहे है।

वर्तमान मे गहलोत सरकार द्वारा विधानसभा मे पेश बजट मे मुस्लिम युवा अपनी घोर अनदेखी होना मानकर चल रहा है। इससे अंदर ही अंदर उनके मनो मे ज्वाला उगलने से ज्वालामुखी फटने जैसे हालात बनते नजर आने लगे है। अहमदाबाद के नगर निगम चुनाव मे पहली दफा चुनावों मे भाग लेकर एआईएमआईएम द्वारा आठ उम्मीदवार उतारने पर उनमे से सात के विजयी होने से एआईएमआईएम के प्रति लालायित युवा तबके के हांसले को ताकत मिली है।

कुल मिलाकर यह है कि हैदराबाद के बाहर पहले महाराष्ट्र मे सांसद व विधायक फिर बिहार मे पांच विधायक व अब अहमदाबाद के स्थानीय निकाय चुनाव मेआठ उम्मीदवारों मे से सात के जीतने के अलावा संसद के अंदर व बाहर अनेक मंचो पर बेबाक तौर पर तर्कों के साथ अपनी बात रखने से सांसद असदुद्दीन आवेसी को एक वर्ग वर्तमान समय मे अपना लीडर मानकर चलने लगा है। राजस्थान के अनेक लोग भी एआईएमआईएम को प्रदेश मे लाकर तीसरे विकल्प के तौर पर पेश करने मे लगे है।जिसको कांग्रेस से जुड़े कुछ लोग खतरनाक बता रहे है वही युवाओं का बडा हिस्सा आवश्यकता को अविस्कार की जननी बताते हुये एआईएमआईएम का राजस्थान मे आना जरूरी बता रहे है। इस सीलसीले मे राजस्थान के अनेक लोगे आवेसी के सम्पर्क मे बताते है।

Dr. CHETAN THATHERA
चेतन ठठेरा ,94141-11350 पत्रकारिता- सन 1989 से दैनिक नवज्योति - 17 साल तक ब्यूरो चीफ ( भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़) , ई टी राजस्थान, मेवाड टाइम्स ( सम्पादक),, बाजार टाइम्स ( ब्यूरो चीफ), प्रवासी संदेश मुबंई( ब्यूरी चीफ भीलवाड़ा),चीफ एटिडर, नामदेव डाॅट काम एवं कई मैग्जीन तथा प समाचार पत्रो मे खबरे प्रकाशित होती है .चेतन ठठेरा,सी ई ओ, दैनिक रिपोर्टर्स.कॉम