पुलिस भर्ती परीक्षा के पेपर बेचने वाले गिरोहका राजफाश, सरगना गिरफ्तार, 6 लाख मे बेचते थे पेपर

SBI took over the information of the bank, took away twenty-one thousand cash

Jaipur News। जयपुर ग्रामीण जिले के विराटनगर थाना पुलिस और जिला स्पेशल टीम(डीएसटी) द्वारा पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा पेपर उपलब्ध करवाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का खुलासा ​करते हुए एक आरोपित को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। पुलिस पूछताछ में गिरोह के अन्य सदस्यों सहित कई जानकारी मिलने की आंशका जताई जा रही है।

जयपुर जिला पुलिस अधीक्षक शंकर दत्त शर्मा ने बताया कि पुलिस कांस्टेबल भर्ती को लेकर युवाओं को नौकरी दिलवाने का झांसा देकर ठगी करने वाले गिरोेह पर पुलिस द्वारा विशेष निगरानी रखी जा रही है। जिसके चलते मुखबिर की सूचना पर जिले के  विराटनगर थाना पुलिस और जिला स्पेशल टीम(डीएसटी) द्वारा पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा पेपर उपलब्ध करवाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह के एक आरोपित राजेन्द्र प्रसाद मीणा को हिरासत में लिया है जिससे गहनता से पूछताछ की जा रही है।
विराटनगर थानाधिकारी राजेन्द्र सिंह राठौड ने बताया कि आरोपित राजेन्द्र प्रसाद मीणा द्वारा ग्राम मैड में नेशनल डिफेंस एकेडमी खोलकर उसमें कोचिंग करवाने व पैरामिलट्री फोर्सेज की तैयारी के लिये एडमिशन करता है तथा बाद में बेरोजगार युवकों को भर्ती परीक्षा में पेपर उपलब्ध करवाने व नौकरी लगवाने का झांसा देकर उनसे लाखों रुपये की ठगी करता है। आरोपित ने स्वयं आईटीबीपी की नौकरी छोड चुका है जो वर्तमान में बर्खास्त चल रहा है।
आरोपित के खिलाफ सौरभ मीणा निवासी वार्ड नम्बर 11 शाहपुरा ने थाने में मामला दर्ज करवाया था कि वह  बेरोजगार है और वर्तमान में राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा की तैयारी कर रहा है। पीडित 28 अक्टूबर को अपने दोस्त के साथ नेशनल डिफेंस एकेडमी में पुलिस कांस्टेबल भर्ती की तैयारी करने के लिये एडमिशन के लिए गया था। जिस पर वहां के संचालक राजेन्द्र प्रसाद मीणा द्वारा उसे पुलिस कांस्टेबल भर्ती परीक्षा का पेपर समय से दो घण्टे पूर्व उपलब्ध करवाने व नौकरी लगाने का सौदा छह लाख रुपये में तय हुआ था।
इस पर आरोपित ने बतौर एडवांस  एक लाख बीस हजार रुपये ले लिए और बाकि के शेष रुपये सलेक्शन पर देना तय हुआ। जिस पर पीडित ने आरोपित को एक लाख बीस हजार रुपये एडवांस के दे दिये तथा बाकि रुपये पेपर देने सलेक्शन के बाद देना तय हुआ। इसके बाद में पीडित को जब आरोपित के बारे मे जानकारी की तो पता चला कि आरोपित राजेन्द्र प्रसाद इसी तरह के बेरोजगार युवकों से नौकरी लगाने का झांसा देकर ठगी की है। जिस पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच पडताल की तो मामला स​ही निकलने पर आरोपित को हिरासत मे लिया और अब पूछताछ की जा रही है।