पायलट और गहलोत में फिर छिड़ी जंग, जल्द होगा बड़ा फैसला

  जयपुर।  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच लंबे समय से चली आ रही अदावत अब एक बार फिर सियासी गलियारों में गूंजने लगी है। लोकसभा चुनाव से पहले दोनों नेताओं ने जनता को संदेश देने के लिए एक साथ सभाएं कि लेकिन यह अपने दिल से अदावत को नहीं निकाल पाए। …

पायलट और गहलोत में फिर छिड़ी जंग, जल्द होगा बड़ा फैसला Read More »

May 12, 2019 11:22 am

 

जयपुर। 
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच लंबे समय से चली आ रही अदावत अब एक बार फिर सियासी गलियारों में गूंजने लगी है। लोकसभा चुनाव से पहले दोनों नेताओं ने जनता को संदेश देने के लिए एक साथ सभाएं कि लेकिन यह अपने दिल से अदावत को नहीं निकाल पाए। नतीजा यह रहा की चुनाव में कांग्रेस को मुंह की खानी पड़ गई है, वहीं दिग्गज नेता भी हाशिए पर जाते दिख रहे हैं।
लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के दोनों दलों की ओर से जमकर राजनीतिक गेम खेला गया है, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जहां सचिन पायलट को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के रूप में आगे रखकर हार का ठीकरा उनके सिर फोड़ने की तैयारी कर ली है वहीं इसमें बड़ा गेम करते हुए सचिन पायलट ने भी अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत  की पैरवी कर अपना दामन बचाने की कोशिश की है।
 जोधपुर सीट से अगर वैभव गहलोत नहीं जीत पाए तो यह नैतिक रूप से अशोक गहलोत की बड़ी हार होगी ऐसे में अशोक गहलोत अपना वर्चस्व बनाए रखने के लिए इस हार की जिम्मेदारी खुद लेंगे और पायलट इससे बच निकलेंगे। हालांकि अब तक मिली रिपोर्टों के अनुसार प्रदेश में कांग्रेस 3 से चार सीटों तक ही सिमट रही है। ऐसे में किसी एक बड़े नेता पर हार की गाज गिरना तय है माना जा रहा है की हार का ठीकरा सचिन पायलट के सर फोड़ने की पूरी तैयारी है और पायलट को डिप्टी सीएम या पार्टी प्रदेश अध्यक्ष में से एक पद छोड़ना ही होगा।
हालांकि गहलोत पहले ही यह चाहते थे कि पायलट संगठन में रहकर काम करें जबकि राहुल गांधी के दबाव में पुणे डिप्टी सीएम बनाना पड़ा अब लोकसभा चुनाव के नतीजे कांग्रेस की राजनीति की दशा और दिशा तय करने वाले हैं इन नतीजों के बाद ही कयास है कि इन दोनों ने बड़े नेताओं के बीच चल रही राजनीतिक रंजिश खुलकर सामने आ सकती है।

Prev Post

भाजपा केन्द्रीय नेतृत्व ने पूर्व मुख्यमंत्री राजे को प्रचार के लिए नही दी जिम्मेदारी

Next Post

दो समुदाय विशेष के बीच हुए झगड़े का मामला बैसला ने कराई सुलह

Related Post

Latest News

राजस्थान के सरकारी स्कूलों में मूल निवास प्रमाण पत्र बनवाने की जिम्मेदारी संस्था प्रधान की
माफी तो मांगी,लेकिन वायरल पन्ना बता रहा है कि सचिन पायलट और प्रभारी अजय माकन निशाने पर थे
PFI का सपोर्ट करने पर पाक सरकार का ट्विटर अकाउंट पर प्रतिबंध

Trending News

कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
राजस्थान के मंत्रियो व कांग्रेस विधायको को चेतावनी
NPS कार्मिक 01 अप्रैल 2022 के पश्चात NPS आहरण की राशि को पुनः 31 दिसंबर 2022 तक एकमुश्त अथवा अधिकतम 4 किस्तों में जमा करानी होगी
चिरंजीवी योजना में सहायता के लिए फोन 01482-232643 पर करे घंटी 2 घंटे में समाधान

Top News

राजस्थान के सरकारी स्कूलों में मूल निवास प्रमाण पत्र बनवाने की जिम्मेदारी संस्था प्रधान की
पूर्व मंत्री और NCP नेता भुजबल का दुबई कनेक्शन का आरोप, FIR दर्ज
नामदेव छीपा समाज के त्रिदिवसीय गरबा महोत्सव झंकार का समापन, महिला मण्डल की कार्यकारिणी का शपथ ग्रहण
माफी तो मांगी,लेकिन वायरल पन्ना बता रहा है कि सचिन पायलट और प्रभारी अजय माकन निशाने पर थे
PFI का सपोर्ट करने पर पाक सरकार का ट्विटर अकाउंट पर प्रतिबंध
कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के बाद अब सलमान खान के डुप्लीकेट संजय की जिम में एक्सरसाइज के दौरान मौत
कोतवाली पुलिस कहिन रिपोर्ट दर्ज होने के बाद बता दिया जाएगा, बुजुर्ग महिला से लूट का प्रयास विफल ,लोगों ने युवक को पकड़ा ,VIDEO
कांग्रेस के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष होंगे खड़गे,8 अक्टूबर को हो सकती घोषणा
भीलवाड़ा शहर में 2 साल बाद 5 अक्टूबर को निकलेगा विशाल पथ संचलन
राजस्थान शिक्षा विभाग- राजस्थान में सरकारी स्कूलों का समय परिवर्तन 15 से बदलेगा